कोई सुतली बम रख कर आतंकवादी बना दिया गया और कोई 50 को मारकर भी सिर्फ़ मुजरिम है!

कोई सुतली बम रख कर आतंकवादी बना दिया गया और कोई 50 को मारकर भी सिर्फ़ मुजरिम है!

Posted by

भारत ने अपनी समस्याओं को पहचान लिया है, सारी समस्याओं का एक ही नाम है, नेहरू, भारत में ऐसी कोई समस्या नहीं है जिसकी जड़ में नेहरू नहीं हैं, अगर नेहरू नहीं हैं तो वह समस्या नहीं हैं, दुनिया के पहले ऐसे नेता हैं जिन्होंने अकेले दम पर इतनी समस्याएं पैदा करी हैं, ट्रैफिक सिग्नल पर गाय दिख जाए आप को कहना चाहिए कि नेहरू दोषी हैं, हार्वर्ड वालों को रिसर्च में हार्डवर्क करना चाहिए कि क्या कोई ऐसी समस्या है, जिसके लिए नेहरू निर्दोष हैं, दोषी नहीं हैं, जो कोई भी ऐसी समस्या खोज कर लाएगा जिसके लिए नेहरू ज़िम्मेदार नहीं हैं तो मैं उसे अपने खर्चे से नारियल दूंगा जिसका नाम होगा नेहरू नारियल. NDTV

Joher Siddiqui
==============
आज पूरा देश 2 टुकड़ों में बंट गया है, एक वो जो इंसानियत के मारे जाने पर रो रहे हैं, और दूसरे वो जो खुश हो कर इंसानियत के मारे जाने पर हर्ष ज़ाहिर कर रहे हैं।

मैं समझ नहीं पा रहा हूँ, ये दूसरे तरह के लोग किस तरह की सोच रखते हैं? दूर देश मे 48 मुसलमानों को सारे आम मार दिया गया है और ये धर्मनिरपेक्षता का चोला ओढ़ कर खुशियाँ मना रहे हैं? इनकी ये कैसी संविधान में भक्ति है? और बिना संविधान में आस्था रखते हुए ये खुद को देशभक्त कैसे कह लेते हैं?

जो भी, आज न्यू जीलैंड में हुए आतंकी हमले पर ख़ुशी ज़ाहिर कर रहा है, उनसभी मे एक बात कॉमन है, वो मोदी भक्त है, किसी की डीपी पर मोदी की तस्वीर है, तो किसी ने राम नाम लिख रखा है, कोई अपने वाल पर मोदी की भक्ति कर रहा है, कोई राम मंदिर बस बनवाने ही वाला है।

मुझे कोई ये समझा दे, आज भारत से दूर हुए आतंकी घटना पर ये फर्जी देशभक्त जो खुद को सीन तान कर मोदी भक्त कहते हैं, खुशी क्यों मना रहे हैं? आख़िर इस खुशी के पीछे की वजह क्या है?

मुझे इनकी मानसिकता समझ मे नहीं आ रही है, क्या ये दुनियां भर के मुसलमान जिसमे मैं भी शामिल हूँ, आतंकवादी मानते हैं? अगर इनका गुस्सा आतंकवाद पर है, फिर ये धुर्व सक्सेना, इंद्रजीत भुई, पदमोलोचों देय जैसे आतंकवादीयों के पकड़े जाने पर चुप क्यों हो जाते हैं?


Maqsud Gouri
==============
कोई सुतली बम रख कर आतंकवादी बनादिया गया और कोई 50 को मारकर भी सिर्फ मुजरिम है या मानसिक बीमार है अब क्या केंडल खत्म हो गए या केंडल मार्च निकालने वाले खत्म हो गए दोगले साले😢😢😢😢