मिर्ज़ापुर : किसान को दो माह से दौड़ने के बाद, 40 हज़ार के क़र्ज़ की जगह योगी सरकार ने माफ़ किया 56 पैसा!

मिर्ज़ापुर : किसान को दो माह से दौड़ने के बाद, 40 हज़ार के क़र्ज़ की जगह योगी सरकार ने माफ़ किया 56 पैसा!

Posted by

मिर्जापुर। सरकार बनने के बाद योगी सरकार ने किसानों के एक लाख रुपए तक के कर्ज को माफ करने का आदेश दिया पर आदेश का पालन सही ढंग से नहीं हो पा रहा है। हाल ये है कि कर्जमाफी की जगह किसानों का मजाक बना दिया जा रहा है। जिन पैसो का चलन बन हो गया है उन पैसो के बराबर ऋण माफी की जा रही है। मिर्जापुर जिले के मझवां ब्लाक निवासी किसान के साथ ऐसा ही हुआ। किसान के 40 हजार के कर्ज के जगह पर मात्र 56 पैसे ऋण माफी की गई। यही नहीं किसान को सर्टिफिकेट भी दिया गया जो लोगों के बीच मजाक का विषय बन गया है।

40 हजार का लिया था केसीसी ऋण
रामापुर के रहने वाले शिवनाथ पटेल का कहना है कि वह इलाहाबाद ग्रामीण बैंक शाखा भैसा से चालीस हजार रुपये केसीसी ऋण लिया है। प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने पर मिर्जापुर में कार्यक्रम आयोजित करके किसानों में ऋण माफी का प्रमाण पत्र वितरीत किया गया था। उसमें उसको भी ऋण माफी प्रमाण पत्र मिला। पर ऋण माफी प्रमाण पत्र पर सिर्फ 56 पैसा ऋण माफ लिखा है।

अधिकारी दो माह से दौड़ा रहे है
शिवनाथ ने उसी समय अधिकारियों से इसकी शिकायत की थी। अधिकारी मिस प्रिंटिग बताकर चुप करा दिए थे। आश्वासन दिए थे कि उसका ऋण माफ हो जायेगा। पर दो माह बीतने के बाद भी न तो उसका ऋण माफ हुआ और न ही दूसरा संसोधित करके ऋण माफी का प्रमाण पत्र दिया गया। बैंक के अधिकारी उसके नाम से बकाये की आरसी काटने की तैयारी कर रहे है। किसान ने मामले से जिलाधिकारी बिमल कुमार दुबे को अवगत कराते हुए कार्रवाई की मांग की है।

बैंक अधिकारी आरसी जारी करने की दे रहे धमकी
मझवां ब्लाक के रामापुर गांव निवासी क्षेत्र पंचायत सदस्य व किसान शिवनाथ पटेल को ऋण माफ करने का बकायदा सर्टिफिकेट जारी किया गया है। उधर कर्ज लिया ऋण जमा नहीं होने पर बैंक अधिकारी किसान को आरसी जारी करने की धमकी दे रहे है। किसान ने प्रशासन से कार्रवाई की मांग की है।