यूपी ATS ने सहारनपुर से जम्मू-कश्मीर के रहने वाले जैश के दो ‘आतंकवादियों’ को गिरफ़्तार किया : वीडियो

यूपी ATS ने सहारनपुर से जम्मू-कश्मीर के रहने वाले जैश के दो ‘आतंकवादियों’ को गिरफ़्तार किया : वीडियो

Posted by

सहारनपुर।यूपी एटीएस ने सहारनपुर जिले से जैश से दो लोगों को गिरफ्तार किया हैं। इनमें एक कथित दहशतगर्द शाहनवाज अहमद तेली और आकिब मलिक को गिरफ्तार किया है। ये दोनों जम्मू-कश्मीर के रहने वाले हैं। दोनों के पास से एक- एक पिस्टल और कुछ कारतूस भी बरामद किए गए है। वहीं दोनों के मोबाइल फोन से जिहादी चैट, वीडियो और कुछ फोटो प्राप्त हुए हैं। फिलहाल टीम मोबाइल के चैट बॉक्स और वीडियो को खंगाल रही है।

वहीं पुलिस और एटीएस ने शुक्रवार दोपहर दोनों आतंकियों को सहारनपुर में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया। इसके बाद दो दिन का ट्रांजिट रिमांड मंजूर होने पर एटीएस दोनों को अपने साथ लखनऊ ले गई।

लखनऊ में डीजीपी ने प्रेस कॉन्प्रेंस में बताया कि कल मिली जानकारी के आधार पर दो संदिग्ध आतंकियों को सहारनपुर से गिरफ्तार किया गया। दोनों जैश-ए-मोहम्मद आतंकी संगठन से जुड़े हुए हैं और यह दोनों कश्मीर के रहने वाले हैं। शहनवाज, कुलगम का और आकिब पुलवामा का निवासी है।

इनके पास से हथियार और कारतूस बरामद हुए हैं। दोनों 30 से 32 साल के हैं। इसमें शाहनवाज ग्रेनेड बनान का एक्सपर्ट बताया गया। डीजीपी ने कहा कि हम इसकी जांच कर रहे हैं कि यह दोनों कश्मीर से कब आए, इनको पैसे कहां से मिले और इनका लक्ष्य क्या था। इसके लिए हम जम्मू कश्मीर की पुलिस से बात कर रहे हैं।

दोनों आतंकी जैश-ए-मोहम्मद के इशारे पर आतंकियों की भर्ती कराते थे। शाहनवाज लंबे समय से देवबंद में बिना एडमिशन के पढ़ाई कर रहा था। लेकिन इसका नाम मदरसे के आधिकारिक रिकॉर्ड में दर्ज नहीं है।

पश्चिमी यूपी में एटीएस का बड़ा ऑपरेशन जारी है। इलेक्ट्रानिक सर्विलांस के जरिए इन पर नजर रखी गई। इसके बाद इनपर शिकंजा कसा गया। एटीएस की टीम ने गुरुवार देर रात देवबंद के मोहल्ला खानकाह के निकट नाज मंजिल में छापेमारी की। यहां से दुकानदार समेत दो कश्मीरी छात्र और पांच ओडिशा के छात्रों को हिरासत में लिया था। लेकिन पूछताछ के बाद उन्हें छोड़ दिया गया है।


आरोपी शाहनवाज की निशानदेही पर देवबंद सहारनपुर, मुजफ्फरनगर और मेरठ समेत कई जनपदों में एटीएस ने छापेमारी शुरू कर दी है। कई संदिग्धों को भी हिरासत में लिया गया है। हालांकि पूछताछ के बाद सभी को छोड़ दिया गया।

डीजीपी ने बताया कि हम पता लगा रहे हैं कि इनकी टेरर फंडिंग के पीछे कौन हैं? आकिब अहमद मलिक को देवबंद में बिना एडमीशन के मलिक पढ़ाई कर रहा था। डीजीपी ने यह भी बताया कि दोनों से पूछताछ हो रही है। कुछ और अहम जानकारियां हमे मिलेगी तो उसे मीडिया से सांझा करेंगे। उन्होंने कहा कि पुलवामा हमले से इनका लिंक है या नही यह कहना अभी मुश्किल है। हम पूछताछ के बाद ही ये क्लियर कर पाएंगे।

आतंकी ने यहां से आधार कार्ड भी बनवा लिया था, इसमें उसका नाम नवाज अहमद तेली था। वहीं, उसके साथ में पढ़ने वाले छात्र ने बताया कि उन्हें नहीं पता कि वो ऐसी गतिविधियों में शामिल रहा है।