साहित्य

सिन्दबाद की कहानी

सिन्दबाद की कहानी

29th November 2017 at 7:39 am 0 comments

फार्स में सिन्दबाद नाम का एक राजा रहता था। फार्स में सिन्दबाद नाम का एक राजा रहता था। उसके पास प्रशिक्षित बाज़ एक बाज़ था जिसे वह बहुत चाहता था और उसे अपने से अलग नहीं करता था। सिन्दबाद के आदेश से बाज़ की गर्दन में सोने का बना एक […]

Read more ›
#पांच सितारा शादी और हम….#हादसे और सोनाली

#पांच सितारा शादी और हम….#हादसे और सोनाली

29th November 2017 at 7:30 am 0 comments

सोनाली मिश्र ============== · पांच सितारा शादी और हम ************* अब शादी का कार्ड आने पर पहले की तरह नहीं होता कि जाया जाए! अजनबीपन की एक दीवार जैसे सामने खड़े हो जाती है. एक चमक, चमकीली दुनिया, महंगे से महंगे डिज़ाईनर परिधानों से सजी औरतें, सब एक आर्टिफिशियल सा! […]

Read more ›
हाँ…..मैं ग़रीब की बेटी हूं!!!!

हाँ…..मैं ग़रीब की बेटी हूं!!!!

27th November 2017 at 3:48 am 0 comments

Chaitali Khattar =============· हाँ मैं गरीब की बेटी हूं जिंदगी को सितम मैं कहती हूं मजबूरियों में भी खुश रहती हूं चंद बूंदों से पेट भर लेती हूं क्योंकि मैं गरीब की बेटी हु ठंडी में ठिठुर लेती हूं बरसात में भीग लेती हूं गर्मी पाँव जलाती है तो पत्थरों […]

Read more ›
झूठा ग़ुलाम_पार्ट 3_एक रात ख़लीफ़ा हारून ने अपने वज़ीर जाफ़र बरमकी से कहा कि मैं…!

झूठा ग़ुलाम_पार्ट 3_एक रात ख़लीफ़ा हारून ने अपने वज़ीर जाफ़र बरमकी से कहा कि मैं…!

24th November 2017 at 11:47 pm 0 comments

हमने बताया कि एक रात ख़लीफ़ा हारून रशीद अपने मंत्री जाफ़र बरमकी के साथ भेस बदल कर बग़दाद में घूम रहा था कि उसका सामना एक बूढ़े मछुआरे से हुआ। उसे उस दिन एक भी मछली नहीं मिली थी। हमने बताया कि एक रात ख़लीफ़ा हारून रशीद अपने मंत्री जाफ़र […]

Read more ›
“ऐ रंगरेज़ मेरे”

“ऐ रंगरेज़ मेरे”

23rd November 2017 at 8:50 pm 0 comments

Sushobhit Saktawat ______________ उसने उस दिन सफ़ेद लिबास पहना था! अपने रंगरेज़ के लिए ही तो! झक-सफ़ेद, हँस के पांख जैसा धवल, के जिस पर दाग़ लगाने के लिए रंग का एक छींटा भी काफ़ी था, पर उसे क्‍या पता था कि उस दिन बारिश होगी! एक दिन पहले ही […]

Read more ›
*शिव ही चन्दन है, शिव ही अभिनन्दन है!!*

*शिव ही चन्दन है, शिव ही अभिनन्दन है!!*

19th November 2017 at 11:38 pm 0 comments

Mamta Varshney —————— *शिव ही मीत है, शिव ही प्रीत है!!* *शिव ही जीवन है, शिव ही प्रकाश है!!* *शिव ही सांस है, शिव ही आस है!!* *शिव ही प्यास हैै, शिव ही ज्ञान है!!* *शिव ही ससांर है, शिव ही प्यार है!!* *शिव ही गीत है, शिव ही संगीत […]

Read more ›
‘चरित्रहीन’ स्त्री

‘चरित्रहीन’ स्त्री

18th November 2017 at 11:59 pm 0 comments

Chaitali Khattar- Kanpur  ============== स्त्री तबतक ‘चरित्रहीन’ नहीं हो सकती जबतक कि पुरुष चरित्रहीन न हो। संन्यास लेने के बाद गौतमबुद्ध ने अनेक क्षेत्रों की यात्रा की। एक बार वे एक गांव गए। वहां एक स्त्री उनके पास आई और बोली आप तो कोई राजकुमार लगते हैं। क्या मैं जान […]

Read more ›
प्रो. लहरी पेंशन से सिर्फ़ भोजन का पैसा रखते हैं, बाकी बीएचयू को दान देते हैं!

प्रो. लहरी पेंशन से सिर्फ़ भोजन का पैसा रखते हैं, बाकी बीएचयू को दान देते हैं!

17th November 2017 at 5:36 am 0 comments

Syed Tashhirul Islam =================== जिस दौर में लाशों को भी वेंटीलेटर पर रखकर बिल भुनाने से कई डॉक्टर नहीं चूकते, उस दौर में इस देवतुल्य चिकित्सक की कहानी दिल को गदगद कर देती है। जब तमाम डॉक्टर सरकारी नौकरी छोड़ प्राइवेट प्रैक्टिस से करोड़ों का अस्पताल खोलना फायदमंद समझते हैं, […]

Read more ›
”मुझे अपने बेटे के लिए एक बहू की आवश्यकता है”

”मुझे अपने बेटे के लिए एक बहू की आवश्यकता है”

17th November 2017 at 5:08 am 0 comments

Shaheen Khan ============= कुछ बेटियों को मेरी बात का बुरा जरूर लगेगा ।पर सच हैं जिन बेटियों से घर का काम नही होता।उनको कहीं पर भी जीवन में उचित सम्मान ओर उचित स्थान नही मिलता एक वकील साहब ने अपने बेटे का रिश्ता तय किया…. कुछ दिनों बाद, वकील साहब […]

Read more ›
झूठा ग़ुलाम_पार्ट 2_एक रात ख़लीफ़ा हारून ने अपने वज़ीर जाफ़र बरमकी से कहा कि मैं…!

झूठा ग़ुलाम_पार्ट 2_एक रात ख़लीफ़ा हारून ने अपने वज़ीर जाफ़र बरमकी से कहा कि मैं…!

17th November 2017 at 4:44 am 0 comments

हमने बताया था कि ख़लीफ़ा हारून रशीद अपने मंत्री जाफ़र बरमकी के साथ बदले हुए भेष में बग़दाद शहर में टहल रहा था कि उसे बूढ़ा मछुआरा नज़र आया जिसे उस दिन कोई मछली नहीं मिल पायी थी। हारून रशीद ने उससे कहा कि तुम चलो और चलकर दजला नदी […]

Read more ›