11 जनवरी का इतिहास : 11 जनवरी 1966 को भारत के पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री का ताशकंद में निधन हुआ!

11 जनवरी का इतिहास : 11 जनवरी 1966 को भारत के पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री का ताशकंद में निधन हुआ!

Posted by

पहली लाटरी का शुभारम्भ 1569 में इंग्लैण्ड में हुआ।
मुगल साम्राज्य के सम्राट जहांगीर ने ईस्ट इंडिया कंपनी को सूरत में कारखाना लगाने की इजाजत 1613 में दी।
ब्रिटिश राजदूत सर थॉमस रो ने अजमेर में जहांगीर से 1616 में मुलाकात की।
ब्रैडेनबर्ग और फ़्राँस के बीच 1681 में रक्षा गठबंधन हुआ।
स्पेन नरेश जोकिन मुरात ने नेपोलियन बोनापार्ट का साथ 1753 में छोड़ दिया।
1759 में अमेरिका के फिलाडेल्फिया में पहली जीवन बीमा कंपनी की शुरूआत।
चिंग थांग खोंबा मणिपुर के राजा 1779 में बने।
डायबटीज के मरीजों को पहली इंसुलिन 1922 में दी गई थी।
जापान ने मलेशिया की राजधानी कुआलालंपुर पर 1942 में कब्जा किया।
यूनानी गृहयुद्ध में संघर्ष विराम 1945 में हुआ।
भारत के अख़बारी काग़ज़ का उत्पादन 1955 में प्रारम्भ हुआ।
1962 में हिमस्खलन से पेरुवियन एंडेस गाँव में तीन हज़ार मौतें हुई।
बांग्लादेश को 1973 में पूर्वी जर्मनी ने मान्यता प्रदान की।
सुरक्षा परिषद ने खाड़ी युद्धविराम का उल्लघंन करने के लिए 1993 में चेतावनी दी।
सोमालिया में दो वर्ष से चल रहे संयुक्त राष्ट्र शांति सैनिक अभियान 1995 में समाप्त।
जॉर्डन के शाह हुसैन 1996 में अपनी पहली सार्वजनिक यात्रा पर इजरायल के सबसे बड़े शहर तेल अवीव पहुंचे।
लुईस फ़्रेचेट (कनाडा) 1998 में सं.रा. संघ की उपमहासचिव नियुक्त।
भारत और इंडोनेशिया के बीच 2001 में पहली बार रक्षा समझौता।
रिलायंस ने बी.एस.एन.एल. को 2005 में 84 करोड़ रुपये चुकाए।
2009 में हुए 66 वें गोल्डन ग्लोब अवार्ड में स्लमडॉग मिलियनेयर को सर्वश्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार मिला।
सोमालिया के बुलो मारेर में एक फ्रांसिसी बंधक को छुड़ाने के प्रयास में 2013 में फ्रांस के एक सैनिक की मौत। इस दौरान 17 आतंकवादी भी मारे गये।

11 जनवरी को जन्मे व्यक्ति – Born on 11 January
भारतीय राजनीतिज्ञ शिबु सोरेन का जन्म 1944 में हुआ।
बाल मजदूरी के खिलाफ आवाज उठाने वाले नोबल विजेता कैलाश सत्‍यार्थी का जन्‍म 1954 में हुआ।
भारतीय क्रिकेटर राहुल द्रविड़ का जन्म 1973 में हुआ।
भारत के प्रसिद्ध कवियों में से एक श्रीधर पाठक का जन्म 1860 में हुआ।
प्रसिद्ध अमरीकी दार्शनिक तथा मनोवैज्ञानिक विलियम जेम्स का जन्म 1842 में हुआ।

11 जनवरी को हुए निधन – Died on 11 January
जय जवान जय किसान का नारे देने वाले तत्कालीन प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री का 1966 में निधन।
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के नेता अजय घोष का 1962 में निधन।
ध्रुपद-धमार शैली के गायक राम चतुर मल्लिक का 1990 में निधन।
शेरपा तेनज़िंग के साथ माउन्ट एवरेस्ट के प्रथम आरोहनकर्ता और समाजसेवी सर एडमंड हिलेरी का 2008 में निधन।

============
11 जनवरी
आज ही के दिन 1962 में पेरू के उत्तर पश्चिम हिस्से में बर्फीले तूफान और चट्टान खिसकने से कम से कम 2,000 लोगों की मौत हुई.

पेरू की सबसे ऊंची पहाड़ी श्रंखला एंडीस से अचानक लाखों टन बर्फ, चट्टानें, कीचड़ और मलबा नीचे की तरफ गिरने लगे. यह हादसा आधी रात को हुआ था. मलबे के नीचे रानराहिरका ग्राम समेत आठ और शहर दब गए. बर्फ और चट्टान के मलबे के नीचे आने से इन शहरों में भारी बर्बादी हुई. बर्फीले तूफान के कारण राहत और बचाव कार्य में दिक्कतें आई. मलबे में दबे कुछ लोगों को जिंदा बचा लिया गया.
===========

11 जनवरी सन 1325 ईसवी को एज़टेक शासन श्रृंखला के अंतिम शासक ने मेक्सिको नगर की आधारशिला रखी।

एज़टेक, दक्षिणी अमरीका की रेड इंडियन जाति के लोग थे जो 12वीं शताब्दी ईसवी में मेक्सिको आए थे। उनका जीवन कृषि पर आधारित था। १६वीं शताब्दी से इस क्षेत्र में स्पेन का वर्चस्व स्थापित हुआ। मेक्सिको के आधिपत्य को लेकर एज़टेक जाति तथा स्पेन के मध्य संघर्ष आरंभ हुआ जिसमें स्पेन को विजय प्राप्त हुई। इसी बीच स्पेन से आकर लाखों लोग मेक्सिको में बस गये।

==============

11 जनवरी सन 1889 ईसवी को फ्रांस के रसायनशास्त्री मिशल यूजीन शेवरल का निधन हुआ। वे 1786 ईसवी में जन्मे थे। उन्होंने दूध और विभिन्न वनस्पतियों के तैलीय पदार्थ के संबंध में महत्वपूर्ण शोधकार्य किया। उन्होंने एक प्रकार की मोमबत्ती का अवष्कार किया जिसे चूने की मोमबत्ती कहा जाता है।

==============

11 जनवरी 1842 ईसवी को मशहूर अमरीकी विचारक व दार्शनिक विलियम जेम्ज़ का न्यूयॉर्क में जन्म हुआ। उन्होंने आरंभिक व माध्यमिक शिक्षा फ़्रांस में हासिलज की थी। उसके बाद उन्होंने मनोविज्ञान और फिर दर्शनशास्त्र का अध्ययन किया। उन्होंने बड़े अध्ययन के बाद प्रैग्मटिज़्म या व्यवहारवाद का विचार पेश किया। विलियम जेम्ज़ का मानना था कि इंसान की मुक्ति उसके संकल्प पर निर्भर है। उनका मानना था कि दुनिया हर तरह से अच्छी नहीं है लेकिन अगर हम चाहें तो उसे अच्छा बना सकते हैं। दुनिया में एक व्यवस्था नहीं है बल्कि अनेक व्यवस्थाएं है। एक दूसरे की विरोधी प्रक्रियाएं हैं जिनमें कुछ अच्छी तो कुछ बुरी हैं। हमारी ज़िम्मेदारी है कि हम बुराई को दूर करें और अच्छाई को स्थापित करें। उनका यह भी मानना था कि भलाई के लिए लड़ने का अगर परिणाम न भी निकले तब भी इस क़दम से ख़ुशी हासिल होती है। यह बात भी याद रखना चाहिए कि इस प्रकार की जंग में ईश्वर हमारा मददगार है। उन्होंने अनेक मुल्यवान किताबें लिखीं जिसमें प्रैग्मटिज़्म ए न्यू नेम फ़ॉर ओल्ड वेज़ ऑफ़ थिन्किंग बहुत मशहूर है।

विल्यम जेम्ज़ का 26 अगस्त 1910 में 68 साल की उम्र में देहान्त हुआ।

==============

21 दय सन 1335 हिजरी शम्सी को ईरान के विख्यात भूशास्त्री अबुल क़ासिम सहाब का निधन हुआ। वे सन 1266 हिजरी शम्सी में तफ़रिश नगर में जन्मे और इसी नगर में शिक्षा ग्रहण की। अबुल क़ासिम सहाब को अरबी, फ्रांसीसी, अंग्रेज़ी और जर्मन भाषाओं का ज्ञान था। उन्होंने अलग अलग विषयों पर लगभग 70 पुस्तकें लिखी हैं। उन्होंने छह प्रतियों पर आधारित कारपेन्टर की जियोग्रैफ़ी नामक पुस्तक का फ़ारसी भाषा में अनुवाद किया। वर्ष 1315 हिजरी शम्सी में उन्होंने भूगोल संस्था की स्थापना की जो आज भी महत्वपूर्ण संस्था के रूप में पहचानी जाती है। उन्होंने इस संस्था में एक पुस्तकालय बनाया जिसमें भूगोल के विषय पर 34 हज़ार पुस्तकें और 20 हज़ार मानचित्र मौजूद हैं।

==============

21 दय 1390 हिजरी शम्सी को इस्लामी गणतंत्र ईरान के परमाणु वैज्ञानिक मुस्तफ़ा अहमदी रौशन, ज़ायोनी शासन के एजेन्टी के हाथों शहीद हुए।

वह ईरान के शांतिपूर्ण परमाणु कार्यक्रम के संदर्भ में शहीद होने वाले चौथे वैज्ञानिक थे। वह 1358 हिजरी शम्सी को पश्चिमी ईरान के हमेदान शहर के निकट एक गांव में पैदा हुए। स्कूल से शिक्षा हासिल करने के बाद उन्होंने विश्वविद्यालय में केमिकल इंजीनियरिंग की शिक्षा हासिल की थी। वह ईरान के शांतिपूर्ण परमाणु कार्यक्रम के लिए काम करते थे। जिस समय वह अपने दफ़्तर जा रहे थे कि ज़ायोनी शासन के एजेन्ट के हमले का निशाना बने और उनके साथ उनका ड्राइवर रज़ा क़शक़ाई भी शहीद हुआ। उनकी शहादत के कुछ दिन बाद उनका और ईरान के अन्य परमाणु शहीदों के हत्यारों का गुट पकड़ा गया। इस गुट के सदस्यों ने अपनी स्वीकारोक्ति में ज़ायोनी शासन के साथ संपर्क और इस शासन के तत्वों के हाथों ट्रेनिंग हासिल करके ईरान के परमाणु वैज्ञानिकों को शहीद करने की बात कही।

परमाणु वैज्ञानिक मुस्तफ़ा अहमदी रौशन

===============
23 रबीउस्सानी 599 हिजरी क़मरी को दमिशक़ में सीरिया के प्रसिद्ध धर्मगुरु शहाबुद्दीन अब्दुर्रहमान दमिश्क़ी मुक़द्देसी का जन्म हुआ वे अबू शामा के नाम से जाने जाते थे। उन्होंने दमिश्क में आरंभिक शिक्षा प्राप्ति के बाद मिस्र के इसकंदरिया नगर की यात्रा की और इस नगर में हदीस फ़िक़ह उसूल आदि इस्लामी विषयों का ज्ञान अर्जित किया।

उन्हें लेखन से भी बहुत लगाव था उन्होंने बहुत सी पुस्तकें लिखी हैं जिनमें से कुछ अब भी सुरक्षित हैं। ये पुस्तकें साहित्य और इतिहास के विषय में लिखी गयी हैं। इन पुस्तकों में मुक़द्देमह फिन्नहव और शरहे मुखतसर तारीख़े दमिश्क़, आदि की ओर संकेत किया जा सकता है।

कुछ इतिहासकारों का मानना है कि अबू शामा की अधिकांश पुस्तकें आग लगने की एक र्घटना में उनके पुस्तालय के साथ जल गयीं इस प्रकार ज्ञान का एक महत्वपूर्ण खज़ाना नष्ट हो गया।