ब्लॉग

कार्ल मार्क्स : धर्म के प्रति नफ़रत से विचार के एक नये धरातल तक!

कार्ल मार्क्स : धर्म के प्रति नफ़रत से विचार के एक नये धरातल तक!

6th August 2017 at 12:55 pm 0 comments

Sagar_parvez ————————- कार्ल मार्क्स : जिसके पास अपनी एक किताब है धर्म के प्रति नफरत से विचार के एक नये धरातल तक यह सच है कि मार्क्स ने धर्म को हमेशा एक भूल, एक भ्रम माना। अपने वैचारिक जीवन का प्रारम्भ उन्होंने धर्म के प्रति सख्त नफरत के साथ किया […]

Read more ›
जनसत्ता की दो खबरों के शीर्षक देखिये!

जनसत्ता की दो खबरों के शीर्षक देखिये!

5th August 2017 at 9:59 pm 0 comments

Wasim Akram Tyagi ———————– जनसत्ता की दो खबरों के शीर्षक देखिये (1) मुसलमान पोती से शादी करते हैं। (2) मुस्लिम टीचर ने सोशल मीडिया पर डाली छात्रा के साथ आपत्ती जनक फोटो। यह शीर्षक इतना बताने के लिये काफी है कि मीडिया ने मुसलमानों और इस्लाम को बदनाम करने की […]

Read more ›
नाम बदलने का चलन : द्रोणाचार्य जैसे व्यक्ति पर खेल पुरस्कार क्यों??

नाम बदलने का चलन : द्रोणाचार्य जैसे व्यक्ति पर खेल पुरस्कार क्यों??

5th August 2017 at 9:13 pm 0 comments

Seema Passi ——————– नाम बदलने का चलन शुरू किया गया है, मुस्लिम नाम वाले कई स्थानों और शहरों के नाम बदले गये है या बदलने का प्रस्ताव है । इसमें कुछ भी गलत नहीं है क्योंकि ये सभी वो आक्रमणकारी थे जिन्होंने देश में जमकर उत्पात मचाया, लोगों को गुलाम […]

Read more ›
क्या सीपीएम में बहुमतवादियों ने पार्टी को फिर एक बार तोड़ने का निर्णय ले लिया है?

क्या सीपीएम में बहुमतवादियों ने पार्टी को फिर एक बार तोड़ने का निर्णय ले लिया है?

5th August 2017 at 3:38 am 0 comments

Sagar_parvez ———————– ऐसा लगता है कि सीपीआई(एम) में प्रकाश करात के नेतृत्व में बहुमतवादियों ने भाजपा के खिलाफ एकजुट प्रतिरोध में कांग्रेस को शामिल करने के मामले में चल रहे मतभेदों को उनकी अंतिम परिणति तक ले जाने, अर्थात पार्टी को तोड़ डालने तक का निर्णय ले लिया है । […]

Read more ›
चरमपंथ के ख़िलाफ़ सेना का साथ क्यों दे रहे कश्मीरी?

चरमपंथ के ख़िलाफ़ सेना का साथ क्यों दे रहे कश्मीरी?

4th August 2017 at 10:19 pm 0 comments

बशीर मंज़र – वरिष्ठ पत्रकार —————— पिछले दो महीनों से कश्मीर घाटी में जारी हिंसक विरोध प्रदर्शनों को रोकने की कार्रवाइयों में खासा वृद्धि हुई है. खासकर उस दक्षिणी हिस्से में जिसे नई पीढ़ी के चरमपंथ का गढ़ माना जाता है. जून-जुलाई 2017 के महीने में लश्कर-ए-तैयबा प्रमुख अबू दुजाना […]

Read more ›
”लिंचिंग” का अर्थ है भीड़ द्वारा पीट-पीट कर मार दिया जाना, लिंचिंग कौन करता है?

”लिंचिंग” का अर्थ है भीड़ द्वारा पीट-पीट कर मार दिया जाना, लिंचिंग कौन करता है?

4th August 2017 at 5:48 pm 0 comments

Safdar Shaikh ————————– ” लिंचिंग ” का अर्थ है भीड़ द्वारा पीट पीट कर मार दिया जाना, भारत में आजकल यह बढ़ता जा रहा है, हम सब को इसके बढ़ने के कारणों पर विचार करना चाहिए, ताकि इसे रोका जा सके, लिंचिंग कौन करता है,? लिंचिंग उस समुदाय के लोग […]

Read more ›
”बौखला गया अवैध आतंकवादी देश इस्राईल”

”बौखला गया अवैध आतंकवादी देश इस्राईल”

4th August 2017 at 12:21 am 0 comments

अगर इस्लामी गणतंत्र ईरान के अधिकारियों से फ़िलिस्तीनी संगठन हमास के नेताओं की मुलाक़ात होती है तो आजकल यह कोई अचरज की बात नहीं है विशेषकर इसलिए कि आंतरिक चुनाव के नतीजे में उच्च नेतृत्व में बदलाव हुए हैं और इसमाईल हनीया हमास के राजनैतिक विभाग के प्रमुख बन गए […]

Read more ›
तीसरे विश्व युद्ध की कितनी आशंका है?

तीसरे विश्व युद्ध की कितनी आशंका है?

3rd August 2017 at 10:45 pm 0 comments

हालिया महीनों में संसार की अनेक परमाणु संपन्न शक्तियों के बीच तनाव में बहुत अधिक वृद्धि हुई है। अमरीका, रूस, चीन और उत्तरी कोरिया और इसी तरह भारत व पाकिस्तान के बीच तनाव निरंतर बढ़त जा रहा है। उत्तरी कोरिया के नेता किम जोंग ऊन ने, 4 जुलाई को जब […]

Read more ›
मज़हब और सियासत का घालमेल कितना ख़तरनाक़ होता है!

मज़हब और सियासत का घालमेल कितना ख़तरनाक़ होता है!

3rd August 2017 at 10:41 pm 0 comments

Azhar Shameem ———————— मज़हब और सियासत का घालमेल कितना खतरनाक होता है इसे जानने के लिए अफगानिस्तान और पाकिस्तान के राजनैतिक और घरेलु हालात को देखा जा सकता है। अच्छा भला देश अफगानिस्तान मज़हबी सियासत की वजह से बर्बाद हो गया। और शिद्दतपसंदी ने आतंक और बर्बादी का रास्ता अख्तियार […]

Read more ›
भाई लाइटिंग पर इतना फ़िज़ूल क्यो बहाते हो!!!

भाई लाइटिंग पर इतना फ़िज़ूल क्यो बहाते हो!!!

2nd August 2017 at 8:25 pm 0 comments

Abu Habib Sidra ———————- पाकिस्तान में एक ट्रेंड है। है क्या अभी चला है। वह यह कि मोहम्मद साहब ( सल अल्लाहू अलैहि वसल्लम) की पैदाइश के दिन वहाँ मोहल्ले वाले लाइटिंग करते है। बाकायदा अघोषित कॉम्पिटिशन चलता है कि कौन कितने लाख की लाइटिंग करवाएगा। एक मोहल्ला 1 लाख […]

Read more ›