मोदी पर बनी फ़िल्म में जावेद अख़्तर और समीर ने गाने नहीं लिखे, पर उनका नाम गीतकारों के रूप में दिया है : चोर है चोर है…

मोदी पर बनी फ़िल्म में जावेद अख़्तर और समीर ने गाने नहीं लिखे, पर उनका नाम गीतकारों के रूप में दिया है : चोर है चोर है…

Posted by

Saleem Akhter Siddiqui

मोदी पर बनी फिल्म में जावेद अख़्तर और समीर ने गाने नहीं लिखे, लेकिन उनका नाम गीतकारों के रूप में दिया गया है। अब बताएं, बिना कुछ किए नाम मिल रहा, ये अच्छे दिन हुए कि नहीं।
फ़िल्म चुनाव के पहले चरण से पहले 5 अप्रैल को रिलीज होगी। देखना है कि चुनाव आयोग फ़िल्म का प्रदर्शन रुकवाता है या आंखों पर हमेशा की तरह ठीकरे रख लेता है?

All India Mahila Congress

Verified account

@MahilaCongress

ये भी कोई बात हुई

जावेद अख्तर और समीर को कैसे पता चलेगा कि मोदी बायोपिक के गाने उन्होंने लिखे हैं कि नहीं.
ये तो मोदी जी की बायोपिक है
तय तो वही करेंगे ।

After Javed Akhtar, Sameer slams PM Narendra Modi biopic: Have not written any song – Movies News

Ruby Arun

#बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष #अमित शाह के
प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद यह पूरी तरह से स्पष्ट हो चुका है कि भाजपा के पास इस समय बस दो ही मुद्दे हैं
#राहुल और #पाकिस्तान…

.. महंगाई, #बेरोजगारी, कमज़ोर और, दलितों पर अत्याचार, मुसलमानों पर जुल्म, देश का विकास, भ्रष्टाचार, #किसानों की आत्महत्या, कर्जा माफी
के मसले पर ना तो भाजपा के पास कोई जवाब है .
न ही ये सारी बेहद अहम बातें, भाजपा के लिए कोई #चुनावी मुद्दा ही हैं.


Satyendra PS

“तेरी आख्यां का यो काजल” को मैंने बहुत पहले राष्ट्रगीत घोषित किया था। यह वाक्यांश ज्योति यादव ने अपने इस पर्सनलिटी परिचय वाले लेख में चुरा लिया!!
चलिए कोई बात नहीं।

सपना चौधरी का थोड़ा बहुत फैन मैं भी था। उनके कांग्रेस में आने की खबर है। अगर वह ऐसा करती हैं तो वह समझदार फैसला होगा। सपना मुझे हमेशा से एक संघर्षसील लड़की लगती थी। उनके नृत्य का स्टाइल हरियाणवी है और उसका नाम खोड़िया नृत्य है, इस लेख से जानने को मिला। यह लेख पढ़कर सचमुच मजा आ गया। वह जहां से भी कांग्रेस से चुनाव लड़ें, मेरी शुभकामनाएं हैं। अगर मेरे लोकसभा से लड़ें तो उनको मैं अपना वोट भी दे सकता हूं।

ज्योति यादव का यह अब तक का सबसे शानदार लेख लगा। उनको ढेर सारी शुभकामनाएं।

डॉ राही मासूम रज़ा को बी आर चोपड़ा ने महाभारत टीवी सीरियल का स्क्रिप्ट लिखने को कहा तो,पहले तो राही मासूम रजा ने इनकार कर दिया था।पर दूसरे दिन यह खबर न्यूज़ पेपर में छप गयी…….हज़ारों लोगों ने चोपड़ा को खत लिखा कि एक मुसलमान ही मिला है महाभारत लिखवाने के लिए।चोपड़ा ने सारे खत राही मासूम रजा के पास भेज दिया।सारे खत देखने के बाद राही मासूम रजा ने चोपड़ा से कहा कि अब मैं ही लिखूंगा महाभारत, क्योंकि मैं गंगा का पुत्र हूँ।

राही मासूम रजा ने जब टीवी सीरियल “महाभारत” लिखा तो उनके घर ख़तों के अंबार लग गए…. लोगों ने ख़ूब तारीफें की ख़ूब दुआऐं दी… इतने ख़त आए की ख़तों के कई गठठर बन गए लेकिन एक बहुत छोटा सा गठठर उनकी मेज़ के किनारे सब ख़तों से अलग पड़ा था….

जब किसी ने वजह पूछी तो जवाब मिला कि ये वोह ख़त हैं जिनमे मुझे गालियाँ लिखी गयी हैं… कुछ हिंदू इस बात से नाराज़ हैं की तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई मुसलमान होकर महाभारत लिखने की और कुछ मुसलमान इसलिए कि तुमने हिंदुयों की किताब को क्यूँ लिखा……

लेकिन राही साहब का मानना था कि यही छोटी गड्डी दरअसल मुझे हौसला देती है कि मुल्क में बुरे लोग कितने कम हैं….

आज पूरा देश लोकतंत्र का पर्व मनाने जा रहा है और इस बार चुनाव में जात पात, धर्म अधर्म, भारत पाक, छूत अछूत, हिन्दू मुस्लिम वगैरह असल मुद्दों से ज्यादा चर्चा में रहने वाले हैं। लेकिन परेशान होने की ज़रूरत नहीं है.. आज भी नफरत फ़ैलाने वालों की गड्डी हमारे प्यार मोहब्बत के बड़े गठठर से बहुत छोटी है।

याद रहे… चुनाव में सही प्रत्याशी को ही वोट दें और देश को मजबूत बनाये… भारत एक सेकुलर देश है… और इसपर सबका समान हक़ है… भारत किसी एक की बपौती न था, ना है और ना ही कभी हो ही सकता है….

बीबीसी हिंदी रेहान फजल की विवेचना