50 रिटायर्ड नौकरशाहों ने कहा ‘आज़ादी के बाद यह देश का सबसे काला दौर है, पीएम मोदी को लिखा खुला ख़त : पढ़ें पूरा ख़त!

Posted by

कठुआ और उन्नाव की घटना पर पूरे देश में आक्रोश है। इस संबंध में देश के पूर्व नौकरशाहों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक खुला खत लिखा है। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद यह देश का सबसे काला दौर है। इस भयानक घटना के लिए उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को जिम्मेदार ठहराया।

इस पत्र को 49 पूर्व नौकरशाहों के एक समूह ने लिखा है। उन्होंने लिखा कि जिम्मेदारी लेकर कार्रवाई करने के बजाय प्रधानमंत्री ने चुप रहना पसंद किया। उन्होंने अपनी चुप्पी तब तोड़ी जब देश और विदेश दोनों जगहों पर लोगों का गुस्सा हद से ज्यादा बढ़ गया और उसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता था। आजादी के बाद के भारत में यह सबसे काला दौर है। एक आठ वर्षीय बच्ची के साथ रेप और निर्मम हत्या से लगता है कि हमारे राजनीतिक दल, सरकार और नेता कितने कमजोर हैं।

पत्र में आगे कहा गया है कि दोनों घटनाएं सामान्य अपराध नहीं हैं। हमें जल्द ही अपने समाज के राजनीतिक और नैतिक ताने-बाने को ठीक करना होगा। यह समय हमारे अस्तित्व के संकट का समय है। इस पत्र में प्रधानमंत्री से कहा गया है कि वो कठुआ और उन्नाव में पीड़ित परिवारों से माफी मांगें और मामलों की फास्ट ट्रैक जांच करवाएं।

अरुणा रॉय सहित 49 नौकरशाहों ने लिखा है खत

49 नौकरशाहों में पुणे के पूर्व पुलिस आयुक्त मीरान बोरवांकर, प्रसार भारती के पूर्व सीईओ जवाहर सरकार, मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर जुलियो रिबेरो, आरटीआई कार्यकर्ता अरुणा रॉय और पूर्व सूचना आयुक्त वजाहत हबीबुल्लाह और अन्य शामिल हैं।

‘पीड़ित परिवारों से माफी मांगे पीएम’ ये देश का सबसे काला दौर है और इससे निपटने में सरकार और राजनीतिक पार्टियों की कोशिश बहुत ही कम और कमज़ोर है। खत में आगे लिखा गया है कि नागरिक सेवाओं से जुड़े हमारे युवा साथी भी लगता है अपनी जिम्मेदारियों को पूरा करने में नाकाम रहे हैं। इस पत्र में प्रधानमंत्री से कहा गया है कि वो कठुआ और उन्नाव में पीड़ित परिवारों से माफी मांगें और मामलों की फास्ट ट्रैक जांच करवाएं।

50 रिटायर्ड नौकरशाहों के इस समूह ने मीडिया को भी यह खुला पत्र साझा किया है पिछले साल संगठित हुए ये 50 रिटायर्ड नौकरशाहों के इस समूह ने मीडिया को भी यह खुला पत्र साझा किया है। इसमें इन्होंने देश में लोकतांत्रिक, धर्मनिरपेक्ष, और उदारवादी मूल्यों के हो रहे पतन की चिंता व्यक्त की गई है। पत्र में प्रधानमंत्री को कहा है, ‘हम आपकी पार्टी के बांटने और घृणा के एजेंडे के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं। हमें जल्द ही अपने सामाजिक और राजनीतिक नैतिकताओं को ठीक करना होगा।

‘यह समय हमारे अस्तित्व के संकट का समय है’ पत्र में रिटायर नौकरशाहों ने प्रधानमंत्री को कहा कि यह दो घटनाएं सामान्य अपराध नहीं हैं, जो कि समय के साथ सही हो जाएंगी। इन घटनाओं ने हमारे सामाजिक ताने-बाने पर गहरा घाव किया है। हमें जल्द ही अपने समाज के राजनीतिक और नैतिक ताने-बाने को ठीक करना होगा। यह समय हमारे अस्तित्व के संकट का समय है।

===========
Amitabha Pande
==============
This is the text of open letter to the Prime Minister that fifty of us-retired civil servants are releasing to the media/public.

Honourable Prime Minister,
We are a group of retired civil servants who came together last year to express our concern at the
decline in the secular, democratic, and liberal values enshrined in our constitution. We did so to join
other voices of protest against the frightening climate of hate, fear and viciousness that the ruling
establishment had insidiously induced. We spoke then as we do now: as citizens who have no
affiliations with any political party nor adherence to any political ideology other than the values
enshrined in our Constitution.
We had hoped that as someone sworn to upholding the Constitution, the Government that you head
and the party to which you belong would wake up to this alarming decline, take the lead in stemming
the rot and reassure everyone, especially the minorities and vulnerable sections of society that they
need not fear for their life and liberty. This hope has been destroyed. Instead, the unspeakable horror of
the Kathua and the Unnao incidents shows that the Government has failed in performing the most basic
of the responsibilities given to it by the people. We, in turn, have failed as a nation which took pride in
its ethical, spiritual and cultural heritage and as a society which treasured its civilisational values of
tolerance, compassion and fellow feeling. By giving sustenance to the brutality of one human being
against another in the name of Hindus we have failed as human beings.
The bestiality and the barbarity involved in the rape and murder of an eight year old child shows the
depths of depravity that we have sunk into. In post-Independence India, this is our darkest hour and we
find the response of our Government, the leaders of our political parties inadequate and feeble. At this
juncture, we see no light at the end of the tunnel and we hang our heads in shame. Our sense of shame
is all the more acute because our younger colleagues who are still in service, especially those working
in the districts and are required by law to care for and protect the weak and the vulnerable, also seem to
have failed in their duty.
Prime Minister, we write to you not just to express our collective sense of shame and not just to give
voice to our anguish or lament and mourn the death of our civilisational values – but to express our
rage. Rage over the agenda of division and hate your party and its innumerable, often untraceable
offshoots that spring up from time to time, have insidiously introduced into the grammar of our politics,
our social and cultural life and even our daily discourse. It is that which provides the social sanction
and legitimacy for the incidents in Kathua and Unnao.
In Kathua in Jammu, it is the culture of majoritarian belligerence and aggression promoted by the
Sangh Parivar which emboldened rabid communal elements to pursue their perverse agenda. They
knew that their behaviour would be endorsed by the politically powerful and those who have made
their careers by polarising Hindus and Muslims across a sectarian divide. In Unnao in UP it is the
reliance on the worst kinds of patriarchal feudal Mafia Dons to capture votes and political power that
gives such persons the freedom to rape and murder and extort as a way of asserting their own personal
power. But even more reprehensible than such abuse of power, it is the response of the State
Government in hounding the victim of rape and her family instead of the alleged perpetrator that shows
how perverted governance practices have become. That the Government of UP finally acted only when
it was compelled to do so by the High Court, shows its hypocrisy and the half-heartedness of its intent.

In both cases, Prime Minister, it is your party which is in power. Given your supremacy within the
party and the centralised control you and your Party President exercise, you more than anyone else
have to be held responsible for this terrifying state of affairs. Instead of owning up and making
reparations however, you had until yesterday chosen to remain silent, breaking your silence only when
public outrage both in India and internationally reached a point when you could no longer ignore it.
And even then, while you have condemned the act and expressed a sense of shame, you have not
condemned the communal pathology behind the act nor shown the resolve to change the social,
political and administrative conditions under which such communal hate is bred. We have had enough
of these belated remonstrations and promises to bring justice when the communal cauldron is forever
kept boiling by forces nested within the Sangh Parivar.
Prime Minister , these two incidents are not just ordinary crimes where, with the passage of time, the
wounds inflicted on our social fabric, on our body politic and the moral fibre of our society will heal
and it will soon be business as usual. This is a moment of existential crisis, a turning point – the way the
Government responds now will determine whether we as a nation and as a republic have the capacity
to overcome the crisis of constitutional values, of governance and the ethical order within which we
function. And to this end we call upon you to do the following:
● Reach out to the families of the victims in Unnao and Kathua and seek their forgiveness on
behalf of all of us.
● Fast-track the prosecution of the perpetrators in the Kathua case and request for a Court
directed SIT in the Unnao case, without further ado
● In the memory of these innocent children and all other victims of hate crime, renew a pledge to
offer special protection to Muslims, to Dalits, to members of other minority communities, to
women and children so that they need not fear for their life and liberty and any threat to these
will be extinguished with the full force of State authority.
● Take steps to remove from Government anyone who has been associated with hate crimes and
hate speeches.
● Call for an All Party Meeting to deliberate on ways in which the phenomenon of hate crime can
be tackled socially, politically and administratively.
It is possible that even this may be too little too late but it will restore some sense of order and give
hope that the free fall into anarchy can be arrested. We live in hope.

———–
यह है कि प्रधानमंत्री के लिए खुले पत्र का पाठ यह है कि अमेरिका-सेवानिवृत्त नागरिक सेवक मीडिया / जनता को रिलीज़ कर रहे हैं.

माननीय प्रधानमंत्री जी,
हम सेवानिवृत्त नागरिक सेवकों का समूह हैं जो पिछले साल एक साथ आए थे जो हमारी चिंता को व्यक्त करने के लिए करते हैं
हमारे संविधान में प्रतिष्ठित धर्मनिरपेक्ष, लोकतंत्रात्मक और उदार मूल्यों में गिरावट. हमने तो शामिल होने के लिए किया
नफरत की भयावह जलवायु के खिलाफ विरोध की दूसरी आवाज, डर और viciousness कि शासन
स्थापना ने प्रेरित किया था. हम तब बात करते हैं जैसा हम करते हैं: ऐसे नागरिकों के रूप में जो नहीं है
किसी भी राजनैतिक दल के साथ किसी भी राजनीतिक विचारधारा के साथ किसी भी राजनीतिक विचारधारा का पालन न करें
हमारे संविधान में प्रतिष्ठित ।
हमें आशा थी कि किसी व्यक्ति ने संविधान को अपहोल्ड करने के लिए शपथ दिलाई थी, सरकार कि आप प्रमुख हैं
और पार्टी जिसके लिए आप इस खतरनाक गिरावट के लिए जाग जाते हैं, stemming में लीड लें
तक और ज़ाहिर हर किसी को, विशेष रूप से समाज के अल्पसंख्यकों और कमजोर वर्गों
उनके जीवन और स्वतंत्रता के लिए डर नहीं है. इस आशा को नष्ट कर दिया गया है. इसके बजाय, का अकथ्य हॉरर
कठुआ और उन्नाव घटनाओं का पता चलता है कि सरकार सबसे बुनियादी प्रदर्शन करने में विफल रही है
लोगों द्वारा दी गई जिम्मेदारियों के बारे में । हम तो एक ऐसे राष्ट्र के रूप में फेल हो गए जो गर्व में लगे थे
इसकी नैतिक, आध्यात्मिक और सांस्कृतिक विरासत और एक समाज के रूप में जो अपने सयता के मूल्यों को संचित करता है
सहिष्णुता, करुणा और साथी भावना । एक आदमी की क्रूरता से जो एक इंसान की क्रूरता को देता है
हिन्दुओं के नाम पर हम मनुष्य के रूप में विफल रहे हैं.
Bestiality और नहीं ने एक आठ साल के बच्चे की हत्या और हत्या में शामिल होने की दिखाता को दिखाता है
दुष्टता की गहराई जिसे हम अंदर घुस चुके हैं । पोस्ट-स्वतंत्रता भारत में, यह हमारा सबसे गहरा घंटा है और हम
हमारी सरकार की प्रतिक्रिया, हमारे राजनीतिक दलों के नेता अपर्याप्त और कमजोर हैं. इस पर
ज़िवन, हम सुरंग के अंत में कोई प्रकाश नहीं देखते हैं और हम अपने सिर को शर्म में लटका देते हैं. शर्म की हमारी भावना
क्या सभी अधिक तीव्र है क्योंकि हमारे युवा साथियों जो अभी भी सेवा में हैं, विशेष रूप से वे काम करते हैं
जिलों में और कमजोर और कमजोर की रक्षा करने के लिए कानून द्वारा की आवश्यकता है, यह भी लग रहा है
उनके कर्तव्य में विफल रहे.
प्रधानमंत्री, हम आप के लिए लिखने के लिए सिर्फ शर्म की भावना को व्यक्त करने के लिए नहीं है और सिर्फ देने के लिए नहीं है
हमारी पीड़ा या विलाप के लिए आवाज और हमारे सयता के मूल्यों की मृत्यु का शोक – लेकिन हमारे लिए व्यक्त करने के लिए
क्रोध. विभाजन के एजेंडा पर क्रोध और अपनी पार्टी से नफरत और इसके अनगिनत, अक्सर untraceable
Offshoots जो समय समय से समय तक है, पास ने हमारी राजनीति के व्याकरण में पेश किया है,
हमारी सामाजिक और सांस्कृतिक जीवन और हमारे दैनिक प्रवचन. यह वही है जो सामाजिक मंजूरी प्रदान करता है
और कठुआ और उन्नाव में घटनाओं के लिए वैधता ।
जम्मू में कठुआ में यह majoritarian belligerence की संस्कृति और आक्रामकता के द्वारा प्रचारित की संस्कृति है
संघ परिवार जिससे पीड़ित सांप्रदायिक तत्वों को अपने विकृत एजेंड़े का अनुसरण करने के लिए पागल हो. वे
पता था कि उनके व्यवहार को राजनैतिक रूप से शक्तिशाली और उन लोगों द्वारा समर्थन किया जाएगा जो उन्होंने किया है
एक सांप्रदायिक विभाजन के पार polarising हिंदुओं और मुसलमानों द्वारा उनका कैरियर. उन्नाव में उन्नाव में यह है
रिलायंस की सबसे खराब प्रकार के पितृ माफिया माफिया के लिए वोट और राजनीतिक शक्ति को कैप्चर करने के लिए
ऐसे लोगों को बलात्कार और हत्या करने के लिए स्वतंत्रता प्रदान करता है और उगाही को अपने निजी रूप का दावा करने का मार्ग देता है
शक्ति. लेकिन सत्ता के ऐसे दुरुपयोग से भी अधिक निन्दनीय है, यह राज्य की प्रतिक्रिया है
सरकार के hounding में बलात्कार के शिकार और उसके परिवार को कथित तौर पर पता चलता है जो दिखाता है
कैसे विकृत शासन व्यवहार बन गया है । कि यूपी की सरकार ने केवल तभी काम किया जब
उच्च न्यायालय द्वारा ऐसा करने पर मजबूर कर दिया गया, इसका पाखंड और उसके इरादों का आधा heartedness दर्शाता है.

दोनों मामलों में प्रधानमंत्री, यह आपकी पार्टी है जो सत्ता में है. अपने वर्चस्व को इस के भीतर दिया
पार्टी और केंद्रीकृत आपको और आपके पार्टी अध्यक्ष का व्यायाम करते हैं, आप किसी और से अधिक हैं
इस भयानक स्थिति के लिए जिम्मेदार होना आवश्यक है. मालिक बनने और बनाने के बजाय
रिसाव भी, कल तक आपने चुप रहने के लिए चुना था, अपनी चुप्पी तोड़ने के लिए केवल जब
भारत में जनता का अपमान और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक बिंदु तक पहुंच गया जब आप इसे अनदेखा नहीं कर सकते.
और फिर भी, जबकि तुमने इस कर्म की निंदा की और उसे शर्म की बात व्यक्त की, तो तुम नहीं हो
इस अधिनियम के पीछे सांप्रदायिक पैथोलॉजी की निंदा की और सामाजिक परिवर्तन को बदलने का संकल्प नहीं दिखाया गया,
राजनैतिक और प्रशासनिक स्थितियों के अंतर्गत ऐसी सांप्रदायिक नफरत होती है. हमारे पास काफी है
इन विलंबित remonstrations और न्याय को न्याय लाने के लिए जब सांप्रदायिक कडाही हमेशा के लिए है
संघ परिवार के भीतर नेस्टेड नेस्टेड रखा गया.
प्रधानमंत्री, ये दो घटनाएं सिर्फ साधारण अपराध नहीं हैं, जहां समय के साथ, समय के साथ,
हमारे सामाजिक कपड़े पर घाव, हमारे शरीर की राजनीति पर और हमारे समाज के नैतिक रेशे को ठीक करेगा
और शीघ्र ही वह व्यापार की तरह व्यापार करेगा । यह अस्तित्व संकट का एक क्षण है, एक मोड़ बिंदु – मार्ग का रास्ता
सरकार का जवाब अब तय होगा कि हम राष्ट्र के रूप में और एक गणराज्य के रूप में क्षमता है
संवैधानिक मूल्यों, शासन और नैतिक आदेश के संकट को पार करने के लिए हम जिसके भीतर हैं
फंक्शन. और हम ही ने तुमको इस (अज़ाब) के ज़रिए से बुलाया
● उन्नाव और कठुआ में पीड़ितों के परिवारों को संपर्क करें और उनकी क्षमा की तलाश करें
हम सभी की ओर से.
● तेज केस में अपराधियों के अभियोग को तेजी से ट्रैक करें और एक न्यायालय के लिए अनुरोध करें
उन्नाव मामले में बैठने के मामले में, और आनाकानी के बिना
● इन मासूम बच्चों की याद में और नफरत अपराध के सभी अन्य शिकार, एक प्रतिज्ञा का नवीनीकृत करें
मुसलमानों के लिए विशेष सुरक्षा, दलितों को, अन्य अल्पसंख्यक समुदायों के सदस्यों के लिए
महिलाओं और बच्चों को इसलिए कि उन्हें अपने जीवन और स्वतंत्रता के लिए कोई खतरा नहीं है और उनके लिए कोई खतरा नहीं है
तो वह (क़यामत) राज्य के बल से बुझ जाएगा
● सरकार से हटाने के लिए कदम लें जो नफरत अपराधों से जुड़े हुए हैं और
भाषणों से नफरत है.
● एक सभी पार्टी की बैठक के लिए एक सभी पार्टी की बैठक जिसमें नफरत अपराध की घटना हो सकती है
सामाजिक, राजनैतिक और प्रशासनिक रूप से ड़ंगों रहें.
यह संभव है कि यह भी बहुत देर हो सकता है लेकिन यह आदेश की कुछ भावना को पुनर्स्थापित करेगा और दे दिया जाएगा
आशा है कि अराजकता में मुक्त गिरावट को गिरफ्तार किया जा सकता है । हम आशा में रहते हैं.
=======
जब तक आप किसी राजनीतिक दल के कार्यकर्ता के रूप में काम करते रहेंगे, आप सरकारों और नेताओं के खिलाफ आवाज उठा ही नही सकते, क्योंकि आवाज उठाने वाले को पार्टी विरोधी का दर्जा दिया जाता है, इस लिए किसी राजनीतिक दल या नेता के भक्त मत बनिये…!!!

kiran patnaik

@kiran_patniak
भाजपा का दावा: बैंकों ने मोदी सरकार में वसूले 4 लाख करोड़!!
आरबीआई ने कहा- केवल 29,343 करोड़ की हुई वसूली!!~
झूठ, झूठ पे झूठ, सैकड़ों झूठ बोलना ही भाजपा की फितरत! मगर मजे की बात की हर झूठ की पोल खुलती जा रही!!

Alka Lamba

Verified account

@LambaAlka
Zee न्यूज़ का कहना है कि वह कोर्ट के फ़ैसले से पहले ही आज देश के सामने कठुआ की सच्चाई ला कर रख देगें, की मंदिर में किसी का बलात्कार हुआ ही नहीं,केवल हत्या हुई है।

लगता है कि अदालतों की जगह कुछ चैनलों ने और जजों की जगह कुछ टीवी एंकर्स ने ले ली है,अब फ़ैसले अदालतों के बाहर होंगें?

Priti Gandhi

Verified account

@MrsGandhi
ये आप ही हैं न @sanjaynirupam जी, जो टी.वी. पर चीख चीख कर @smritiirani जी को “ठुमके लगाने वाली” कह रहे हैं?? और आज दूसरों को औरतों की इज़्ज़त का वास्ता दे रहे हैं?? किस मुँह से?

Sanjay Nirupam

Verified account

@sanjaynirupam
ये देखिए #BJP के बलात्कारियों और बलात्कारियों के समर्थक #BJP नेताओं पर चुप्पी साधनेवाली एक महान महिला बड़े दिनों बाद पुराना राग अलापने निकलीं है। लगता है #बहुरानी ने नया इंस्टालमेंट भिजवाया है। पूरे देश में गूँज रहा है, #BJP से बेटी बचाओ। सुनाई पड़ा कि नहीं ?