उत्तर प्रदेश : दलितों को ”मैं गाय चोर हूं” की तख्ती टांगकर घुमाया!

उत्तर प्रदेश : दलितों को ”मैं गाय चोर हूं” की तख्ती टांगकर घुमाया!

Posted by

उत्तर प्रदेश के बलिया ज़िले में दो दलित युवकों को गाय चोरी के आरोप में पीटने और सिर मुंडवाकर घुमाने का वीडियो वायरल हुआ है.

पुलिस ने इन दोनों युवकों को गाय चोरी करने के आरोप में गिरफ़्तार कर जेल भेज दिया है जबकि उन्हें पीटने वाली भीड़ में से अभी किसी को गिरफ़्तार नहीं किया गया है.

बलिया पुलिस ने बीबीसी को बताया है कि युवकों के साथ मारपीट करने वाले लोगों के ख़िलाफ़ भी मुक़दमा दर्ज किया गया है.

पुलिस क्षेत्राधिकारी अवधेश कुमार चौधरी ने बीबीसी को बताया कि उमा और सोनू नाम के युवकों ने गाय चोरी करने की बात क़बूल की है और इसलिए उन्हें जेल भेजा गया है.

जबकि युवकों के परिजनों का कहना है कि उन्हें इस मामले में फंसाया गया है.

ये घटना सोमवार सुबह की है जब एक मंदिर परिसर के पास लोगों ने इन युवकों को पकड़ा और गाय चोरी के आरोप में बुरी तरह पीटा.

इनके गले में ‘मैं गाय चोर हूं’ लिखी तख़्ती टांग कर क्षेत्र में घुमाया भी गया था.

इनमें से एक युवक के पिता सुभाष राम ने बीबीसी से कहा, “वो अपनी रिश्देतारी में जा रहे थे. मठ के आदमियों ने उन्हें पकड़ा और पीट दिया. पुलिस ने वहां पहुंचकर दोनों को भीड़ के हाथों से बचाया.”

उन्होंने कहा, “मठ के लोगों ने उनकी जात पूछी और जब उन्हें पता चला कि वो दलित हैं तो फिर बुरी तरह पीटा और उनके पास जो पैसे, मोबाइल और अन्य सामान था वो भी छीन लिया.”

दोनों युवकों के परिजनों का ये भी आरोप है कि उन्हें मामले को आगे न बढ़ाने के लिए धमकाया भी जा रहा है.

सोनू के भाई चंद्रेश ने बीबीसी को बताया, “मेरा भाई चाय की दुकान पर था. वहीं बहुत से बछड़े भी थे. इसी बीच वहां एक महंत आ गए और उन पर बछड़ों को चोरी करने की नीयत से देखने के आरोप लगा दिए.”

चंद्रेश ने कहा, “जब मठ के लोगों को पता चला कि वो दलित हैं तो उन्हें बहुत बुरी तरह पीटा. हमला करने वाले लोगों ने कहा कि तुम दलित हो इसलिए सिर्फ़ पीट रहे हैं, यदि मुसलमान होते तो काट ही देते.”

दोनों युवकों का सिर मुंडवाकर और गले में तख़्ती लटकाकर घुमाने का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो गया है.

चंद्रेश कहते हैं, “हम कमज़ोर हैं इसलिए बदला लेने के लिए कुछ नहीं कर सकते हैं. हमला करने वाले ताक़तवर लोग हैं जिनका संबंध सत्ता से है.”

वहीं राष्ट्रीय अनुसूचित आयोग के अध्यक्ष और भाजपा सांसद रमाशंकर कठेरिया का कहना है कि वो इस मामले का संज्ञान लेकर स्थानीय पुलिस से कार्रवाई करने के लिए कहेंगे.

बीबीसी से बात करते हुए कठेरिया ने कहा, “यदि ऐसा हुआ है तो हम इस मामले का संज्ञान लेंगे और डीएम और पुलिस अधीक्षक से कार्रवाई करने के लिए कहेंगे.”

उन्होंने कहा, “यदि कोई इस मामले में आयोग में लिखित शिकायत देता है तो हम ज़रूरी कार्रवाई करेंगे. हम स्वतः संज्ञान तो ले ही रहे हैं.”

हाल के महीनों में भारत में दलितों के ख़िलाफ़ हमले के कई मामले सामने आए हैं. गुजरात के ऊना में मरे हुए पशुओं की खाल निकाल रहे दलित युवकों की पिटाई का मामला राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खी बना था.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी बयान देकर कहना पड़ा था कि गौरक्षक क़ानून हाथ में न लें.

==========
सैयद तल्हा अली
बीबीसी हिंदी डॉट कॉम के लिए