हे भगवान_योगीराज में CM ऑफ़िस, हज हाउस के बाद शौचालय भी हुए ‘भगवा’

हे भगवान_योगीराज में CM ऑफ़िस, हज हाउस के बाद शौचालय भी हुए ‘भगवा’

Posted by

Sagar_parvez a
=============

इटावा : उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार बनने से पहले विकास को लेकर बड़े-बड़े वादे किए गए थे। प्रदेश में पूर्ण बहुमत से भाजपा सरकार आई लेकिन अपने विकास के वादों के अनुरूप ना चल सकी और भगवा, हरे रंगों के फेर में फंस गई। प्रदेश में भाजपा की सरकार आने के बाद सरकारी इमारतों पर भगवा रंग चढ़ाने का काम शुरू हो गया था। प्रदेश में बसें, हज हाउस, सचिवालय से लेकर अब थानों का रंग भगवा कर दिया गया है। भगवा रंग का सिलसिला यहां पर ही समाप्त नहीं हुआ। अब तो शौचालय का रंग भी भगवा करा दिया गया है। अखिलेश यादव के गृहजनपद में तकरीबन 100 शौचालयों का रंग भगवा करवा दिया गया है।

इटावा के मजरा कृपालपुर गांव का मामला
उत्तर प्रदेश में भगवा रंग का सिलसिला अभी जारी है। प्रदेश के इटावा जिला में भगवा रंग से शौचालयों को भी रंग दिया गया है। इटावा जिला के अमृतपुर पंचायत के प्रधान वेदपाल ने अपनी पूरी पंचायत के शौचालय को भगवा करा दिया है। अमृतपुर ग्राम पंचायत के मजरा कृपालपुर गांव में तकरीबन 100 शौचालयों का रंग भगवा करा दिया गया है।

विकास भूलकर रंगों के फेर में फंसी योगी सरकार
इस क्षेत्र के लोगों से जब बात की गई तो उन्होंने बताया कि पिछली सरकारें भी कोई विकास कार्य नहीं करा पाई और अपनी पार्टी के सिम्बल के नाम ,रंग को लेकर ही चलती रही। लेकिन जब प्रदेश में भाजपा सरकार आई है। इस सरकार ने रंगों का खेल शुरू कर दिया है। सरकार विकास कार्य को भूलकर रंगों में उलझ गई। वहीं कृपालपुर के स्थानीय निवासियों का कहना है कि सरकार ने शौचालयों का रंग गेरुआ कर दिया है। गरीब जनता के लिए कुछ भी नहीं किया है। विकास के नाम पर इस गेरुआ रंग का हम क्या करेंगे।

क्या कह रहे पंचायत के मुखिया
ग्राम पंचायत प्रधान वेदपाल का कहना है कि मैंने शौचालयों का रंग भगवा इसलिए करवाया है क्योंकि इसका रंग अन्य रंगों के काफी अलग दिखता है। ग्राम प्रधान के मुताबिक भगवा रंग कराना सरकार हित में है।