एनकाउंटर स्पेशलिस्ट संत और बीजेपी नेता मैनेज कर ‘फ़र्ज़ी एनकाउंटर’ करवा रहे हैं : रिपोर्ट/ऑडियो सुनिये

एनकाउंटर स्पेशलिस्ट संत और बीजेपी नेता मैनेज कर ‘फ़र्ज़ी एनकाउंटर’ करवा रहे हैं : रिपोर्ट/ऑडियो सुनिये

Posted by

उत्तर प्रदेश में बाबा महंत योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद से एक साल के अंदर तक़रीबन 1500 एनकाउंटर हुए हैं, कई बार इन एनकाउंटर पर सवाल उठते रहे हैं, बस एक बात जो सच है वह यह कि ‘अधिकतर एनकाउंटर फ़र्ज़ी होते हैं|

उत्तर-प्रदेश में अपराधियों का सफाया करने के लिया योगी सरकार के राज में ताबड़तोड़ एनकाउंटर ही कर रही है वही यूपी एनकाउंटर से जुडी एक ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने से यूपी में एनकाउंटर के नाम पर चल रहे खेल को बेनकाब कर दिया है। झांसी के थाना मऊरानीपुर क्षेत्र में शनिवार को बुंदेलखंड के बाहुबली बदमाश पूर्व ब्लॉक प्रमुख लेखराज और पुलिस के बीच हुई मुठभेड़ के मामले में एक नया मोड़ आ गया और फर्जी मुठभेड़ की पोल 24 घंटे में ही खुल गयी। लेखराज और मऊरानीपुर कोतवाल सुनीत कुमार के बीच हुई वार्ता का ऑडियो वायरल हो गया है। जबकि एक दिन पहले झांसी के पुलिस अधीक्षक विनोद कुमार सिंह ने दावा किया था कि मऊरानीपुर पुलिस और पूर्व ब्लॉक प्रमुख लेखराज यादव और उसके अन्य साथियों के बीच लंबी मुठभेड़ हुई। जिसमें थाना प्रभारी को चोट लग गई और बदमाश मौके से भागने में सफल रहे।

इसी बीच शनिवार देर रात बदमाशों और पुलिस के बीच का वह ऑडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हुआ। कम से कम इस बातचीत से तो यही नजर आता है। इस बातचीत में साफ सुना जा सकता है कि पुलिस अधिकारी हिस्ट्रीशीटर से कह रहा है कि सरेंडर कर दो नहीं तो एनकाउंटर में मार दिए जाओगे। वहीं हिस्ट्रीशीटर पुलिस अधिकारी से मदद करने के लिए कह रहा है। हिस्ट्रीशीटर लेखराज जब पुलिस अधिकारी से कहता है कि मदद करो तो पुलिस अधिकारी उसे BJP के जिलाध्यक्ष संजय दुबे और बबीना के BJP विधायक राजीव सिंह परीक्षा को मैनेज करने की सलाह देता है। हिस्ट्रीशीटर ने बातचीत में जब बताया कि BSP और SP सब पार्टियां सेट हैं तो पुलिस अधिकारी ने कहा कि दौर बदल चुका है और उसके पीछे पूरी STF की टीम लगी हुई है। पुलिस अधिकारी ने तो लेखराज से सीधे-सीधे कह दिया कि ‘अगला नंबर आपका’।

पुलिस अधिकारी यह भी बताता है कि बदमाश की लोकेशन ट्रेस की जा रही है और अगर उसके साथ 20-50 आदमी नहीं हुए तो वह मार दिया जाएगा। अपने पीछे लगी एसटीएफ के बारे में सुन जब हिस्ट्रीशीटर पूछता है कि क्या सब मार दिए जाएंगे तो थाना प्रभारी सुनीत कुमार उसे समझाने के अंदाज में कहते हैं कि समझदार आदमी वह होता है जो समय के हिसाब से खुद को ढाल ले। इस बातचीत में यह बात बहुत खुलकर सामने आई है कि यूपी पुलिस बदमाशों को उनके मूल अधिकारों के मुताबिक ट्रायल का मौका दिए बगैर ही सीधे मौत के घाट उतार दे रही है, जिसे लेकर कई मानवाधिकार संगठनों ने भी आवाज उठाई है। आखिरकार हिस्ट्रीशटर अपने बेटों, नाती-पोतों का हवाला देते हुए जब फिर से मदद करने की बात कहता है तो पुलिस अधिकारी ने अचानक ऐसा खुलासा कर दिया कि सबके होश उड़ जाएं।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि बीते दिनों जब पुलिस लेखराज का एनकाउंटर करने गई थी, तब लेखराज इसलिए बच गया था क्योंकि पुलिस जानबूझकर हथियार लेकर नहीं, बल्कि खाली हाथ ही गई थी।पुलिस अधिकारी हिस्ट्रीशीटर से कहता है कि उसके ऊपर 60 से अधिक मुकदमे हैं और वह एनकाउंटर के लिए सबसे फिट केस है और यूपी पुलिस के हत्थे चढ़े तो दो मिनट में सबको पट-पट मार दिया जाएगा। हां, पुलिस अधिकारी यह सलाह देना नहीं भूलता कि राज्य में किस पार्टी की सरकार है और एनकाउंटर से बचने के लिए बदमाशों को किस पार्टी के लोगों को खुश करना होगा। मामला तूल पकड़ने के बाद एसएसपी ने तत्काल मऊरानीपुर थाना प्रभारी सुनीत कुमार को निलंबित कर दिया है।करीब 8 मिनट 33 सेकंड के इस ऑडियो ने पुलिस महकमे में खलबली मचाकर रख दी है।

ऑडियो में पुलिस अधिकारी बार-बार सिस्टम की बात करता नजर आता है और बदमाश को बताता है कि आपका लोकेशन ट्रेस हो रहा है। एनकाउंटर से पहले हुई इस टेलीफोनिक वार्ता में कोतवाल पार्षद प्रकरण को मिलकर निपटाने का सुझाव देते हुए सुनाई दे रहे हैं। अब पुलिस पर आरोप लग रहा है कि पुलिस ने अपराधियों से सांठगांठ कर ली थी जिस वजह से अपराधी भागने में कामयाब रहे। ऑडियो में पुलिस अधिकारी प्रदेश में चल रहे एनकाउंटर को लेकर कई रहस्य भी खोलता नजर आ रहा है। साथ ही एनकाउंटर के लिए दबाव होने की बात भी कह रहा है। ऑडियो में पूर्व ब्लॉक प्रमुख कोतवाल से अपने खिलाफ चल रहे प्रकरणों में पुलिस कार्रवाई का राज खुलवाता सुनाई दे रहे हैं।

इस मामले में एसएसपी विनोद कुमार सिंह ने जी मीडिया को बताया कि वायरल ऑडियो की जांच की जा रही है और फिलहाल कोतवाल को सस्पेंड कर दिया है। एनकाउंटर के बाद मऊरानीपुर कोतवाल सुनीत कुमार और बुंदेलखंड के बाहुबली लेखराज, जिसके खिलाफ 75 से ज्यादा मुकदमे उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के विभिन्न थानों में दर्ज हैं, दोनों के बीच का ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। एनकाउंटर करने से पहले झांसी पुलिस और बदमाशों के बीच हुई इस तथाकथित बातचीत ने योगी सरकार के सुशासन और कानून-व्यवस्था की पोल खोल दी है। सोशल मीडिया पर वायरल इस ऑडियो में पुलिस अधिकारी ने दावा किया कि अगर झांसी में भाजपा के जिलाध्यक्ष संजय दूबे और बीजेपी बबीना विधायक राजीव सिंह परीक्षा नेताओं को सिस्टम में नहीं लिया तो सब के सब मारे जाओगे।
==========
झांसी: उत्तर प्रदेश में सत्ता के दबाव में पुलिस कैसे फर्जी इनकाउंटर का खेल खेल रही है, उसका एक ऑडियो सबूत सामने आया है. झांसी के मऊरानीपुर के कोतवाल सुनीत कुमार सिंह और समाजवादी पार्टी के पूर्व ब्ल़ॉक प्रमुख लेखराज सिंह यादव की बातचीत का एक ऑडियो वायरल हो रहा है जिसमें सुनीत कुमार सिंह लेखराज को बता रहा है कि उसके ऊपर इनकाउंटर का दवाब है. कोतवाल पूर्व ब्लॉक प्रमुख से कहता है कि अगर वो बचना चाहता है तो बीजेपी विधायक राजीव सिंह पारीछा और बीजेपी के जिलाध्यक्ष से सेटिंग कर ले. ये ऑडियो वायरल होने के बाद डीजीपी ने कोतवाल सुनीत कुमार सिंह को सस्पेंड कर दिया है.

दिलचस्प बात ये है कि दो दिन पहले झांसी के मऊरानीपुर के कोतवाल सुनीत कुमार सिंह ने समाजवादी पार्टी के पूर्व ब्लॉक प्रमुख लेखराज सिंह यादव के घर पर दिखावे के लिए छापेमारी की जिसमें लेखराज के लोगों के साथ मुठभेड़ में कोतवाल साहब जख्मी भी हो गए.

इस ऑडियो में सुना जा सकता है कि कैसे झांसी की मऊरानीपुर कोतवाली के इंचार्ज सुनीत कुमार सिंह झांसी के बंगरा के पूर्व एसपी ब्लॉक प्रमुख लेखराज सिंह से उसके इनकाउंटर करने से पहले बात कर रहे हैं कि उसे मार देंगे. हालांकि ले देकर मामला सुल्टा ले तो खत्म हो जाएगा. खास बात यह है जब पुलिस से लेन देन नहीं हो पाया तो बीते दिन पुलिस ने मुठभेड़ दिखा दी और उसमें इंस्पेक्टर को गोली लगना बताया गया. जबकि इंस्पेक्टर गंभीर रूप से जख्मी नहीं हुए और न ही किसी बड़े अस्पताल में एडमिट हुए.

ऑडियो में इंस्पेक्टर सुनीत सिंह कह रहा है कि वह कई बार जेल जा चुका है उससे बड़ा गुंडा कोई नहीं. बीजेपी के नेताओं को गाली गलौज भी कर रहा है. बता दें कि बीते हफ्ते मऊरानीपुर कोतवाली में बीजेपी के स्थानीय पार्षद ने एसपी के पूर्व ब्लॉक प्रमुख लेखराज सिंह और उसके बेटों पर रंगदारी का मुकदमा दर्ज कराया था. इसी मामले को लेकर इंस्पेक्टर सुनीत कुमार सिंह ने पूर्व ब्लॉक प्रमुख लेखराज सिंह से बारगेनिंग की और यूपी में किस तरह से फर्जी मुठभेड़ की जा रही हैं इसका खुलासा भी कर दिया. ऑडियो में वह बीजेप जिलाध्यक्ष संजय दुबे और बबीना विधायक राजीव सिंह पारीछा का जिक्र भी कर रहा है.

इस मामले में बीजेपी के बबीना विधायक सामने आए हैं कि उन्होंने इस ऑडियो की जांच के बाद सख्त कार्रवाई की बात कही है. फरार चल रहे आरोपी ब्लॉक प्रमुख लेखराज सिंह ने यूट्यूब के जरिए अपना बयान दिया है जिसमें वह कह रहा है कि उसे अपराधी पुलिस ने बनाया पुलिस ने उसपर अकारण 35 मुकदमे लाद दिए. इस लिए उसके मुकदमों की संख्या 60 के पार पहुंच गई.

डीआईजी झांसी रेंज जवाहर ने मऊरानीपुर इंस्पेक्टर वीडियो वायरल होने के मामले में बहुत बड़ी कार्रवाई के संकेत दिए हैं. डीआईजी ने कहा कि उन्हें यह जानकारी सोशल मीडिया के जरिए मिली. बता दें कि बीते रोज पुलिस सूत्रों से खबर मिली थी कि मऊरानीपुर पुलिस और एसपी के पूर्व ब्लॉक प्रमुख बंगरा लेखराज सिंह यादव के बीच मुठभेड़ हो गई.

घंटों बाद दोनों की बातचीत का ऑडियो वायरल हुआ जिसमें कथित पुलिस वाला खुद को बहुत बड़ा गुंडा कह रहा है. एसएसपी झांसी विनोद कुमार सिंह ने इस मामले का संज्ञान लेते हुए इंस्पेक्टर सुनीत सिंह को सस्पेंड कर दिया है. इस ऑडियो के आने के बाद पुलिस हलाकान हैं. झांसी की मऊरानीपुर पुलिस ने कल हुई कथित मुठभेड़ का मामला भी लेखराज सिंह पाल धारा 307 . 148 149 के तहत दर्ज कर लिया है.

=============
#एनकाउंटर प्रदेश की पुलिस, बोली, ‘एनकाउंटर से बचना है तो भाजपा नेता को मैनेज करो’!!यहाँ सुनिए!!

Sagar_parvez
=============
एनकाउंटर स्पेशलिस्ट संत….!

दबंगों से बोला झांसी का दरोगा, ‘एनकाउंटर से बचना है, तो भाजपा नेता को मैनेज करो’

एनकाउंटर स्पेशलिस्ट का रामराज! उत्तर प्रदेश में एक तरफ जहां अपराध पर काबू पाने के लिए ताबड़तोड़ एनकाउंटर हो रहे हैं। वहीं दूसरी ओर झांसी में एक हिस्ट्रीशीटर और पुलिस अधिकारी के बीच की बातचीत खाकी और गुंडों के बीच साठगांठ का पर्दाफाश करती है।

इस ऑडियो में झांसी के मऊरानीपुर थाने का प्रभारी सुनीत कुमार और पूर्व ब्लॉक प्रमुख लेखराज के बीच बातचीत है। बातचीत में साफ सुना जा सकता है कि पुलिस अधिकारी हिस्ट्रीशीटर से कह रहा है कि सरेंडर न करने की सूरत में एनकाउंटर कर दिया जाएगा।

वहीं हिस्ट्रीशीटर पुलिस अधिकारी को धमका कर उसकी औकात दिखाते हुए मदद करने की बात कर रहा है। इस पर पुलिस अधिकारी उसे भाजपा के जिलाध्यक्ष संजय दुबे और बबीना के भाजपा विधायक राजीव सिंह परीक्षा को मैनेज करने की सलाह देता है।

ऑडियो सामने आने के बाद डीजीपी ओपी सिंह के निर्देश पर झांसी के मऊरानीपुर थाना प्रभारी सुनीत कुमार सिंह को निलंबित कर दिया गया है। उसके विरुद्ध विभागीय जांच का ड्रामा भी शुरू कर दिया गया है। मीडिया पर प्रसारित हो रहे आपत्तिजनक वार्ता के आडियो का संज्ञान लेते हुए यह कार्रवाई की गई है।

आडियो में थाना प्रभारी सुनीत कुमार सिंह एवं थाना मऊरानीपुर से वांछित अपराधी लेखराज सिंह यादव के बीच हो रही आपत्तिजनक वार्ता रिकार्ड है। डीजीपी ने इसका संज्ञान लेते हुए एसएसपी झांसी को जांच के निर्देश दिए हैं।

आडियो की जांच में प्रभारी निरीक्षक सुनीत कुमार सिंह प्रथम दृष्ट्या दोषी पाए गए।

इसके बाद डीजीपी ने सुनीत कुमार सिंह को निलंबित करके विभागीय जांच करने के निर्देश दिए।

उत्तर प्रदेश की पुलिस पकड़ पकड़ कर अपराधियों के एनकाउंटर कर रही है, इनकी सच्चाई समय समय पर सामने आती रहती है,

यहाँ सुनिए क्या कहा रहे हैं नेता जी
========