गाँधी की हत्या और बाबरी मस्जिद विध्वंस, आजाद भारत के इतिहास का सबसे बड़ा कलंक है : अरुण शौरी

गाँधी की हत्या और बाबरी मस्जिद विध्वंस, आजाद भारत के इतिहास का सबसे बड़ा कलंक है : अरुण शौरी

Posted by

बाबरी मस्जिद का केस अभी तक अदालत में चल रहा है, मुकद्म्मे का फैसला कब आएगा कोई नहीं जनता है मगर एक बार फिर चरमपंथियों की ओर से चेतावनियां, धमकी आने लगी हैं, यह धमकियाँ अदालती प्रक्रिया को प्रभावित करने का प्रयास हैं, साथ ही मुस्लिम समुदाय को डराने की कोशिश हैं, अदालत को चाहिए कि जो लोग मदिर वहीँ बनाएंगे जैसे नारे देते हैं उनके खिलाफ संज्ञान ले और कारवाही करे|

Arun Shourie‏
@ArunShourieBJP

गाँधी की हत्या और बाबरी मस्जिद विध्वंस, आजाद भारत के इतिहास का सबसे बड़ा कलंक है !!

Prashant Bhushan‏
@pbhushanL
Follow Follow @pbhushanL

6 दिसम्बर का दिन भारतीय इतिहास में काले दिवस के रूप में याद किया जाएगा ! गोडसे के पूजने वाले मनुवादी आतंकियों ने आज ही के दिन बाबरी मस्जिद को तोड़कर बाबा साहेब द्वारा बनाये गए सविंधान की हत्या कर दी थी #BabriMasjid

काकावाणी‏
@AliSohrab007

वाजपेयी, आडवाणी के माफ़िक RSS का आतंकवादी नहीं था….कहने वालों इस वीडियो को एक बार देखो तो सही…..!!

परवेज़ ख़ान
==============

6 दिसंबर देश को कलंकित करने वाला दिन है, इसी दिन 06 दिसंबर 1992 को भारत में चरमपंथी संगठनों के लोगों ने मिल कर ऐतिहासिक बाबरी मस्जिद को अयोध्या में कानून को ठेंगा देखते हुए शहीद कर दिया था| भारत के इतिहास में राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी की हत्या के बाद चरमपथी हिन्दुओं दुवारा की गयी यह अब तक की सबसे बड़ी आतंकवादी कारवाही थी, इस घटना ने देश में अराजकता पैदा की, मुंबई सहित अनेक जगहों पर दंगे हुए जिनमे अनेक निर्दोष लोगों की हत्याएं की गयीं, करोड़ों की सम्पदा को लुटा गया, मगर कितना दुखद पक्ष है कि बाबरी विध्वंस में आज तक किसी भी आरोपी के खिलाफ कोई कारवाही नहीं हुई है, अधिकतर आरोपी सत्ता में रह कर उच्च पदों पर आसीन होते रहे हैं, उन्हें बाबरी विध्वंस करने की सज़ा की जगह इनाम मिले हैं| इस दौरान हुए दंगों में किसी के खिलाफ कारवाही नहीं हुई, जाँच रिपोर्ट कूड़ेदान में खाक चाट रही हैं|

बाबरी मस्जिद का केस अभी तक अदालत में चल रहा है, मुकद्म्मे का फैसला कब आएगा कोई नहीं जनता है मगर एक बार फिर चरमपंथियों की ओर से चेतावनियां, धमकी आने लगी हैं, यह धमकियाँ अदालती प्रक्रिया को प्रभावित करने का प्रयास हैं, साथ ही मुस्लिम समुदाय को डराने की कोशिश हैं, अदालत को चाहिए कि जो लोग मदिर वहीँ बनाएंगे जैसे नारे देते हैं उनके खिलाफ संज्ञान ले और कारवाही करे|

बाबरी मस्जिद विध्वंस एक आतंकवादी कृत था, जो भी आतंकवादी मस्जिद को गिराने में शामिल थे उनको फांसी की सज़ा होना चाहिए, इन लोगों ने देश के संविधान के विरुद्ध काम किया था, बाबरी मस्जिद थी यह लोगों ने अपनी आँखों से देखा है, बारी मस्जिद को गिरते हुए भी लोगों ने आतंकवादियों को अपनी आँखों से देखा है, अपराध करने वाले अगर आज़ाद घूमते रहते हैं तो फिर कानून के होने न होने का क्या मतलब|

बाबरी मस्जिद के स्थान पर कोई भी अन्य इमारत का निर्माण नहीं हो सकता है, वहां मस्जिद थी और मस्जिद ही बनेगी, जो लोग धमकी देते हैं उनको जेलों में डाला जाना चाहिए| ऐसे लोग देश के दुश्मन हैं, यह लोग सांप्रदायिक तनाव पैदा कर के राजनैतिक लाभ उठाना चाहते हैं| मुस्लिम समाज बाबरी के स्थान पर सिर्फ बाबरी मस्जिद ही बनते हुए देखना चाहता है वहां कोई और निर्माण नहीं हो सकता है|