ये टोटल पाखंडी हैं, कांवरिये स्टेट स्पॉन्सर्ड हैं!

ये टोटल पाखंडी हैं, कांवरिये स्टेट स्पॉन्सर्ड हैं!

Posted by

Mamta Joshi
============
कांवरिये हैं स्टेट स्पॉन्सर्ड ।
इस बार भगवा झंडों के साथ तिरंगा भी लिये हैं । कुछ कांवरिये तो भगवा ध्वज लिये ही नहीं, तिरंगा लिये नाचते जा रहे हैं । ये ट्रकों में और मोटरसाइकिलों में सवार हैं । हरियाणवी गानों पर हुड्दंग चल रहा है । आप तो जानते ही हैं पिछले कुछ सालों में बेरोज़गारी कितनी बढ़ी है । यात्रा में खाना रहना दे कर ट्रकों में भर के नौजवानों को भोले के नाम की अफीम खिला कर कुछ भी करवा लो । सड़कों पर चलना मुहाल है ।

राम के बाद अब मूल निवासी आदिवासी प्यारे भोले को भी ये कहीं का न छोड़ेंगे । यहां कुछ लिक्खाड़ उनके लिंग के पीछे पड़े हैं वहां बहुमत की हिंदू सरकार इन्हें मवालियों को सौंप चुकी है । दोनों ही अपना अपना उल्लू सीधा कर रहे हैं । दोनों को ही #शिव के प्राकृतिक आध्यात्मिक अस्तित्व और स्वरूप से कुछ लेना देना नहीं है । सोचिये कितना खुला और आधुनिक समाज रहा होगा जो जनन अंगों की उपासना करता होगा । #प्रेम किस कदर केंद्र में रहा होगा इसकी कल्पना भी असंभव है । आज का समाज कितना पाखंडी, कितना दकियानूसी है कि पूजा तो प्रेम के प्रतीकों की करता है मगर प्रेमियों की जान ले लेता है । सेक्स जो सृष्टि का आधार है उसी पर लोहे की इतनी सांकले लगाए है । हिंदुओं को तो कोई हक ही नहीं कृष्ण और शिव की आराधना का । ये टोटल पाखंडी हैं ।
उफ़्फ़ फिर गुज़रे कांवरिये हल्ला मचाते हरयाणवी कान फाडू गाने बजाते ।
अरे शिवजी आपकी तो बजा दी इन्होंने । सबसे ऊंचे पर्वत और सबसे गहरी कंदरा में जा छिपो वरना आज आपका बचना सम्भव नहीं लगता ।

भोले भोले
पिताजी जय शंकर की … ..

नोट : लेखिका के निजी विचार हैं, तीसरी जंग का कोई सरोकार नहीं है|

======