#Assam : ज़हरीली शराब पीने से 70 से ज़्यादा लोगों की मौत : पुलवामा जैसा शोक मनायें

#Assam : ज़हरीली शराब पीने से 70 से ज़्यादा लोगों की मौत : पुलवामा जैसा शोक मनायें

Posted by

असम में ज़हरीली शराब पीने से मरने वालों की संख्या 70 के पार पहुंच गई है.

ये सभी गोलाघाट और जोरहाट ज़िले के चाय बागानों में काम करते थे. मृतकों में कई महिलाएं भी शामिल हैं.

गोलाघाट ज़िले के पुलिस अधीक्षक पुष्कर सिंह ने बीबीसी को बताया कि ज़िले के 58 लोगों की मौत ज़हरीली शराब पीने से हुई है.

इनमें से 35 की मौत गोलाघाट अस्पताल में हुई हैं और 23 की जोरहाट मेडिकल कॉलेज में.

एक दूसरी सूचना के मुताबिक़ जोरहाट ज़िले में भी ज़हरीली शराब से 12 लोग मारे गए हैं.

एसपी पुष्कर सिंह ने बताया कि फिलहाल दर्जनों लोगों का इलाज सरकारी अस्पतालों में चल रहा है.

बागान से लौटने के बाद पी थी शराब
गोलाघाट अस्पताल में इलाज करा रहे 35 साल के बीरेन घटवार ने बीबीसी को बताया कि गुरुवार को चाय बागान से लौटने के बाद उन्होंने शराब पी थी.

उन्होंने बताया, “मैंने आधा लीटर शराब खरीदी थी और खाना खाने से पहले इसे पिया था. शुरू में सब कुछ सामान्य था लेकिन कुछ देर बाद सिर में तेज़ दर्द होने लगा.”

वो कहते हैं “सिरदर्द इतना बढ़ गया कि मैं न खाना खा पाया और न ही सो पाया.”

बीरने सुबह तक बेचैन होने लगे और उनकी छाती में भी तेज़ दर्द उठने लगा. इसके बाद उनकी पत्नी उन्हें चाय बागान के अस्पताल ले गईं.

यहां शुरुआती इलाज के बाद स्थिति नहीं संभलने पर बीरेन को ज़िला अस्पताल रेफर कर दिया गया.

‘शराब पीना परंपरा का हिस्सा है’

असम में चाय बागान के काम करने वाले मजदूर अक्सर अपनी थकान मिटाने के लिए काम से लौट कर शाम के वक़्त शराब पीते हैं.

जिस शराब के पीने से इतनी संख्या में लोगों की मौत हुई है, वो स्थानीय लोगों के द्वारा ही बनाई गई थी.

जानकार बताते हैं कि ये शराब, वहां मिलने वाली देसी शराब से सस्ती और ज़्यादा नशीली होती है. पांच लीटर शराब के लिए उन्हें महज 300 से 400 रुपए चुकाने होते हैं

एसपी पुष्कर सिंह ने बताया कि इसे बनाने में मिथाइल और यूरिया का इस्तेमाल किया जाता है.

वो कहते हैं कि इन रासायनों का इस्तेमाल ज़्यादा कर देने से कभी-कभी शराब ज़हरीली बन जाती है

राज्य में निजी स्तर पर बनाया गया शराब बेचना ग़ैर-कानूनी है. आबकारी विभाग के मंत्री परिमल शुक्ल वेद ने बीबीसी से कहा कि इन मौतों की जांच के लिए सीनियर आईएएस अफसर की अगुवाई में एक टीम बनाई गई है.

मंत्री ने कहा, “निजी स्तर पर बनाई गई शराब पर रोक लगाने के लिए कानून कड़े किए गए हैं. सज़ा के प्रवाधान भी कड़े किए गए हैं. कइयों को गिरफ़्तार किया गया है. हालांकि ये यहं का पुराना रिवाज है, जिसे तुरंत बदला नहीं जा सकता है.”

इस मामले में एक अधिकारी सस्पेंड किए गए हैं.

ज़हरीली शराब से मौत का यह पहला मामला नहीं है. इससे पहले पिछले साल भी ज़हरीली शराब पीने से यहां सात लोगों की जान गई थीं.

ANI

Verified account

@ANI

#Assam : Death toll due to consumption of spurious liquor in Assam’s Golaghat & Jorhat districts has gone up to 69; DSP Golaghat (Pic 4) says, “Excise department has started an investigation.”; Visuals from Golaghat

ANI

Verified account

@ANI

Assam Excise Department: Official death toll due to consumption of spurious liquor in Golaghat & Jorhat districts has gone up to 69

========
दिलीप कुमार शर्मा
असम से, बीबीसी हिंदी के लिए