★★★#ख़ाना_ए_क़ाबा_का_गिलाफ़_★★★

★★★#ख़ाना_ए_क़ाबा_का_गिलाफ़_★★★

Posted by

Sikander Khanjada Khan‎
===============
खाना-ए-काबे के गिलाफ से जुड़ी ऐसी जानकारी जो शायद ही आप को आज तक मालूम हो,

सऊदी प्रेस एजेंसी के मुताबिक, रूस और पूर्व सोवियत गणराज्यों के दो सौ लोग मंगलवार को काबा किसवा देखने के लिए किंग अब्दुल अज़ीज़ कॉम्प्लेक्स का दौरा किया. वह उमराह के लिए किंग सलमान कार्यक्रम के मेहमान तौर पर आए.
मेहमानों ने कार्यक्रम के 11 वें बैच का प्रतिनिधित्व किया और ताजिकिस्तान, किर्गिस्तान, कजाखस्तान, रूस, उजबेकिस्तान, अज़रबैजान और बेलारूस से आए.

यात्रा की शुरुआत में मेहमानों को किसवा को बनाने के चरणों, इसके इतिहास, इसको बनाने में लगने वाली चीज़ें और कैसे किंग अब्दुल अज़ीज़ परिसर की स्थापना की गयी थी. बाद में, उन्होंने किसवा को बनाने के अलग-अलग खंडों का निरीक्षण किया और आखिर में उन्होंने सब के साथ ग्रुप में तस्वीरें लीं.

उन्होंने बताया कि, काबा किसवा को तैयार करने में 700 किलोग्राम रेशम और 120 किलोग्राम सोने और चांदी के धागे का इस्तेमाल किया गया है. इसमें 47 कपड़ों के टुकड़ों का इस्तेमाल किया गया है. हर कपड़े की लंबाई 14 मीटर है और 101 सेंटीमीटर चौड़ा है.

इसके बाद, उन्होंने दो पवित्र मस्जिदों के आर्किटेक्चर प्रदर्शनी का दौरा किया और दुर्लभ वस्तुओं, हस्तलिखित, बेशुमार कीमती प्राचीन वस्तुएं, साथ ही दो पवित्र मस्जिदों की ऐतिहासिक तस्वीरों और मस्जिदों के पुराने और नए गुणों, ज़मज़म और काबे का दरवाज़ा देखा.

मेहमानों ने प्रदर्शनी में लगी सभी चीज़ों की सराहना की और इसके डिजाइन की तारीफ की, जिससे उन्हें दो पवित्र मस्जिदों के इतिहास और वास्तुकला को समझने का मौका मिला.

कजाखस्तान के शम्स-उल-दीन करीम ने उमराह के लिए तीर्थयात्रियों और कई बड़ी परियोजनाओं को मक्का और पवित्र स्थलों के साथ-साथ दो धार्मिक मस्जिदों में किए जाने वाले कई बड़े कार्यक्रमों के लिए किंग सलमान कार्यक्रम की सराहना की.

उज्बेकिस्तान में इमामों और मस्जिदों के निदेशक शेख मोहम्मद बाबर अब्दुलरहमान ने भी तीर्थयात्रियों को राज्य द्वारा प्रदान की गई सेवाओं की सराहना की और कहा कि उन्होंने किंग सलमान कार्यक्रम को विद्वानों के लिए एक मंच माना और इस्लामिक देशों के आसपास की चुनौतियों के मुकाबले मुसलमानों के एकजुट होने का मौका मिला.

अजरबैजान में ग्लोबल इकोनॉमी सोसायटी के सदस्य अरशद करीम ने इस्लामी कारणों और मुस्लिमों को दुनिया भर में पेश करने में राज्य की प्रमुख भूमिका का उल्लेख किया. उन्होंने मक्का में उन्नत परियोजनाओं और पवित्र स्थानों की सराहना भी की, जिन्होंने तीर्थयात्रियों को अपने मक्का हज और उमराह को आसानी से और आराम से करने की इजाज़त दी है.