हम सबका अंजाम

हम सबका अंजाम

Posted by

Syed Faizan Siddiqui
==============·
आपने भी नही पहचाना होगा शायद, आसिफा के साथ हुए ज़ुल्म की दास्तान को कठुआ से निकाल कर पूरी दुनिया तक पहुचाने वाले और उसके इंसाफ की लड़ाई लड़ने वाले एडवोकेट तालिब हुसैन बक्करवाल, तालिब एक झूठे मामले में फंसा कर जेल भेज दिए गए हैं दो बार जेल में उनकी जान लेने की कोशिश हुई है और उसे आत्महत्या की कोशिश बताया गया ज़ुल्मतों के इस दौर में जो भी आवाज़ उठाएगा शायद उसका अंजाम यही होगा, जो तालिब के साथ हुआ है लेकिन दूसरी तरफ की खामोशी समझ से बाहर है, वो लोग जो इंसाफ और हक़ की बात करते है वो तालिब के इंसाफ के लिए उसकी लड़ाई में क्यों ख़ामोश हैं ये समझ से बाहर है शायद हम सबका भी यही अंजाम होने वाला है, जब किसी को कुछ होगा तो ज़ालिम के खिलाफ आवाज़ उठाने के बजाए हम जो लोग लड़ रहे है उनको ही दोषी ठहरा देंगे कि जब सब चुप थे तो क्या ज़रूरत इनको बोलने की । बहरहाल 16 को तालिब की ज़मानत पर सुनवाई है और 15 अक्टूबर को तालिब का परिवार नजीब के अपहरण के दो साल पूरे होने पर दिल्ली में उनकी माँ Fatima Nafis के साथ नजीब के इंसाफ की आवाज़ को बुलन्द करने दिल्ली की सड़कों पे होगा । तालिब हुसैन बक्करवाल हम सबके हीरो हैं ।

ज़िंदाबाद तालिब भाई के होंसले को ।

Nadeem Khan