साहित्य

अफ़सोस : पैसा देकर लड़की भेजी जा रही है!!!

अफ़सोस : पैसा देकर लड़की भेजी जा रही है!!!

9th April 2018 at 10:55 pm 0 comments

जान अब्दुल्लाह ============= शाहनवाज़ ( बदला हुआ नाम) और शबाना ( बदला हुआ नाम) दोनो एक दूसरे से प्यार करते थे दोनो ने निकाह कर लिया। निकाह के बाद दोनों ने बच्चे हुए 2 बच्चे हो गए, अब शादी में वो आनंद भी न रहा परमानंद की तलाश में शाहनवाज़ […]

Read more ›
1 घंटे बाद मुझे संयोग से चिक्की अधमरी हालत में मिल गई !~!!!

1 घंटे बाद मुझे संयोग से चिक्की अधमरी हालत में मिल गई !~!!!

5th April 2018 at 3:31 am 0 comments

Pratima Jaiswal ==================== जब मैं किसी भूखे कुत्ते को बिस्किट खिलाती हूं, तो आसपास के लोग देखकर कहते हैं कि यही बिस्किट किसी भिखारी को खिला देती. जब मैं किसी कुत्ते को पीटते हुए देखती और उसे बचाने की कोशिश करती हूं, तो सुनने को मिलता है कि इस देश […]

Read more ›
व्यंग तरंग : कसम से आज पहली अप्रैल है, वही दिनों की फिर दरकार है कसम से,,,,

व्यंग तरंग : कसम से आज पहली अप्रैल है, वही दिनों की फिर दरकार है कसम से,,,,

1st April 2018 at 12:10 am 0 comments

Jeffrey Partap ================= आज का दिन बड़ा कमाल है कसम से आज पहली अप्रैल है रखी गयी थी नींव कल चन्द देश पतन सूत्रिया कार्यकर्मो की चार साल पहले बोली लगी धर्मो की उसकी आज दंगो रूपी फसल तैयार है कसम से आज पहली अप्रैल है नोटबन्दी की बात पुराणी […]

Read more ›
“Who’s Coming to Dinner” : यह शादी दोनो में से किसी के हित में नहीं है!

“Who’s Coming to Dinner” : यह शादी दोनो में से किसी के हित में नहीं है!

31st March 2018 at 2:06 am 0 comments

अमरीकी समाज में नस्लभेद की समीक्षा, “Who’s Coming to Dinner” हूज़ कमिंग टू डिनर। हालीवुड में बनने वाली इस फ़िल्म के डायरेक्टर का नाम है, Stanley Kramer, हूज़ कमिंग टू डिनर नामक फ़िल्म उस काल की फ़िल्म है जब अमरीका में रहने वाले श्यामवर्ण के लोग अपने अधिकारों के लिए […]

Read more ›
नयी सरकार बनी, पहले भ्रष्टाचार के बहुत खिलाफ़ थे,,,एक IPS अधिकारी का सरकारी वयवस्था पर तंज़!

नयी सरकार बनी, पहले भ्रष्टाचार के बहुत खिलाफ़ थे,,,एक IPS अधिकारी का सरकारी वयवस्था पर तंज़!

31st March 2018 at 12:22 am 0 comments

Amitabh Thakur =================== गलत सन्देश नयी सरकार बनी, एक नए मंत्री कहीं दिखे, पहले भ्रष्टाचार के बहुत खिलाफ थे, भ्रष्टाचारियों पर कठोरतम कार्यवाही की अनवरत मांग करते थे, भ्रष्टाचार मिटाने की बात करते नहीं थकते थे. किसी भले आदमी ने उनकी बातों को हकीकत समझ लिया, मेरे सामने उन्हें कहा, […]

Read more ›
मुझसे प्यार करने वाले लोग मुझे ज़हरीला न बनने देने के लिए काफ़ी हैं

मुझसे प्यार करने वाले लोग मुझे ज़हरीला न बनने देने के लिए काफ़ी हैं

29th March 2018 at 5:16 pm 0 comments

Pratima Jaiswal =============== हमारे कुछ गिने-चुने अपने लोग हमें जहरीला बनने से रोके हुए हैं। उनका होना ही हमारे अंदर जहर को हमेशा के लिए और पूरी तरह फैलने नहीं देता। हम रूखे तो हुए हैं लेकिन इतना जहरीला नहीं हो पाते कि सड़क पर घूमते किसी कुत्ते को लात […]

Read more ›
*नौजवान और बुढिया*

*नौजवान और बुढिया*

28th March 2018 at 11:48 pm 0 comments

‎Tabassum Shaikh Kashid‎ —————————- सड़क के किनारे एक औरत झुंझलाई सी खड़ी थी। और सामान की गठरी इस के सामने पड़ी थी। वो इस बात की मुन्तजिर थी के कोई मजदुर मिल जाए जो इसका सामान मंजिले मकसूद तक पहोचाए। इत्तेफाक की बात उधरसे एक नौजवान का गुजर हुआ। परेशान […]

Read more ›
तो यह उसे उसके रोग से ज्यादा दर्द देता!

तो यह उसे उसके रोग से ज्यादा दर्द देता!

28th March 2018 at 11:29 pm 0 comments

Er Himanshu Mittal Gupta =============== एक आदमी ने एक बहुत ही खूबसूरत लड़की से शादी की। शादी के बाद दोनो की ज़िन्दगी बहुत प्यार से गुजर रही थी। वह उसे बहुत चाहता था और उसकी खूबसूरती की हमेशा तारीफ़ किया करता था। लेकिन कुछ महीनों के बाद लड़की चर्मरोग (skinDisease) […]

Read more ›
मोहब्बत की इंतहा इश्क़ है तो इश्क़ की इंतेहा क्या है ?

मोहब्बत की इंतहा इश्क़ है तो इश्क़ की इंतेहा क्या है ?

27th March 2018 at 1:17 am 0 comments

Shariq Husain Aligarian =========== नीचे तस्वीर में जो शख्स है उसका नाम जाफ़र है, इसकी पैदाइश 1977ई० में हुई थी, यह मइशत (ECONOMY) का स्टूडेंट था , तालीमी दौर में एक लड़की मरयम से मुलाक़ात हुई इसने उससे मोहब्बत की , और मोहब्बत भी ऐसी जो अकीदत पाकीज़गी और एहतराम […]

Read more ›
अनारकली ऑफ़ आरा – सरला माहेश्वरी

अनारकली ऑफ़ आरा – सरला माहेश्वरी

26th March 2018 at 8:33 pm 0 comments

By – Arun Maheshwari =============== अनारकली ऑफ़ आरा ! -सरला माहेश्वरी अनारकली ऑफ आरा वाह ! तुम्हारा पारा ग़ुस्सा तुम्हारा खारा खारा बजबजाता शहर आरा नंगा बेचारा उस पर टमाटर जैसा चेहरा बन गया अंगारा क्या खूब ललकारा ! धो धो कर मारा धूम मचाकर मारा कुलपति को भरे बाजार […]

Read more ›