कर्ज में डूबी अनिल अम्बानी की कंपनी को राफेल का ठेका मोदी के कारण मिला : कांग्रेस

कर्ज में डूबी अनिल अम्बानी की कंपनी को राफेल का ठेका मोदी के कारण मिला : कांग्रेस

Posted by

भारत की कांग्रेस पार्टी ने आरोप लगाया है कि कर्ज में डूबे उद्योगपति अनिल अम्बानी की कंपनी को राफेल लड़ाकू विमानों से संबंधित ठेका सरकार के दबाव के कारण मिला है।

कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने शुक्रवार को पार्टी की नियमित प्रेस ब्रीफिंग में कहा कि अगर सरकार का दबाव न होता तो राफेल सौदा तय होने से महज 12 दिन पहले गठित अनिल अम्बानी की अनुभवहीन कंपनी को यह ठेका नहीं मिलता।

उन्होंने मीडिया में आयी ताजा खबरों का हवाला दिया और कहा कि इन खबरों से इस सौदे के दबाव में होने की पुष्टि होती है।

खबरों में कहा गया है कि राफेल सौदे पर हस्ताक्षर होने से दो दिन पहले अनिल अम्बानी की कंपनी रिलायंस एंटरटेनमेंट ने फ्रांस के तत्कालीन राष्ट्रपति फ्रांसआ ओलांद की सहयोगी जुली गायेट की फिल्म निर्माण कंपनी के साथ समझौता किया था।

प्रवक्ता ने इस संबंध में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल किया और कहा कि उन्हें बताना चाहिए जिस उद्योगपति की कंपनी को ठेका दिया गया वह उनके साथ फ्रांस के दौरे पर जाते हैं परंतु रक्षा मंत्री इस दौरान उनके साथ नहीं होते हैं।

इससे पहले रक्षा खरीद संबंधी आवश्यक प्रकियाएं भी पूरी नहीं की जाती हैं। उन्हें यह भी बताना चाहिए कि सरकारी क्षेत्र की कंपनी एचएएल से छीनकर यह ठेका एक निजी कंपनी को किस आधार पर दिया गया जबकि कंपनी का मालिक पहले से ही 45 हजार करोड़ रुपए के कर्ज में डूबा है।