साहित्य

**दही का इन्तज़ाम**

**दही का इन्तज़ाम**

26th October 2017 at 2:42 am 0 comments

Rinku Kumar ———– गुप्ता जी जब लगभग पैंतालीस वर्ष के थे तब उनकी पत्नी का स्वर्गवास हो गया था। लोगों ने दूसरी शादी की सलाह दी परन्तु गुप्ता जी ने यह कहकर मना कर दिया कि पुत्र के रूप में पत्नी की दी हुई भेंट मेरे पास हैं, इसी के […]

Read more ›
हिंदुत्व के परचम तले गालियां और बकवास हूँ….हाँ, मैं ही विकास हूँ…!!!!

हिंदुत्व के परचम तले गालियां और बकवास हूँ….हाँ, मैं ही विकास हूँ…!!!!

23rd October 2017 at 1:35 pm 0 comments

हाँ, मैं ही विकास हूँ… – हिंदुत्व के परचम तले गालियां और बकवास हूँ, हाँ, मैं ही विकास हूँ – भक्तों की है मुझमें आस्था, मूर्खों का विश्वास हूँ, हाँ, मैं ही विकास हूँ – आता जाता कुछ नहीं मुझको, बोलता पर बिंदास हूँ, हाँ, मैं ही विकास हूँ – […]

Read more ›
व्यापारी और दैव्य की कहानी : पार्ट 2

व्यापारी और दैव्य की कहानी : पार्ट 2

22nd October 2017 at 10:04 pm 0 comments

हमने बताया था कि एक व्यापारी जो बहुत यात्रा पर रहता था हमने बताया था कि एक व्यापारी जो बहुत यात्रा पर रहता था, कार्यक्रम के अनुसार एक बार यात्रा पर निकला, रास्ते में थकावट दूर करने के लिए एक वृक्ष के नीचे साए में बैठ गया और पोटली से […]

Read more ›
*।।••(( “बेटी है तो कल है” ))••।।*

*।।••(( “बेटी है तो कल है” ))••।।*

22nd October 2017 at 6:59 pm 0 comments

Chaitali Khattar – Kanpur · ========== *।।••(( “बेटी है तो कल है” ))••।।* आजादी के बाद से हमारा देश विभिन्न क्षेत्रों में प्रगति कर रहा हैं. मगर 70 सालों बाद भी स्त्री को समाज में वह स्थान नही मिल पाया हैं. जिसकी वह असली हकदार हैं. यही वजह हैं कि […]

Read more ›
पार्ट 1 : व्यापारी और दैव्य की कहानी!

पार्ट 1 : व्यापारी और दैव्य की कहानी!

22nd October 2017 at 1:13 am 0 comments

प्राचीन समय में एक व्यापारी था उसने बड़ी दुनिया देखी थी और वह अच्छे और बुरे समय का अनुभव कर चुका था। वह दूर- दूर के नगरों और समुद्र की यात्रा करता था। एक बार यात्रा करने के उद्देश्य से वह घर से निकला। चलता- चला गया। उसने जो रास्ता […]

Read more ›
प्रखर सूर्य के जैसा चमको…सद्चरित्र उत्थान लिखो तुम //*जन्मदिन मुबारक़\\*

प्रखर सूर्य के जैसा चमको…सद्चरित्र उत्थान लिखो तुम //*जन्मदिन मुबारक़\\*

21st October 2017 at 7:01 am 0 comments

@रश्मि शाक्य # =========== मेरे जन्मदिन पर ये गीत आपके बीच- जीवन पथ है बहुत कठिन पर संकल्पित जयगान लिखो तुम। एक अलग पहचान लिखो तुम ।। यौवन का उत्कर्ष अनूठा तन मन का संघर्ष अनूठा । तर्क कल्पना प्रेम अलंकृत काम भाव आकर्ष अनूठा । प्रखर सूर्य के जैसा […]

Read more ›
भात, भात, भात,,,,थोड़ा हमको *भात* चाहिए//\\अनूप मणि त्रिपाठी//\\

भात, भात, भात,,,,थोड़ा हमको *भात* चाहिए//\\अनूप मणि त्रिपाठी//\\

19th October 2017 at 9:15 pm 0 comments

भात भात भात भात भात भात थोड़ा हमको चाहिए भात भात भात माँ भारती की जय हम भी तो बोलते हो वोट मांगते तो दर को खोलते सरकार जो बन गई सरकार करें बात भात भात भात थोड़ा हमको चाहिए भात भात भात चूल्हें की आग ठंडी पर हर तरफ […]

Read more ›
खिड़की के बाहर संस्कार, संस्कृति, मयार्दा, लोकलज्जा बेशर्मी से खिसियानी हंसी हंस रहे थे!

खिड़की के बाहर संस्कार, संस्कृति, मयार्दा, लोकलज्जा बेशर्मी से खिसियानी हंसी हंस रहे थे!

18th October 2017 at 9:06 pm 0 comments

Pratima Jaiswal ————————- …और एक बार फिर से ‘संपादक महोदय’ को ये कहानी अश्लील लगी. सुहागरात की संस्कारी रात शादी का सर्कस खत्म हो चुका था. सब अपने-अपने मकसद को पूरा करके जाने की तैयारी में थे. किसी को अपने 23 कैरेट के जेवर दिखाने थे, तो किसी को रिश्तेदारों […]

Read more ›
HAPPY DIWALI *उस रोज़ ‘दिवाली’ होती है*अटल बिहारी वाजपेयी की कविता*

HAPPY DIWALI *उस रोज़ ‘दिवाली’ होती है*अटल बिहारी वाजपेयी की कविता*

18th October 2017 at 9:00 pm 0 comments

Chaitali Khattar – Kanpur  ************** आज दिवाली इस पावन त्यौहार शुभ पर्व पे आज के इस दौर अटल बिहारी वाजपेयी अटल जी जैसे व्यक्ति प्रेरणा स्त्रोत है पहले भारतीय प्रधान मंत्री जो कि कांग्रेस दल के नही थें लेखक राजनेता व् कवि पद्म विभूषन भारत रत्न , ये मेरे लिए […]

Read more ›
#मुहब्बत की झूठी कहानी पे रोए – डा.मधुसूदन उपाध्याय का लेख!

#मुहब्बत की झूठी कहानी पे रोए – डा.मधुसूदन उपाध्याय का लेख!

18th October 2017 at 2:53 am 0 comments

और यह भी कि दुनिया के हर ताजमहल की कहानी में एक शाहजहां होता है एक मुमताज होती है और कहानी के उत्तरार्ध में होता है एक पुरूषोत्तम नागेश ओक। ताज एक छल है और मुमताज एक ड्रामा। मुमताज! सामान्यतः माना जाता है कि वो बहुत खूबसूरत और समर्पित पत्नी […]

Read more ›