#AUSvIND_पहले टी-20 मैच में कंगारुओं ने टीम इंडिया को 4 रन से मात दी

Posted by

ऑस्ट्रेलियाई दौरे की शुरुआत टीम इंडिया ने हार के साथ शुरू की है। बुधवार को ब्रिस्बेन के गाबा स्टेडियम में खेले गए पहले टी-20 मैच में कंगारुओं ने डकवर्थ लुईस नियम के आधार पर टीम इंडिया को 4 रन से मात दी। इस मैच में भारत ने ऑस्ट्रेलिया से 11 रन ज्यादा ही बनाए, बावजूद इसके भारत को कंगारूओं के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा।

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। पहले बल्लेबाजी करते हुए ऑस्ट्रेलिया ने 17 ओवर में 4 विकेट के नुकसान पर 158 रन बनाए। जवाब में टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया से 11 रन ज्यादा ही यानी की 7 विकेट खोकर 169 रन बनाए। इसके बावजूद टीम इंडिया को 4 रन से हार झेलनी पड़ी। इस पर टीम इंडिया के पूर्व विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने अपने ही अंदाज में ट्वीट कर चुटकी ली है।

टीम इंडिया के पूर्व बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने भारत की पहले टी-20 मैच में हार पर एक मजेदार ट्वीट किया है। सहवाग ने लिखा, ‘ऑस्ट्रेलिया से ज्यादा रन बनाकर भी भारत हार गया है। ऑस्ट्रेलिया के स्कोर पर लगा जीएसटी भारत के लिए भारी पड़ गया, लेकिन जो भी हो सीरीज की यह एक थ्रिलिंग शुरुआत है।’

India scoring more than Australia yet losing. Australia ke score par laga GST bhaari pad gaya. But a good thrilling game to start the series.#AUSvIND

— Virender Sehwag (@virendersehwag) November 21, 2018

बता दें कि दोनों टीमों के बीच खेला गया यह मुकाबला तकरीबन आधे घंटे तक बारिश से प्रभावित रहा। इसक कारण अंपायरों ने तय किया कि यह मुकाबला 17-17 ओवर का होगा। ऑस्ट्रेलियाई टीम ने जब 16.1 ओवर में जब 153 रन बनाकर खेल रही थी तभी बारिश आ गई। बारिश के कारण मैच में डकवर्थ लुईस नियम लागू किया गया, जिसके कारण ऑस्ट्रेलिया की पारी में 15 अतिरिक्त रन और जोड़े गए। इसलिए टीम इंडिया को 174 रन का लक्ष्य मिला।

टीम इंडिया के ओपनर शिखर धवन ने बुधवार को ऑस्ट्रेलिया से पहले टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच में मिली हार क लिए खराब फील्डिंग को जिम्मेदार ठहराया है। धवन ने कहा कि गाबा में खराब फील्डिंग के कारण टीम इंडिया को शिकस्त का सामना करना पड़ा। बता दें कि ब्रिस्बेन के गाबा स्टेडियम में खेले गए वर्षाबाधित मैच में मेहमान टीम को डकवर्थ-लुईस पद्यति के आधार पर चार रन की शिकस्त सहनी पड़ी।

भारत ने ऑस्ट्रेलिया को पहले बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित किया। मेजबान टीम ने 17 ओवर में 4 विकेट खोकर 158 रन बनाए। इसके बाद टीम इंडिया को 17 ओवर में जीत के लिए 174 रन का संशोधित लक्ष्य मिला। विराट सेना निर्धारित ओवर में 7 विकेट खोकर 169 रन ही बना सकी। टीम इंडिया के गब्बर ने 42 गेंदों में 76 रन की उम्दा पारी खेली, लेकिन भारतीय टीम जीत का स्वाद नहीं चख सकी।

धवन ने मैच के बाद कहा, ‘यह मैच अच्छा हुआ। काफी करीबी मुकाबला हुआ और दोनों ही टीमों ने अच्छा खेल दिखाया। हमें इस मैच से काफी विश्वास मिला और अब हमारा पूरा ध्यान अगले मैच पर लगा है। मैदान पर खराब फील्डिंग का प्रभाव पड़ा। कैच टपकाना और रनआउट के मौके गंवाना। मगर यह मैच का हिस्सा है और आगे के मैचों में हम ऐसी गलती नहीं करने की कोशिश करेंगे। बीच के ओवरों में हमने कुछ अधिक रन भी खर्च किए, लेकिन इसके अलावा हमने बेहतर खेला।’

टीम इंडिया की फील्डिंग मैच के दौरान काफी खराब रही। कप्तान विराट कोहली ने कंगारू कप्तान आरोन फिंच का आसान कैच छोड़ा और फिर एक मिस फील्ड भी की। खलील अहमद ने भी मार्कस स्टोइनिस का आसान कैच टपकाया। इसके अलावा ग्लेन मैक्सवेल के रनआउट का मौका भी टीम इंडिया ने गंवाया।

वैसे, टीम इंडिया के गब्बर ने ऑस्ट्रेलियाई लेग स्पिनर एडम जंपा की भी तारीफ की। उन्होंने कहा, ‘मुझे पता था कि हमें किसी ओवर में ज्यादा रन बनाने की जरूरत है और जब आउट हुआ तब उसमें लंबे शॉट खेलने की योजना थी। जंपा काफी प्रभावशाली रहे। हमें जब रन बनाने की लय हासिल करनी थी तब उन्होंने विकेट निकालकर दिए। यहां से हम खेल में पिछड़ गए क्योंकि दोनों प्रमुख बल्लेबाज राहुल व कोहली डगआउट लौट गए। उन्होंने काफी संतुलित और अच्छी गेंदबाजी की। अगले मैच में हम जंपा के खिलाफ अच्छी रणनीति के साथ मैदान संभालेंगे।’

टीम इंडिया का ऑस्ट्रेलिया में शंखनाद बेहद निराशाजनक हुआ। विराट कोहली के नेतृत्व वाली टीम इंडिया को तीन मैचों की सीरीज के रोमांचक पहले टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच में 4 रन की शिकस्त का सामना करना पड़ा।

ब्रिस्बेन में टीम इंडिया ने कंगारूओं को पहले बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित किया। वर्षा बाधित मैच में ऑस्ट्रेलिया ने 17 ओवर में चार विकेट खोकर 158 रन बनाए। भारत को 17 ओवर में 174 रन का संशोधित लक्ष्य मिला। मेन इन ब्ल्यू निर्धारित 17 ओवर में 7 विकेट पर 169 रन बना सकी। मेहमान टीम इन पांच गलतियों के कारण पहले मैच में हारी। चलिए ध्यान देते हैं:

पहली गलती- नहीं चली ‘रन मशीन’: टीम इंडिया के कप्तान ने ब्रेक के बाद वापसी की, लेकिन वह अपनी चमक बिखेरने में नाकाम रहे। कप्तान कोहली ने 8 गेंदों में केवल चार रन बनाए और लेग स्पिनर एडम जंपा की गेंद पर क्रिस लिन को आसान कैच थमाकर पवेलियन लौट गए। टीम इंडिया के गब्बर शिखर धवन अच्छी बल्लेबाजी कर रहे थे और उन्हें जरूरत थी कि दूसरे छोर पर बल्लेबाज क्रीज पर समय बिताकर उनका साथ निभाए। कप्तान कोहली ऐसा करने में विफल रहे और टीम इंडिया को इसका खामियाजा भुगतना पड़ा।

दूसरी गलती- ‘हिटमैन’ का बल्ला रहा खामोश: टीम इंडिया को बारिश से बाधित मुकाबले में कड़ा लक्ष्य मिला। विराट सेना को अपने हिटमैन रोहित शर्मा से ऐसे में बड़ी पारी की उम्मीद थी। मगर भारतीय ओपनर ने निराश किया। उन्होंने 8 गेंदों में केवल 7 रन बनाए और बेहरनडोर्फ की गेंद पर ऑस्ट्रेलियाई कप्तान फिंच को आसान कैच थमाकर डगआउट लौट गए। यह जरूरी था कि विशाल लक्ष्य का पीछा करते हुए विरोधी टीम शानदार शुरुआत करे। रोहित की गलती टीम इंडिया को भारी पड़ी।

तीसरी गलती- केएल राहुल का निराशाजनक प्रदर्शन जारी: केएल राहुल को अपने आप को साबित करने का शानदार मौका मिला था। कप्तान विराट कोहली ने राहुल पर भरोसा जताया और उन्हें तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने के लिए भेजा। शिखर धवन तूफानी बल्लेबाजी कर रहे थे और उन्हें क्रीज पर टिकने वाले बल्लेबाज की जरूरत थी। राहुल तब अपने आप को साबित नहीं कर सके और 12 गेंदों में एक चौके की मदद से 13 रन बनाकर आउट हो गए। जंपा ने राहुल को स्टंपिंग आउट कराया। अगले दो मैचों में राहुल पर टीम इंडिया को कोई बड़ा फैसला लेना होगा।

चौथी गलती- खराब फील्डिंग: टीम इंडिया की हार का एक बड़ा कारण खराब फील्डिंग भी रही। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने एक आसान सा कैच टपकाया तो फील्डिंग में भी ढिलाई बरती। भारतीय टीम ने ओवरथ्रो के रन भी दिए। खलील अहमद ने बाउंड्री लाइन पर आसान कैच टपकाया। टीम इंडिया की फील्डिंग मौजूदा समय में सर्वश्रेष्ठ मानी जाती है, लेकिन पहले मुकाबले में उसका स्तर बेहद निराशाजनक लगा। आगामी मैचों में टीम इंडिया को अपनी फील्डिंग पर विशेष ध्यान देना होगा।

पांचवीं गलती- ऑलराउंडर साबित नहीं कर पाए क्रुणाल पांड्या: हार्दिक पांड्या की कमी खलने का जिक्र टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री पहले ही कर चुके हैं। इसका असर पहले टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच में भी दिखा। हार्दिक के बड़े भाई क्रुणाल पांड्या को बतौर ऑलराउंडर मौका दिया। गेंदबाजी में उनका दिन बेहद खराब रहा। बाएं हाथ के स्पिनर ने चार ओवर के अपने कोटे में 55 रन खर्च किए और कोई सफलता हासिल नहीं की। इसके बाद वह बल्लेबाजी में भी टीम इंडिया को जीत दिलाने में भूमिका नहीं निभा सके और चार गेंदों में दो रन बनाकर स्टोइनिस का शिकार बने।