देश में बेज़रोगारी चरम पर : चपरासी की पोस्ट के लिए, 129 इंजीनियर, 23 वकील, CA और 13 MA डिग्री वालों ने दिया इंटरव्यू!

देश में बेज़रोगारी चरम पर : चपरासी की पोस्ट के लिए, 129 इंजीनियर, 23 वकील, CA और 13 MA डिग्री वालों ने दिया इंटरव्यू!

Posted by

अपनी चुनावी रैलियों में प्रदानमंत्री UPA की सरकार को हर बात के लिए दोषी ठहराते थे, साथ ही कहते थे कि एक बार प्रधानमंत्री बना दो हर साल दो करोड़ युवाओं को नौकरियां देंगे अब देश के भीतर बेरोजगारी का आलम ये है कि एक चपरासी की पोस्ट के लिए भी वकील, इंजीनियर, सीए और एमए डिग्री वालों को आवेदन करना पड़ रहा है। इंजीनियर और सीए अगर चपरासी की नौकरी के लिए इंटरव्यू दे रहे हैं तो समझ लीजिए कि देश के अंदर बेरोजगारी किस चरम पर पहुँच चुकी है। देश के अंदर का माहौल नेताओं, सरकारों और मीडिया ने हिन्दू, मुस्लिम, भगवा, हरा में इस कदर बांट रखा है कि देश के अंदर बढ़ रही बेरोजगारी की आवाज दब सी गयी है।

राजस्थान सचिवालय में चपरासी के पद पर निकली भर्ती के आवेदन करने वालों का इंटरव्यू चल रहा था तो उम्मीदवारों की शैक्षणिक डिग्री देखकर इंटरव्यू लेने वाले अचम्भे में पड़ गये। चतुर्थ श्रेणी के 18 पदों के लिए इंटरव्यू देने वालों में 129 इंजीनियर्स, 23 वकील, एक चार्टर्ड अकाउंटेंट, 393 कला संकाय में पोस्टग्रेजुएट शामिल थे।

राजस्थान सचिवालय में भर्ती में के लिए कुल 12 हजार 453 लोगों ने इंटरव्यू दिया। लेकिन जिन 18 लोगों का चयन हुआ उसमें से एक बीजेपी विधायक का 30 साल बेटा रामकृष्ण मीणा भी है जो सिर्फ 10वीं तक ही पढ़ा है। इस पद के लिए रामकृष्ण मीणा के चयन से राजनीतिक गलियारों में हंगामा मचा हुआ है। विधानसभा की वेबसाइट में 15 दिसंबर को दी गई जानकारी में रामकृष्ण मीणा का स्थान 12वां है। विपक्ष ने इन नियुक्तियों में गड़बड़ी की आशंका जताई है। राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पायलट ने इस मामले में उच्च स्तरीय जांच की मांग की है।

सचिन पायलट ने कहा कि बीजेपी नेता अपने रिश्तेदारों को सरकारी नौकरियों में जगह दे रहे हैं, जबकि राज्य के बेरोजगार युवक नौकरियों के लिए दर-दर भटक रहे हैं। उन्होंने कहा कि केन्द्र और राज्य की नीतियों की वजह से राजस्थान में नौकरियों का टोटा हो गया है।

राजस्थान सरकार के मुताबिक इस नौकरी के लिए न्यूनतम योग्यता मात्र पांचवीं क्लास पास थी। लेकिन जिन लोगों का इंटरव्यू हुआ उनमें 3600 लोग काफी पढ़े लिखे थे, इनमें से 1533 आर्ट्स ग्रेजुएट थे, 23 साइंस में पीजी की डिग्री लेकर रखे थे, तो 9 लोगों के पास एमबीए की डिग्री थी। इसके अलावा होटल मैनेजमेंट, नर्सिंग पास उम्मीदवारों ने भी इस नौकरी के लिए अप्लाई किया था।