इतिहास

#पद्मावती का क़िस्सा इतिहास नहीं है, पद्मावती एक साहित्यिक क़िरदार थी!

#पद्मावती का क़िस्सा इतिहास नहीं है, पद्मावती एक साहित्यिक क़िरदार थी!

28th October 2017 at 3:58 am 0 comments

पद्मावती का जो पूरा किस्सा है वो इतिहास है नहीं. 16वीं शताब्दी में एक साहित्य लिखा गया था. इसमें पद्मावती नाम के किरदार की चर्चा है. अलाउद्दीन के ज़माने में तो पद्मावती का कोई ज़िक्र ही नहीं है. पद्मावती एक साहित्यिक किरदार थी न कि ऐतिहासिक किरदार. इसका कोई ऐतिहासिक […]

Read more ›
“जोधाबाई” का चरित्र काल्पनिक है!

“जोधाबाई” का चरित्र काल्पनिक है!

28th October 2017 at 3:54 am 0 comments

दोस्त पूछ रहे हैं कि क्या “जोधाबाई” का चरित्र भी काल्पनिक है ? ….. असल में चरित्र नही बल्कि ये नाम “जोधाबाई” काल्पनिक है… मुग़ल रिकार्डों में अकबर की पत्नी और जहाँगीर की माता के लिये कहीं भी जोधाबाई का नाम नही लिखा गया है, बल्कि जहाँगीर की माता का […]

Read more ›
यह तस्वीर ‘जॉन रसेल कॉल्विन’ के कब्र की है!

यह तस्वीर ‘जॉन रसेल कॉल्विन’ के कब्र की है!

28th October 2017 at 3:52 am 0 comments

जब आप आगरा किले में जाएंगे तो ‘दीवान-ए-आम’ के ठीक सामने यह कब्र दीखती है। जॉन रसेल कॉल्विन आगरा किला में अंग्रेजी सेना का नेतृत्व कर रहा था और विद्रोह के दौरान ही इसकी मृत्यु हो गयी थी। चूंकि बाहर में विद्रोही जमा थे इस कारण रसेल कॉल्विन के मृत […]

Read more ›
जब मौत के वक़्त अकबर को याद आया ब्रज भाषा में कहा अपना दोहा!

जब मौत के वक़्त अकबर को याद आया ब्रज भाषा में कहा अपना दोहा!

28th October 2017 at 3:45 am 0 comments

वो हिंदुस्तान के बादशाह अकबर की जिंदगी की आखिरी रात थी. कोई दवा काम नहीं आ रही थी. अकबर के पुराने वैद्य नारायण मिश्रा औऱ हकीम मर चुके थे. नये लोगों पर अकबर बिगड़ जा रहे थे. ईसाई पादरियों ने हुक्का भिजवाया कि पीने से राहत होगी. सब लोग तरह-तरह […]

Read more ›
‘हर कोई अपनी तरह के मायने ढूंढता है’

‘हर कोई अपनी तरह के मायने ढूंढता है’

28th October 2017 at 3:39 am 0 comments

बात करने के शौक से बड़ी रोचक चीजें निकल के आती थीं पचास साल की हुकूमत में अकबर एक जंग नहीं हारा था. अकबर के दरबार की चकाचौंध देखकर विदेशों से आने वाले लोग हैरान रह जाते थे. तानसेन ने अकबर के बारे में कहा था- कासी, कास्मीर, कामरू, करनाटक, […]

Read more ›
#ईस्राइल_एक_नाजायज़_देश!

#ईस्राइल_एक_नाजायज़_देश!

28th October 2017 at 3:25 am 0 comments

Sikander Kaymkhani ————– प्राचीन काल से ही यहूदियों के ऊपर जिस तरह के और जितने अत्याचार हुए हैं उनको जानकर मेरी हमदर्दी आप ही उनके साथ चली जाती है। एक ऐसे लोग जो हमेशा भटकते रहे, और जगह-जगह से भगाए जाते रहे, तार्किक रूप से वे निश्चित ही एक देश […]

Read more ›
27 अक्तूबर का इतिहास : 7 सफर 128 हिजरी क़मरी को इमाम मूसा काज़िम का जन्म हुआ!

27 अक्तूबर का इतिहास : 7 सफर 128 हिजरी क़मरी को इमाम मूसा काज़िम का जन्म हुआ!

27th October 2017 at 9:42 pm 0 comments

27 अक्तूबर सन 1905 ईसवी को नार्वे स्वीडन से अपना गठजोड़ समाप्त करके स्वतंत्र हो गया।14वीं शताब्दी से पहले तक नार्वे एक शक्तिशाली देश था। वर्ष 1380 में उस पर डेनमार्क का अधिकार हो गया और चार शताब्दियों तक आंतरिक स्वायत्तता के साथ डेनमार्क के नियंत्रण में रहा। वर्ष 1814 […]

Read more ›
नवाब फ़ैजुल्लाह ख़ान द्वारा स्थापित शिक्षा का अनमोल खज़ाना ”रज़ा लाइब्रेरी” रामपुर!

नवाब फ़ैजुल्लाह ख़ान द्वारा स्थापित शिक्षा का अनमोल खज़ाना ”रज़ा लाइब्रेरी” रामपुर!

27th October 2017 at 5:40 am 0 comments

रज़ा लाइब्रेरी जहां भारतीय इस्लामी शिक्षा का अनमोल खज़ाना है, सन 1794 में रामपुर के प्रथम शासक नवाब फैजुल्लाह खान द्वारा स्थापित की गई. रज़ा लाइब्रेरी जहां भारतीय इस्लामी शिक्षा का अनमोल खज़ाना है, सन 1794 में रामपुर के प्रथम शासक नवाब फैजुल्लाह खान द्वारा स्थापित की गई. वे 1794 […]

Read more ›
चारमीनार का इतिहास :: सुल्तान मुहम्मद कुली कुतब शाह ने चारमीनार को बनवाया था!

चारमीनार का इतिहास :: सुल्तान मुहम्मद कुली कुतब शाह ने चारमीनार को बनवाया था!

27th October 2017 at 5:34 am 0 comments

भारत वीरों की धरती है यहाँ जगह जगह पर दुर्ग, मीनार, स्तम्भ आदि ऐतिहासिक निशानियां मिल जाएँगी| मुस्लिम साशकों के आने के बाद भारत में अरब, यूरोप की निर्माण कला का आगमन हुआ, उससे पहले भी यहाँ पर भव्य इमारतों का निर्माण होता था| Charminar – चारमीनार का निर्माण 1591 […]

Read more ›
#बिहार की एतिहासिक धरोहर – #शेरशाह सूरी का ‘शेरगढ़ का क़िला’

#बिहार की एतिहासिक धरोहर – #शेरशाह सूरी का ‘शेरगढ़ का क़िला’

27th October 2017 at 5:25 am 0 comments

किले अपने गौरवशाली इतिहास की गाथा आज भी बयान करते हैं। ऐसा ही एक ऐतिहासिक किला बिहार के रोहतास जिले के पास अफगान शासक शेरशाह सूरी का है, जिसे ‘शेरगढ़ का किला’ कहा जाता है। 500 साल पुराने इस इस किले में सैकड़ों सुरंग और तहखाने हैं। इस किले के […]

Read more ›