पाखण्डी बलात्कारी बाबा का आशीर्वाद हुआ खुफ़िया कैमरे में कैद : देखें वीडियो

पाखण्डी बलात्कारी बाबा का आशीर्वाद हुआ खुफ़िया कैमरे में कैद : देखें वीडियो

Posted by

पाखण्डी बाबा बलात्कारी का आशीर्वाद हुआ खुफ़िया कैमरे में कैद….इस बाबा की करतूत को देख कर आप हैरत में पढ़ जाएंगे.
——-
Gopal Kant
=========
मेरी समझ मे ये नही आ रहा कि ममता बनर्जी के साथ लंदन गये उन हुनरमंद संपादको ,वरिष्ठ पत्रकारो के चम्मचें चुरा लेने पर इतनी हाय तौबा मचाने की जरूरत क्या है ! और तो और मौका देखकर पडौसी के बरामदे का बल्ब चुरा लेने वाले भी इसे राष्ट्रीय शर्म की बात बता रहे हैं ! कायदे से हमें इन काबिल आदमियो की इज्जत करनी चाहिये ! सलाम करना चाहिये इन बहादुरो को जो लंदन से चाँदी की चम्मच चुरा लाने का हौसला दिखा सके ! इसे इतनी मामूली बात भी मत समझिये ! सात हाथ का कलेजा चाहिये इसके लिये ! इतनी सारी चाक चौबंद व्यवस्था के बावजूद अंग्रेजो के घर मे घुसकर उनकी चाँदी की चम्मचे चुरा लेना बडी बात है ! इसके लिये इस गुणी आदमियों का सार्वजनिक सम्मान किया जाना चाहिये !

और फिर चोरो से अपना सामान वापस लेने मे शर्म करना भी क्यों चाहिये ! ये अग्रेंज दुनिया के सबसे बडे चोर हैं ! ये दो सौ साल तक हमारे यहाँ चोरी करते रहे ! ऐसे मे हमें इन बंदों की ,उनके नेक इरादे की तारीफ ही करना चाहिये जो अपना माल वापस लेने के इरादे से ये हिम्मत दिखा सके !
इस सारे मामले मे एक और बात की तरफ ध्यान दिया जाना जरूरी है ! चम्मचे चुराना हाथ की सफाई है ! आँखो से काजल चुरा लेने की टक्कर की कला है ये ! हमारी अपनी हस्तकला को हम ही प्रोत्साहित नहीं करेंगे तो और कौन करेगा ! इन बंदों ने सात समंदर पार जाकर गोरो को ये बताया है कि उनकी लाख कोशिशो के बाद भी भारतीय लोक कलायें जीवित हैं !

ये भी हो सकता है कि चूंकि ये बहादुर लोग पत्रकार है ! वैसे पत्रकार होते ही आदमी बहादुर और अकलमंद हो ही जाता है ! इसलिये ये तो पक्का है इन्हें चमचो की हैसियत पता होगी ! जानतें होगें ये कि जिंदगी मे चमचो की क्या अहमियत होती है ! चमचो के बिना जीना बेकार ही है ! किसी के पास चार चमचे भी ना हो तो उसे बात करने लायक नही माना जाता हमारे यहाँ ! ऐसे मे चमचे चुरा लेना तो उनकी दानिशमंदी का ही सबूत माना जाना चाहिये !

बंदें है तो हिंदुस्तानी ! हमसे ज्यादा कौन जानता है ! हम बडा आदमी मानते ही उसे है जिसके पास चार छह चमचे हो ! चमचे हों हमारे पास तो हम ज्यादा सुविधा से ,ज्यादा इत्मीनान से खा पी सकते हैं ! चमचे आपकी अपनी उँगलियो को गंदा होने से बचाते हैं ! आप लाख गंदे हों ,चमचे आपको साफ सुथरा दिखने मे मदद करते हैं ! ऐसे मे उन शरीफ आदमियों ने अपने लिये चार चमचे चुरा लिये हों तो किसी के पेट मे दर्द क्यो होना चाहिये !
सो मेरी सलाह तो यही है ! इन होशियार ,बहादुर ,गुणी लोगो की लानत मानत बंद करें ! इज्जत करें उनकी क्योकि उन्होने हमारी इज्जत बढाने का ही काम किया है !

 

***********