ब्लॉग

अरब कुछ तो शर्म करो, इतिहास अमरीका और इस्राईल को कभी माफ़ नहीं करेगा!!रजब तैयब अर्दोग़ान!!

अरब कुछ तो शर्म करो, इतिहास अमरीका और इस्राईल को कभी माफ़ नहीं करेगा!!रजब तैयब अर्दोग़ान!!

17th May 2018 at 6:15 pm 0 comments

तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब अर्दोग़ान की उन बातों से हम पूरी तरह सहमत हैं जो उन्होंने लंदन यात्रा के दौरान ग़ज़्ज़ा पट्टी की सीमा पर इस्राईली सैनिकों के हाथों फ़िलिस्तीनियों के नरसंहार की आलोचना में कहीं। उन्होंने कहा कि इतिहास अमरीका और इस्राईल को अमरीकी दूतावास बैतुल मुक़द्दस स्थानान्तरित […]

Read more ›
सऊदी युवराज मोहम्मद बिन सलमान कहां हैं?

सऊदी युवराज मोहम्मद बिन सलमान कहां हैं?

16th May 2018 at 2:17 am 0 comments

सऊदी युवराज मोहम्मद बिन सलमान को लेकर अब सऊदी अरब और विशेषकर राजकुमारों में सुगबुगाहट होने लगी है। कुछ पश्चिमी मीडिया ने ऐसी रिपोर्टें देना शुरू कर दिया है कि आले सऊद शासन के युवराज मोहम्मद बिन सलमान 21 अप्रैल 2018 को रियाज़ में स्थित रॉयल पैलेस में हुई गोलीबारी […]

Read more ›
”कांग्रेस जीतने के बाद भी लगातार हार रही है”

”कांग्रेस जीतने के बाद भी लगातार हार रही है”

16th May 2018 at 12:11 am 0 comments

Joher Siddiqui ============== कांग्रेस को राहुल गांधी के अलावा विकल्प देखना चाहिए, वर्णा कांग्रेस जिसे भारत की आत्मा तक समझा जाता रहा है, वो मर जाएगी। आज कर्नाटक चुनाव का रिजल्ट आया है, कांग्रेस को कर्नाटक की 38% जनता ने वोट दिया जबकि उसे सिर्फ 66 सीटें मिली है। वहीं […]

Read more ›
राजनैतिक सौदेबाज बनें मुसलमान

राजनैतिक सौदेबाज बनें मुसलमान

14th May 2018 at 5:07 pm 0 comments

Parvez Iqbal ●***************************● मैने हाल ही में सोश्यल मीडिया पर एक पोस्ट डाली थी जिसमे मेने कहा था कि”कांग्रेस ये साबित करने में लगी है कि “कांग्रेस ‘सिर्फ’ मुसलमानों की पार्टी नहीं है”.. अब वक़्त आ गया है कि मुसलमानों को भी साबित करना चाहिए कि “मुसलमान ‘सिर्फ’ कांग्रेस के […]

Read more ›
आरएसएस के बारे में दोबारा सोचो : आलेख • जगदीश्वर चतुर्वेदी

आरएसएस के बारे में दोबारा सोचो : आलेख • जगदीश्वर चतुर्वेदी

14th May 2018 at 1:51 am 0 comments

सवाल यह है आरएसएस ने जनता का दिल कैसे जीता? क्या भारत संकीर्णतावादी देश है? मेरे मथुरा में आरएसएस के जितने परिचित थे वे कभी गाली नहीं देते थे। मधुरभाषी थे, मिठाईप्रेमी थे, चाय पीना पसन्द कम करते थे। फेसबुक के जन्म, इन्टरनेट आगमन और आरएसएस के साइबर सैल के […]

Read more ›
संघ की विचारधारा क्या है, इसका लक्ष्य क्या है, 80% संघी यह नहीं जानते : Dr. B.N. Singh का आलेख

संघ की विचारधारा क्या है, इसका लक्ष्य क्या है, 80% संघी यह नहीं जानते : Dr. B.N. Singh का आलेख

14th May 2018 at 1:39 am 0 comments

मैं 38 साल राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में रहा हूँ और ओटीसी भी किया हूँ। मैं कक्षा चार से ही संघ में गिरफ़्तार हो गया था और अटल जी [अटलबिहारी वाजपेयी] तक रहा। वैसे 1988 से ही संघ से मेरा मोहभंग हो गया था पर कुछ व्यक्तिगत संबंधों के कारण जैसे […]

Read more ›
भगतसिंह, नेहरू और भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री……..अव्यक्त

भगतसिंह, नेहरू और भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री……..अव्यक्त

14th May 2018 at 1:35 am 0 comments

Pawan Karan =============== 9 अगस्त, 1929 को जवाहरलाल नेहरू लाहौर सेंट्रल जेल में भगतसिंह और उनके साथियों से मिलने गए थे। प्रसंगशः उल्लेख करना पड़ रहा है कि नेहरू उस दौरान भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष भी थे। अगले दिन यानी 10 अगस्त, 1929 को ‘दी ट्रिब्यून’ अखबार में इसपर […]

Read more ›
इसलिए बौखलाए हैं इस्राईली……!

इसलिए बौखलाए हैं इस्राईली……!

13th May 2018 at 9:50 pm 0 comments

. सीरिया के कुछ इलाक़ों पर इस्राईल की ओर से मिसाइलों की बारिश कोई नयी बात नहीं है क्योंकि पिछले कुछ बरसों के दौरान इस्राईली युद्धक विमानों ने 100 से अधिक बार इस तरह से सीरिया पर हमले किये हैं सौ हमलों की बात खुद इस्राईली वायु सेना के प्रमुख […]

Read more ›
ये सब आप पत्रकार लोगों के दिमाग की बातें हैं, हम ऐसा कुछ भी नहीं कर सकते!

ये सब आप पत्रकार लोगों के दिमाग की बातें हैं, हम ऐसा कुछ भी नहीं कर सकते!

13th May 2018 at 2:36 pm 0 comments

मेरे एक रिश्तेदार आईएएस अधिकारी हैं। कुछ ही दिन पहले कलेक्टर बने हैं। कल शाम को मैं उनसे मिलने गया था। मैंने उन्हें बधाई दी और कहा कि अब आप अपने जिले के मालिक हैं, उसे चाहें तो सिंगापुर बना सकते हैं। मेरे रिश्तेदार हंसे। कहने लगे कि संजय जी, […]

Read more ›
सरदार पटेल और आरएसएस का झंडा विवाद – ‘भगवा ध्वज के पीछे रहस्य’

सरदार पटेल और आरएसएस का झंडा विवाद – ‘भगवा ध्वज के पीछे रहस्य’

12th May 2018 at 12:16 pm 0 comments

Abhay Vivek Aggroia =============== जीने और लिखने के लिए लेखक को पैसा कमाना चाहिए, लेकिन किसी भी सूरत में उसे पैसा कमाने के लिए जीना और लिखना नहीं चाहिए सावरकर दो राष्ट्र राष्ट्र सिद्धांत को बढ़ावा देने वाले पहले व्यक्ति थे। उन्होंने इसे पहले 1 9 23 में हिंदुत्व में […]

Read more ›