इतिहास

#सर के ख़िताब को ठुकराने वाले एक महान स्वातंत्रता सेनानी ”शाह मुहम्मद ज़ुबैर”

#सर के ख़िताब को ठुकराने वाले एक महान स्वातंत्रता सेनानी ”शाह मुहम्मद ज़ुबैर”

30th May 2018 at 1:49 am 0 comments

Sikander Kaymkhani =================== शाह मुहम्मद ज़ुबैर : सर के ख़िताब को ठुकराने वाल एक महान स्वातंत्रता सेनानी शाह मुहम्मद ज़ुबैर साहेब ने 1923 में ‘किसान सभा’ नामक संगठन बना कर किसानो के हक़ के लिए आवाज़ उठाना शुरु किया था। ये बिहार में किसानो के हक़ के लिए आवाज़ उठाने […]

Read more ›
”मदैन सालेह” सऊदी अरब का एक ख़ामोश शहर

”मदैन सालेह” सऊदी अरब का एक ख़ामोश शहर

30th May 2018 at 1:13 am 0 comments

अरब देशों का ज़्यादातर हिस्सा रेगिस्तान है. यहां के ज़्यादातर देशों में इस्लाम को मानने वाले रहते हैं. लेकिन, इस्लाम धर्म ज़्यादा पुराना नहीं. इस्लाम के उदय से पहले अरब देशों में दूसरे धर्मों के मानने वाले रहा करते थे. इन्हीं में से एक समुदाय था नेबेतियन का. सऊदी अरब […]

Read more ›
लार्ड चंगेज़ ख़ान की कब्र क्यों नहीं मिलती, जानिये!

लार्ड चंगेज़ ख़ान की कब्र क्यों नहीं मिलती, जानिये!

30th May 2018 at 1:05 am 0 comments

चंगेज़ ख़ान, तारीख़ के पन्नों में दर्ज एक ऐसा नाम है जिससे शायद ही कोई नावाक़िफ़ हो. उसके ज़ुल्म और बहादुरी की कहानियां दुनियाभर में मशहूर हैं. उसकी फ़ौजें जिस भी इलाक़े से गुज़रती थीं अपने पीछे बर्बादी की दास्तान छोड़ जाती थीं. कहने को तो वो मंगोल शासक था, […]

Read more ›
जब लार्ड चंगेज़ ख़ान के पोते हलाकू ख़ान ने बग़दाद को लाशों से पाट दिया!

जब लार्ड चंगेज़ ख़ान के पोते हलाकू ख़ान ने बग़दाद को लाशों से पाट दिया!

30th May 2018 at 12:55 am 0 comments

मंगोल फ़ौज ने पिछले 13 दिन से बग़दाद को घेरे में ले रखा था. जब प्रतिरोध की तमाम उम्मीदें दम तोड़ गईं तो 10 फ़रवरी सन 1258 को समर्पण के दरवाज़े खुल गए. 37वें अब्बासी ख़लीफ़ा मुस्तआसिम बिल्लाह अपने मंत्रियों और अधिकारियों के साथ मुख्य दरवाज़े पर आए और हलाकू […]

Read more ›
कस्तुनतुनिया पर मुसलमानों की फ़तेह…और कैसर के महल पर मकड़ी ने जाले बुन लिए हैं…”

कस्तुनतुनिया पर मुसलमानों की फ़तेह…और कैसर के महल पर मकड़ी ने जाले बुन लिए हैं…”

30th May 2018 at 12:44 am 0 comments

29 मई, साल 1453 की तारीख. रात के डेढ़ बजे हैं. दुनिया के एक प्राचीन और एक महान शहर की दीवारों और गुंबदों के ऊपर चांद तेजी से पश्चिम की ओर दौड़ा जा रहा है. जैसे उसे किसी ख़तरे का अंदेशा हो… इस डूबते हुए चांद के धुंधलके में देखने […]

Read more ›
1918 में पहली बार इस्तेमाल हुआ ”हिन्दू” शब्द !

1918 में पहली बार इस्तेमाल हुआ ”हिन्दू” शब्द !

29th May 2018 at 12:11 am 0 comments

एकता जोशी ============== *तुलसीदास ने रामचरित मानस मुगलकाल में लिखी,पर मुगलों की बुराई में एक भी चौपाई नहीं लिखी क्यों ?* *क्या उस समय हिन्दू मुसलमान का मामला नहीं था ?* *हाँ, उस समय हिंदू मुसलमान का मामला नहीं था क्योंकि उस समय हिन्दू नाम का कोई धर्म ही नहीं […]

Read more ›
अरब मुल्क़ सीरिया में बनी थी दुनिया के पहले गीत की धुन

अरब मुल्क़ सीरिया में बनी थी दुनिया के पहले गीत की धुन

27th May 2018 at 2:53 am 0 comments

अरब मुल्क़ सीरिया में इस वक़्त जंग के शोले धधक र हे हैं. हज़ारों लोग मौत के घाट उतारे जा चुके है. सीरिया में चारों तरफ़ तबाही, भगदड़, ग़रीबी और बेरोज़गारी का मंज़र है. असुरक्षा का माहौल इस क़दर है कि लोग घरों में क़ैद हैं. ख़ौफ़ हर वक़्त उनका […]

Read more ›
भगतसिंह और बचकाना आरएसएस • उन्हीं के शब्दों में!!VIDEO!!

भगतसिंह और बचकाना आरएसएस • उन्हीं के शब्दों में!!VIDEO!!

23rd May 2018 at 10:59 pm 0 comments

“जब भगतसिंह और उनके साथियों को फांसी दी गई थी, तब हम कुछ दोस्त इतने उत्साहित थे कि हमने साथ में क़सम ली थी कि हम भी कुछ ख़तरनाक करेंगे और ऐसा करने के लिए घर से भागने का फ़ैसला भी ले लिया था। पर ऐसे डॉक्टर जी [केशव बलिराम […]

Read more ›
हरयाणा के बाग़ी शैख़ मुग़ल ख़ान उर्फ़ मुग़ला रांगड़ राजपूत

हरयाणा के बाग़ी शैख़ मुग़ल ख़ान उर्फ़ मुग़ला रांगड़ राजपूत

21st May 2018 at 8:23 pm 0 comments

हरयाणा क्षेत्र के एक अवाममक़बूल बाग़ी शैख़ मुग़लख़ान उर्फ़ मुग़ला रांगड़ राजपूत 1890 के लगभग रोहतक ज़िले के सांघी में पैदा हुए थे। 1930 के जून या जुलाई में वह कैथल/जींद के गाँव अळेवा के खेतों में पुलिस द्वारा घेर लिये जाने पर बहादुरी के साथ मुक़ाबला करते हुए मारे […]

Read more ›
#भारत का इतिहास पार्ट 68 : ख़िलजी वंश : ख़िलजी वंश के महान ‘सुल्तान अलाउद्दीन ख़िलजी’

#भारत का इतिहास पार्ट 68 : ख़िलजी वंश : ख़िलजी वंश के महान ‘सुल्तान अलाउद्दीन ख़िलजी’

21st May 2018 at 4:12 am 0 comments

अलाउद्दीन ख़िलजी ============ पूरा नाम -अलाउद्दीन ख़िलजी जन्म -1266-1267 ई. मृत्यु- तिथि 4 जनवरी 1316 ई. मृत्यु स्थान- दिल्ली पति/पत्नी- मलिका-ए-जहाँ, महरू, कमलादेवी, झत्यपाली शासन काल- 1296–1316 ई. धार्मिक -मान्यता इस्लाम राजधानी -दिल्ली पूर्वाधिकारी -जलालुद्दीन ख़िलजी उत्तराधिकारी- शिहाबुद्दीन उमर ख़िलजी अलाउद्दीन ख़िलजी का बचपन का नाम अली ‘गुरशास्प’ था। उसके […]

Read more ›