भारत का इतिहास पार्ट 31 : पूर्व मध्यकालीन भारत-240 ईपू– 800 ई_गुप्त राजवंश के शासक!

भारत का इतिहास पार्ट 31 : पूर्व मध्यकालीन भारत-240 ईपू– 800 ई_गुप्त राजवंश के शासक!

Posted by

गुप्त राजवंश में जिन शासकों ने शासन किया उनके नाम इस प्रकार है:-
================

-श्रीगुप्त (240-280 ई.),
-घटोत्कच (280-319 ई.),
-चंद्रगुप्त प्रथम (319-335 ई.)
-समुद्रगुप्त (335-375 ई.)
-रामगुप्त (375 ई.)
-चंद्रगुप्त द्वितीय (375-414 ई.)
-कुमारगुप्त प्रथम महेन्द्रादित्य (415-454 ई.)
-स्कन्दगुप्त (455-467 ई.)

श्रीगुप्त
===============

कुषाण साम्राज्य के पतन के समय उत्तरी भारत में जो अव्यवस्था उत्पन्न हो गई थी, उससे लाभ उठाकर बहुत से प्रान्तीय सामन्त राजा स्वतंत्र हो गए थे।
सम्भवतः इसी प्रकार का एक व्यक्ति ‘श्रीगुप्त’ भी था। गुप्त राजवंश की स्थापना महाराजा गुप्त ने लगभग 240 ई. में की थी। उनका वास्तविक नाम श्रीगुप्त था।

उसने मगध के कुछ पूर्व में चीनी यात्री इत्सिंग के अनुसार नालन्दा से प्रायः चालीस योजन पूर्व की तरफ़, अपने राज्य का विस्तार किया था।
अपनी शक्ति को स्थापित कर लेने के कारण उसने ‘महाराज’ की पदवी ग्रहण की।
चीनी बौद्ध यात्रियों के निवास के लिए उसने ‘मृगशिख़ावन’ के समीप एक विहार का निर्माण कराया था, और उसका ख़र्च चलाने के लिए चौबीस गाँव प्रदान किए थे।

गुप्त राजा स्वयं बौद्ध नहीं थे, पर क्योंकि बौद्ध तीर्थ स्थानों का दर्शन करने के लिए बहुत से चीनी इस समय भारत में आने लगे थे। अतः महाराज श्रीगुप्त ने उनके आराम के लिए यह महत्त्वपूर्व दान दिया था।

दो मुद्राएँ ऐसी मिली हैं, जिनमें से एक पर ‘गुतस्य’ और दूसरी पर ‘श्रीगुप्तस्य’ लिखा है। सम्भवतः ये इसी महाराज श्रीगुप्त की हैं।
प्रभावती गुप्त के पूना स्थित ताम्रपत्र अभिलेख में श्री गुप्त का उल्लेख गुप्त वंश के आदिराज के रूप में किया गया है। लेखों में इसका गोत्र ‘धरण’ बताया गया है।

श्री गुप्त ने ‘महाराज’ की उपाधि धारण की। श्रीगुप्त के समय में महाराजा की उपाधि सामन्तों को प्रदान की जाती थी, अतः श्रीगुप्त किसी के अधीन शासक था । प्रसिद्ध इतिहासकार के. पी. जायसवाल के अनुसार श्रीगुप्त भारशिवों के अधीन छोटे से राज्य प्रयाग का शासक था
इत्सिंग के अनुसार श्री गुप्त ने मगध में एक मंदिर का निर्माण करवाया तथा मंदिर के लिए 24 गांव दान में दिए थे।

इसके द्वारा धारण की गई उपाधि ‘महाराज’ सामंतों द्वारा धारण की जाती थी, जिससे यह अनुमान लगाया जाता है कि श्रीगुप्त किसी शासक के अधीन शासन करता था।

घटोत्कच (गुप्त काल)
===============
घटोत्कच (300-319 ई.) गुप्त काल में श्रीगुप्त का पुत्र और उसका उत्तराधिकारी था। लगभग 280 ई. में श्रीगुप्त ने घटोत्कच को अपना उत्तराधिकारी बनाया था। घटोत्कच तत्सामयिक शक साम्राज्य का सेनापति था। उस समय शक जाति ब्राह्मणों से बलपूर्वक क्षत्रिय बनने को आतुर थी। घटोत्कच ने ‘महाराज’ की उपाधि धारण की थी। उसका पुत्र चंद्रगुप्त प्रथम गुप्त वंश का प्रथम महान् सम्राट हुआ था।

शक राजपरिवार तो क्षत्रियत्व हस्तगत हो चला था, किन्तु साधारण राजकर्मी अपनी क्रूरता के माध्यम से क्षत्रियत्व पाने को इस प्रकार लालायित हो उठे थे कि उनके अत्याचारों से ब्राह्मण त्रस्त हो उठे। ब्राह्मणों ने क्षत्रियों की शरण ली, किन्तु वे पहले से ही उनसे रुष्ट थे, जिस कारण ब्राह्मणों की रक्षा न हो सकी।
ठीक इसी जाति-विपणन में पड़कर एक ब्राह्मण की रक्षा हेतु घटोत्कच ने ‘कर्ण’ और ‘सुवर्ण’ नामक दो शक मल्लों को मार गिराया। यह उसका स्पष्ट राजद्रोह था, जिससे शकराज क्रोध से फुँकार उठा और लगा, मानों ब्राह्मण और क्षत्रिय अब इस धरती से उठ जायेंगे।

घटोत्कच गुप्त ने कुमारगुप्त की मृत्यु के बाद अपनी स्वतंत्रता घोषित कर दी थी। कुमारगुप्त के जीवित रहते सभवत: यही घटोत्कच गुप्त मध्य प्रदेश के एरण का प्रांतीय शासक था। उसका क्षेत्र वहाँ से 50 मील उत्तर-पश्चिम में तुंबवन तक फैला हुआ था, जिसकी चर्चा एक गुप्त अभिलेख में हुई है।
‘मधुमती’ नामक एक क्षत्रिय कन्या से घटोत्कच का पाणिग्रहण (विवाह) हुआ था।

लिच्छिवियों ने घटोत्कच को शरण दी, साथ ही उसके पुत्र चंद्रगुप्त प्रथम के साथ अपनी पुत्री कुमारदेवी का विवाह भी कर दिया।

प्रभावती गुप्त के पूना एवं रिद्धपुर ताम्रपत्र अभिलेखों में घटोच्कच को गुप्त वंश का प्रथम राजा बताया गया है। उसका राज्य संभवतः मगध के आसपास तक ही सीमित था।

घटोत्कच गुप्त नामक एक शासक की कुछ मोहरें वैशाली से प्राप्त हुई हैं। सेंट पीटर्सवर्ग के संग्रह में एक ऐसा सिक्का मिला है, जिस पर एक ओर राजा का नाम ‘घटो-गुप्त’ तथा दूसरी ओर ‘विक्रमादित्य’ की उपाधि अंकित है। इन सिक्कों तथा कुछ अन्य आधारों पर वि.प्र. सिन्हा ने वैशाली की मोहरों तथा सिक्के वाले घटोत्कच गुप्त को कुमारगुप्त का एक पुत्र माना है।

कुछ मुद्राएँ ऐसी भी मिली हैं, जिन पर ‘श्रीघटोत्कचगुप्तस्य’ या केवल ‘घट’ लिखा है। विसेंट स्मिथ तथा ब्लाख जैसे कुछ विद्वान् इन मुहरों को घटोत्कच गुप्त की ही मानते हैं। प्रसिद्ध मुद्राशास्त्री एलेन ने इस सिक्के का समय 500 ई. के आसपास निश्चित किया है।
महाराज घटोत्कच ने लगभग 319 ई. तक शासन किया।