इतिहास

आर्य भारत में कब और कहाँ से आये !!!

आर्य भारत में कब और कहाँ से आये !!!

21st October 2017 at 6:13 am 0 comments

आर्य – एक खोजपूर्ण लेख आर्य कौन है ? क्या इन्होने भारत पर कब्जा किया ? महर्षि दयानन्द सरस्वती ने कहा है – जो श्रेष्ठ स्वभाव, धर्मात्मा, परोपकारी, सत्य-विद्या आदि गुणयुक्त और आर्यावर्त (aryavart) देश में सब दिन से रहने वाले हैं उनको आर्य कहते है। मनुष्य, पशु, पक्षी, वृक्ष […]

Read more ›
कश्मीर के शासक राजा सुहादेव उर्फ़ रिंचन शाह जब राजा ‘सुल्तान शद्दरूदीन शाह’ बने!

कश्मीर के शासक राजा सुहादेव उर्फ़ रिंचन शाह जब राजा ‘सुल्तान शद्दरूदीन शाह’ बने!

21st October 2017 at 5:33 am 0 comments

जम्मू कश्मीर के कश्मीर घाटी में मीरवाइज या Chief Preacher की दो वंशावली है अर्थात दो प्रमुख मीरवाइज घराने हैं जो कश्मीर के एक करोड मुसलमानों के घोषित मजहबी नेतृत्व हैं और घाटी के इन करोड मुसलमानों के “मजहबी आध्यात्मिक नेता” हैं। इन दो मीरवाइज घरानों में से प्रमुखतम घराना […]

Read more ›
Afghaun [sic] foot soldiers in their winter dress with entrance to the valley of Urgundeh', 1842 (c)
Coloured lithograph by James Rattray, 2nd Bengal Native Infantry, 1842 (c), published by Hering and Remington, London, 1847. Taken from the set 'Scenery, inhabitants and costumes of Afghaunistan', No 11.

पठान जाति’ की जड़े कहाँ से हैं, जानिये पूरा इतिहास!

21st October 2017 at 5:03 am 0 comments

पश्तून, पख़्तून ,पश्ताना या पठान दक्षिण एशिया में बसने वाली एक लोक-जाति है, पठान जाति की जड़े कहाँ थी इस बात का इतिहासकारों को ज्ञान नहीं लेकिन संस्कृत और यूनानी स्रोतों के अनुसार उनके वर्तमान इलाक़ों में कभी पक्ता नामक जाति रहा करती थी जो संभवतः पठानों के पूर्वज रहें […]

Read more ›
● *मनुष्य के इतिहास का एक विचित्र दृश्य*

● *मनुष्य के इतिहास का एक विचित्र दृश्य*

20th October 2017 at 11:37 pm 0 comments

Mudit Mishra श्री दयानन्द निर्वाण दिवस पर स्वामी जी का पावन स्मरण ● *मनुष्य के इतिहास का एक विचित्र दृश्य* ——————– – डॉ० स्वामी सत्यप्रकाश सरस्वती 1883 ई० का दीपावली का दिवस । अजमेर नगरी की भिनाय कोठी के कमरे के कक्ष में शय्या पर लेटा एक व्यक्ति जीवन की […]

Read more ›
इतिहास जो बहुत कम लोग जानते हैं… कौन हैं हुसैनी ब्राह्मण!

इतिहास जो बहुत कम लोग जानते हैं… कौन हैं हुसैनी ब्राह्मण!

20th October 2017 at 8:54 pm 0 comments

Tashhirul Islam ============== हुसैनी ब्राह्मण… एक इतिहास जो बहुत कम लोग जानते हैं | कौन हैं हुसैनी ब्राह्मण | 10 अक्टूबर 680 ईसवी को कर्बला की जंग में इमाम हुसैन की शहादत हुई | सिद्ध-दत्त को पता चला तो उन्हें अफ़सोस भी हुआ और गुस्सा भी आया। जब उन्हें पता […]

Read more ›
19 अक्तूबर का इतिहास :: 19 अक्तूबर, 1689 को रायगढ़ किले में संभाजी ने महान मुग़ल बादशाह औरंगज़ेब के समक्ष समर्पण किया था!

19 अक्तूबर का इतिहास :: 19 अक्तूबर, 1689 को रायगढ़ किले में संभाजी ने महान मुग़ल बादशाह औरंगज़ेब के समक्ष समर्पण किया था!

19th October 2017 at 4:44 pm 0 comments

1630- बोस्टन में पहली बार आम अदालत का आयोजन किया गया। 1722- फ्रांस के सी. होफर ने अग्निशामक यंत्र का पेटेेंट कराया। 1739- इंग्लैंड ने स्पेन पर युद्ध की घोषणा की। 1853- अमेरिका के हवाई प्रांत में पहली आटा चक्की शुरू की गयी। 1872- न्यू साउथ वेल्स में विश्व का […]

Read more ›
द ग्रेट मुग़ल्स पार्ट 10 : मुग़ल साम्राज्य – बाबर महान से बहादुरशाह ज़फ़र तक!

द ग्रेट मुग़ल्स पार्ट 10 : मुग़ल साम्राज्य – बाबर महान से बहादुरशाह ज़फ़र तक!

19th October 2017 at 5:06 am 0 comments

बाबर (1526-1530 ई.) :- दिल्ली सल्तनत के अंतिम शासक इब्राहिम लोदी को 1526 ई. में पराजित कर बाबर ने मुग़ल साम्राज्य की स्थापना की। बाबर फरगना का शासक था। बाबर को भारत आने का निमंत्रण पंजाब के सूबेदार दौलत खां लोदी तथा इब्राहिम लोदी के चाचा आलम खां ने लोदी […]

Read more ›
द ग्रेट मुग़ल्स पार्ट 9 : मुग़लकाल में कला, चित्रकला एवं संगीत!

द ग्रेट मुग़ल्स पार्ट 9 : मुग़लकाल में कला, चित्रकला एवं संगीत!

19th October 2017 at 4:52 am 0 comments

भारत में चित्रकला का विकास हुमायूँ के शासन-काल में प्रारंभ हुआ। शेरशाह से पराजित होने के बाद जब वह ईरान में निवास – तारीख-ए-खानदानी तैमुरिया की पाण्डुलिपि को चित्रित करने के लिए इरानी चित्रकारों की सेवा प्राप्त की। ये चित्रकार मीर सैयद अली सिराजी और ख्वाजा अब्दुल समद तबरीजी थे। […]

Read more ›
द ग्रेट मुग़ल्स पार्ट 8 : मुग़ल काल में साहित्य Literature During the Mughal Period!

द ग्रेट मुग़ल्स पार्ट 8 : मुग़ल काल में साहित्य Literature During the Mughal Period!

19th October 2017 at 4:50 am 0 comments

भारत के तैमूरी बादशाह साहित्य के पोषक थे तथा इसकी विभिन्न शाखाओं के विकास को बहुत प्रोत्साहन देते थे। अकबर के संरक्षण में बहुत-से विद्वान् हुए तथा उन्होंने दिलचस्प एवं महत्वपूर्ण पुस्तकें लिखीं। अकबर का एक समकालीन व्यक्ति माधवाचार्य, जो त्रिवेणी का एक बगाली कवि तथा चडी-मंगल का लेखक था, […]

Read more ›
द ग्रेट मुग़ल्स पार्ट 7 : मुग़ल काल में सूफ़ी आंदोलन!

द ग्रेट मुग़ल्स पार्ट 7 : मुग़ल काल में सूफ़ी आंदोलन!

19th October 2017 at 4:47 am 0 comments

इन प्रवृत्तियों के परिणामस्वरूप कुछ सूफियों ने, जैसे शेख नसिरूद्दीन महमूद चिरागे दिल्ली (मृ. 1356 ई.) ने कट्टरपंथी इस्लाम और सूफी परम्परा के बीच सामंजस्य स्थापित करने का प्रयत्न किया, जैसा कि पहले अल गजाली ने किया था और बाद में लक्शबन्दी सम्प्रदाय अन्य महासन्त दिल्ली के वहीदुल्ला (1707-62 ई.) […]

Read more ›