अच्छा कोलस्ट्रोल दिल का दरवान होता है

अच्छा कोलस्ट्रोल दिल का दरवान होता है

Posted by

कोलोस्ट्रोल रक्त के मार्फत प्रोटीन से जुड़ा होता है । इसीलिए इस संयोजन को लिपो प्रोटीन कहते हैं । यह दो तरह का होता है –

1) LDL ( low density lipo protein ).
2) HDL ( High density lipo protein )

LDLधमनियों की दीवार में बनता है । इसकी वजह से धमनियों की दीवारें संकीर्ण हो जातीं हैं । HDL यकृत बनाता है । इसे अच्छा कोलोस्ट्रोल भी कहा जाता है । LDL को बुरा कोलोस्ट्रोल कहा जाता है । अच्छा कोलोस्ट्रोल अक्सर बुरे कोलोस्ट्रोल पर नियंत्रण रखता है । वह बुरे कोलोस्ट्रोल की अतिरिक्त मात्रा को यकृत में भेजता रहता है , जहां से वह अवक्षेपित हो शरीर से बाहर निकल जाता है । बुरे कोलोस्ट्रोल पर नियंत्रण रखने के लिए घी तेल का सेवन कम से कम करना चाहिए । धूम्रपान और शराब से हमेशा के लिए तोबा कर लेना चाहिए । इसे एक उदाहरण से समझना बेहतर होगा । जब सौ नोट होंगे तभी तक रबर बैंड उसे सम्भाल सकता है । जब सौ से ज्यादा नोट हुए तो रबर बैंड की इलास्टिसिटी प्रभावित होने लगेगी । नोटों की संख्या और बढ़ी तो रबर बैंड टूट जाएगा । इसी तरह से बुरे कोलोस्ट्रोल की मात्रा ज्यादा होने पर एक दिन धमनियों का लचीलापन भी जवाब दे देगा और हम दिल के दौरे के शिकार हो जाएंगे ।

यहां हम अच्छे कोलोस्ट्रोल की बात करेंगे । अच्छे कोलोस्ट्रोल का स्तर 40 और 60 के बीच होना चाहिए ।अच्छे कोलोस्ट्रोल की मात्रा मछली के तेल में सर्वाधिक होती है । सोयाबीन और पत्तेदार सब्जियों में भी अच्छे कोलोस्ट्रोल को बढ़ाने की क्षमता होती है । रोजाना 30 मिनट का वाॅक और एक मुट्ठी सूखे मेवे के सेवन से इसकी अच्छी खासी बढ़ोतरी होती है । सीढ़ियों के चढ़ते चढ़ते भी हम अच्छे कोलोस्ट्रोल के वांछित स्तर को पा सकते हैं । रेड वाइन भी अच्छे कोलोस्ट्रोल को बढ़ावा देता है , लेकिन इसे रोजाना मात्र एक गिलास हीं लें तभी यह उपयोगी होगा । एक गिलास से ज्यादा लेने पर यह नुकसान भी कर सकता है । अच्छे कोलोस्ट्रोल की अधिकता भी बुरी होती है । अति सर्वत्र वर्जयेत् । धूम्रपान अच्छे कोलोस्ट्रोल को घटाता है और बुरे कोलोस्ट्रोल को बढ़ाता है । इसलिए इसमें धूम्रपान त्याज्य है ।

चीनी का अत्यधिक सेवन मोटापा लाता है । मोटे लोगों में अच्छे कोलोस्ट्रोल की अक्सर कमी होती है । अतः जो मोटापे पर विजय प्राप्त कर लेते हैं तो उन्हें अच्छे कोलोस्ट्रोल का खजाना मिल जाता है । इसलिए आपको चीनी छोड़नी पड़ेगी । फल की मात्रा बढ़ानी होगी । फलों में बिटामिन बी से युक्त फल ज्यादा लेने होंगे । इसके अतिरिक्त आप विटामिन बी -12 या विटामिन बी काम्पलेक्स की एक टेबलेट या कैप्सूल रोजाना भी ले सकते हैं । बिटामिन बी अच्छे कोलोस्ट्रोल का वाहक जरूर है , पर इसकी ज्यादा मात्रा यकृत को खराब भी कर सकती है । इसलिए दवा के रुप में विटामिन बी लेने से पहले चिकित्सकीय परामर्श आवश्यक है । वैसे यह निर्विवाद सत्य है कि अच्छे कोलोस्ट्रोल की तयशुदा मात्रा दिल को बहुत माफिक आती है । एक शे’र को तोड़ मरोड़ कर आपके समक्ष प्रस्तुत करने की धृष्टता कर रहा हूँ –

अब मैं समझा एच डी एल का मतलब ,
दिल की सेहत पर दरवान बिठा रखा है ।