क्या ‘वसीम रिज़वी’ के चालीसवें में ‘हनुमान चलीसा’ पढ़ा जाएगा : मौलाना कल्बे जवाद!

क्या ‘वसीम रिज़वी’ के चालीसवें में ‘हनुमान चलीसा’ पढ़ा जाएगा : मौलाना कल्बे जवाद!

Posted by

उत्तर प्रदेश शिया वक़्फ़ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिज़वी को उलेमा जमीयतुल हिन्द ने लीगल नोटिस भेजा है, यह नोटिस वसीम रिज़वी को प्रधान मंत्री और मुख्यमंत्री आदित्यनाथ को वसीम रिज़वी को प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री आदित्यनाथ को लिखे गए लैटर के बाद जारी किया गया है| आप को बता दें कि वसीम रिज़वी ने प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को एक खत लिख कर कहा है कि कुछ मदरसों को आतंकवादी संगठनों से आर्थिक मदद मिलती है और इन मदरसों में आतंकवादी तैयार किये जाते हैं| उसने कहा था कि कितने मदरसों ने डाक्टर, इंजीनेर दिए हैं, अब इन मदरसों को ख़तम करने की ज़रूरत है|

वसीम रिज़वी ने लिखा था कि मदरसों को सरकारी शिक्षा बोर्डों से जोड़ा जाये और इनमे नॉन मुस्लिम बच्चों को भी पढ़ने की इजाज़त दी जाये| इस लेटर के बाद वसीम रिज़वी को लीगल नोटिस जारी किया गया है, वहीँ आज जुमा की नमाज़ के बाद मुसलमानों के धर्मगुरु मौलाना कल्बे जवाद ने लख्नऊ में कहाकि वसीम रिज़वी अपना बयान हुकूमत के इशारे पर दिया है अगर मदरसे बंद हो जायेंगे तो क्या निकाह और नामज़े जनाज़ा क्या पंडित पढ़ाएंगे और क्या ऐसे बयान देने वालों के चालीसवें में क्या हनुमान चालीसा पढ़ी जाएगी| मौलाना कल्बे जवाद ने कहाकि ऐसे हालत में जिन्होंने ऐसा बयान दिया है उन्हें दफ़नाने के बजाये जला दिया जाये|

मौलाना कल्बे जवाद ने कहाकि हुकूमत हमेशा बईमानों का साथ देती है, वही अभी भी हो रहा है , यह पुरे मुल्क में फसाद फैला देगा, इसकी ज़िम्मेदारी सरकार की होगी| उन्होंने कहाकि वसीम रिज़वी को बचाया जा रहा है, मौलाना कल्बे जवाद ने कहाकि ज़ुल्म के खिउलाफ आवाज़ उठाने के लिए हम आज भी तैयार हैं और अगर हुकूमत नहीं माने तो प्रदर्शन होने|