साहित्य

लड़की वाले आज इनके बाप के नौकर है!!!

लड़की वाले आज इनके बाप के नौकर है!!!

22nd March 2018 at 5:03 pm 0 comments

चौधरी साब ================ गोस्त की बोटियाँ टापा टाप नीचे गिराए जा रहा था, और बार बार वेटर से “अबे टांग ले आ इसमें, बिल्कुल ठंडा लाया, गर्म क्यों नहीं लाया, इसे क्या तेरा बाप खायेगा” बोलकर हड़का रहा था। एक रोटी हाथ मे ली और “ठंडी है” बोलकर निवाला तोड़ा […]

Read more ›
गौरैया तुझे देखकर मुझे मेरा बचपन याद आ जाता है

गौरैया तुझे देखकर मुझे मेरा बचपन याद आ जाता है

21st March 2018 at 2:41 am 0 comments

Nahida Qureshi ================= · गौरैया तुझे देखकर मुझे मेरा बचपन याद आ जाता है, न जाने कहाँ खो गयी है तू या हम सबने खो दिया है तुझ को” मुझे आज भी वो दिन याद है जब मैं और मेरा छोटा भाई अब्दुल अव्वल खान जो कि अब इस दुनिया […]

Read more ›
सिन्दबाद की कहानी

सिन्दबाद की कहानी

17th March 2018 at 9:25 am 0 comments

फार्स में सिन्दबाद नाम का एक राजा रहता था। फार्स में सिन्दबाद नाम का एक राजा रहता था। उसके पास प्रशिक्षित बाज़ एक बाज़ था जिसे वह बहुत चाहता था और उसे अपने से अलग नहीं करता था। सिन्दबाद के आदेश से बाज़ की गर्दन में सोने का बना एक […]

Read more ›
दसवीं एवं ग्याहरवीं सदी के कवि मोहम्मद हुसैन नज़ीरी नीशापुरी : पार्ट 1

दसवीं एवं ग्याहरवीं सदी के कवि मोहम्मद हुसैन नज़ीरी नीशापुरी : पार्ट 1

17th March 2018 at 8:34 am 0 comments

मोहम्मद हुसैन नज़ीरी नीशापुरी फ़ार्सी काव्य के इतिहास के एक ऐसे कवि थे, जिन्होंने इस काव्य को शैली प्रदान की। उन्होंने अपने समय के और उसके बाद के घटनाक्रमों को प्रभावित किया। नज़ीरी दसवीं एवं ग्याहरवीं सदी के एक ऐसे कवि हैं, जिनकी कविताओं ने आम लोगों के दिल को […]

Read more ›
सीरिया से एक मज़लूम बेटी का ख़त..मुस्लिम मुमालिक के हुक्मरानों के नाम..!!

सीरिया से एक मज़लूम बेटी का ख़त..मुस्लिम मुमालिक के हुक्मरानों के नाम..!!

13th March 2018 at 3:10 am 0 comments

• मैं ये ख़त सीरिया से लिख रही हूँ, ये वही सीरिया है जहां अब्बासी ख़लीफ़ा के दौर में इस्लाम पंहुचा.. मैंने अपने बुजुर्गों से सुना जब राजा दाहिर के गुंडों की क़ैद में श्रीलंका से एक औरत ने ख़त लिखा था तो मुहम्मद बिन क़ासिम ने हिंद व सिंध […]

Read more ›
#किसानों की दयनीय दशा का ये शब्द चित्रण 👇👇झकझोर देगा आपको👇👇

#किसानों की दयनीय दशा का ये शब्द चित्रण 👇👇झकझोर देगा आपको👇👇

13th March 2018 at 3:07 am 0 comments

#बिन_मंदिर_के_क्यूँ_कर_डाला_धरती_के_भगवान_को कहते हैं #भगवान हर जगह नहीं है हो सकता इसलिए उसने मां बनाई ,इसी तरह भगवान खाना देने खुद नहीं आ सकता इसलिए किसान हैं, धरती पर आज 30 हजार से ज्यादा किसान अपना हक मांग रहे हैं। इन्हें हमारे सपोर्ट की जरूरत है। आइए इन्हें इनका हक दिलाने […]

Read more ›
एक झूठ : पत्नी को बहुत समझाने की कोशिश भी की पर वो….!!!

एक झूठ : पत्नी को बहुत समझाने की कोशिश भी की पर वो….!!!

10th March 2018 at 11:39 pm 0 comments

डॉ.सरला सिंह ============== एक प्रसिद्ध पत्रिका में लिखी हुई समस्या उसे अपने एक परिचित की समस्या सी लगी।थोड़ा सा और पता करने पर उसे महसूस हुआ कि यह कहानी तो शायद उसी परिचित व्यक्ति की है । उनकी पत्नी उन्हें छोड़कर अपने मायके में रह रहीं थीं ।वे उनके ही […]

Read more ›
विरोध के स्वर, क्या बात है, अकल नहीं आपको…!

विरोध के स्वर, क्या बात है, अकल नहीं आपको…!

10th March 2018 at 1:20 pm 0 comments

Amitabh Thakur (IPS) =============· विरोध के स्वर कहते हैं लोग, आप केवल विरोध ही करते, क्या बात है, अकल नहीं आपको, हैं या अंगूर खट्टे. मानता हूँ मैं हर आदमी का अपना स्वभाव होता है, कुछ विरोधी स्वभाव तो है, कुछ कुछ बवाली भी, यदा-कदा बीच-बीच में लालच भी उभरता […]

Read more ›
मन मौजी : क्योंकि शराब को तुम पीते हो शराब तुम्हें नही पीतीं!

मन मौजी : क्योंकि शराब को तुम पीते हो शराब तुम्हें नही पीतीं!

10th March 2018 at 5:37 am 0 comments

Shikha Singh _ फ़र्रुख़ाबाद ============== मन मौजी कई बार देखा है की लोग शराब का गिलास लेकर बैठ जाते हैं और उसके सहारे दुनिया भर का तनाव कम करने की जगह दो गुना तनाव और बड़ा लेते हैं। स्त्री हो या पुरुष शराब पीना अब आम बात हो गयी है […]

Read more ›
‘नथनी‘…और मैं……चुप देखता रहता हूं,,,,एक तरफ़ बैठा-बैठा….!!!!

‘नथनी‘…और मैं……चुप देखता रहता हूं,,,,एक तरफ़ बैठा-बैठा….!!!!

9th March 2018 at 6:09 am 0 comments

परवेज़ ख़ान =============== कोई ऐसी ख़ास बात नहीं कि आज का दिन याद रखा जाये…..सिवाये इसके कि आज अदालत में तारीख़ थी,,,आने-जाने और इससे होने वाली थकान के…..दीवानी अदालत में हवालात के सामने बन्दियों को लाने-ले जाने वाली गाड़ी जिस वक्त रुकती है तो बाहर बन्दियों के परिवार के लोग […]

Read more ›