चीनी सरकार 25 मार्च को पाकिस्‍तान के स्‍टेट बैंक में जमा करेगा 29,000 करोड़ से भी ज़यादा रुपए

चीनी सरकार 25 मार्च को पाकिस्‍तान के स्‍टेट बैंक में जमा करेगा 29,000 करोड़ से भी ज़यादा रुपए

Posted by

इस्‍लामाबाद। आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्‍तान को अपने पुराने दोस्‍त चीन ने 25 मार्च को बड़ी रकम मिलने वाली है। चीन की ओर से पाकिस्‍तान को 25 मार्च को 2.1 बिलियन डॉलर का कर्ज दिया जाएगा। अगर पाकिस्‍तानी रुपयों में बात करें तो यह रकम 29,000 करोड़ रुपए से भी ज्‍यादा बैठती है।

पाकिस्‍तान के मीडिया की ओर से इस बात की जानकारी दी गई है। 23 मार्च को पाकिस्‍तान का नेशनल डे है और इस मौके पर भी दोनों देशों के बीच मजबूत ‘रिश्‍तों’ की जुगलबंदी देखने को मिलेगी।

पाकिस्‍तान के वित्‍त मंत्रालय के सलाहकार और प्रवक्‍ता खाकन नजीब खान के हवाले से अखबार द डॉन ने इस बात की जानकारी दी है। नजीब खान ने कहा, ‘ चीनी सरकार की ओर से दिए जाने वाले 2.1 बिलियन डॉलर के लोन के लिए सभी औपचारिक प्रक्रियाओं को पूरा कर लिया गया है। इस फंड को स्‍टेट बैंक ऑफ पाकिस्‍तान के अकाउंट में सोमवार यानी 25 मार्च को जमा कर दिया जाएगा।’

पाकिस्‍तान को पहले ही सऊदी अरब और यूएईए से एक-एक बिलियन डॉलर की मदद दी जा चुकी है। दोनों देशों की तरफ से एक बेलआउट पैकेज के तहत यह रकम पाकिस्‍तान को मिली है। खाड़ी देशों की इस मदद की वजह से पाकिस्‍तान को विदेशी मुद्रा भंडार को पुरानी स्थिति में लाने में मदद मिली थी। सऊदी अरब से पाकिस्‍तान को छह बिलियन डॉलर का बेलआउट पैकेज मिला था। इनमें से तीन बिलियन डॉलर पेमेंट के बैलेंस के तौर पर तो तीन बिलियन डॉलर तेल आयात के बदले दिए गए थे।

पकिस्‍तान को सऊदी अरब से पिछले वर्ष अक्‍टूबर में यह रकम मिली थी। वहीं पाकिस्‍तान इंटरनेशनल मानेटरी फंड (आईएमएफ) से बेलआउट पैकेज मिलने की उम्‍मीद है। नजीब ने कहा, ‘कर्ज की सुविधा विदेशी विनिमय भंडार को मजबूत करेगी और साथ ही अदायगी में स्थिरता सुनिश्चित करेगी।’ पाक पीएम प्रधानमंत्री इमरान खान ने चीन के पीएम ली केकियांग से नवंबर माह में मुलाकात की थी। उस समय चीन ने पाकिस्‍तान को मदद करने की प्रतिबद्धता दोहराई थी।

इससे पहले पाकिस्‍तान के अधिकारियों ने कहा था कि देश को आईएमएफ से करीब आठ बिलियन डॉलर की जरूरत है। आईएमएप की तरफ से पाकिस्‍तान को मिलने वाला यह अभी तक का सबसे बड़ा पैकेज होगा। भले ही पाक को सऊदी अरब और यूएई से कर्ज मिल गया हो लेकिन आईएमएफ से मिलने वाला बेलआउट पैकेज उसके लिए वर्ल्‍ड बैंक और एशियन डेवलपमेंट बैंक से कर्ज हासिल करने का जरिया बन सकेगा।