मध्यप्रदेश : मंत्री ने महर्षि वाल्मिकी को बताया डाकू, हुआ हंगामा

मध्यप्रदेश : मंत्री ने महर्षि वाल्मिकी को बताया डाकू, हुआ हंगामा

Posted by

देश में 200 साल पुराने एक युद्ध की बरसी पर भड़की हिंसा की आग अभी शांत ही हुई थी कि भाजपा की एक मंत्री के महर्षि वाल्मिकी को डाकू कह देने से विवाद बढ़ गया. हालांकि जल्द ही यह मामला शांत भी हो गया.

घटना मध्यप्रदेश की है, जहां मंदसौर में राज्य की महिला और बाल कल्याण मंत्री अर्चना चिटनिस ने एक कार्यक्रम के दौरान रामायण के रचनाकार महर्षि वाल्मिकी को डाकू कह दिया. उनके द्वारा वाल्मिकी को डाकू कहे जाने से वाल्मिकी समुदाय के लोग भड़क गए और उन्होंने वहां हंगामा खड़ा कर दिया.

ANI

@ANI
Mandsaur: Uproar at Akhil Bhartiya Valmiki Sammelan during MP Minister Archana Chitnis’s speech, protesters alleged she called Valmiki a dacoit (9.1.18) #MadhyaPradesh

8:37 AM – Jan 10, 2018
10 10 Replies 11 11 Retweets 39 39 likes

भाजपा शासित राज्य में मंत्री चिटनिस के भाषण के दौरान ही वहां विरोध-प्रदर्शन और नारेबाजी शुरू हो गई, जिसके बाद उन्होंने खुद माफी मांग कर हंगामे को शांत कराने की कोशिश की.

17h

ANI

@ANI
Mandsaur: Uproar at Akhil Bhartiya Valmiki Sammelan during MP Minister Archana Chitnis’s speech, protesters alleged she called Valmiki a dacoit (9.1.18) #MadhyaPradesh pic.twitter.com/fl2ivy6n4l

ANI

@ANI
I only talked of unity and the greatness of Valmiki ji, maybe in my one hour speech i framed a wrong word or something, for that I humbly accept my fault and regret it: Archana Chitnis,Madhya Pradesh Minister pic.twitter.com/bAgBdj5KlN

8:40 AM – Jan 10, 2018
View image on Twitter
4 4 Replies 9 9 Retweets 37 37 likes

चिटनिस यहां संजय गांधी उद्यान में अखिल भारतीय वाल्मिकी समुदाय के एक अधिवेशन में हिस्सा ले रही थीं. चिटनिस के भाषण के दौरान ही वाल्मिकी समुदाय के लोग उनका विरोध करने लगे और उनकी ओर से वाल्मिकी को डकैत कहे जान को अपमान के तौर पर लिया.
इस भाषण से वाल्मिकी समुदाय के लोग काफी उग्र हो गए और उन्हें बड़ी मुश्किल से शांत कराया जा सका. पूरे प्रकरण पर मंत्री चिटनीस ने सफाई दी और कहा, “मैं तो केवल उस इतिहास को दुरुस्त करने की बात कर रही थी जो ब्रिटिश काल में लिखा गया था. मैं तो वाल्मीकि जी की महानता और एकता के बारे में बता रही थी, लेकिन अगर मेरे एक घंटे के भाषण के दौरान शब्दों से किसी को ठेस पहुंची हो तो इसके लिए माफी मांगती हूं.”