ब्लॉग

फ़िलिस्तीनी मुद्दे के हल पर एक नज़र

फ़िलिस्तीनी मुद्दे के हल पर एक नज़र

12th June 2018 at 6:54 pm 0 comments

फ़िलिस्तीन संकट, पिछले 70 वर्षों से मध्यपूर्व के चुनौती भरे मुद्दों में से एक है। फ़िलिस्तीन संकट, पिछले 70 वर्षों से मध्यपूर्व के चुनौती भरे मुद्दों में से एक है। यह मुद्दा इतना संवदेनशील है कि इसने पश्चिम एशिया के संवेदनशील क्षेत्र की सुरक्षा को बहुत अधिक प्रभावित किया है […]

Read more ›
उसके बाद आरएसएस भाजपा सरकार ने कहा कि ये नहीं चलेगा

उसके बाद आरएसएस भाजपा सरकार ने कहा कि ये नहीं चलेगा

12th June 2018 at 3:35 pm 0 comments

Satyendra PS ================ उत्तर प्रदेश उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग ने कुछ रोज पहले डिग्री कॉलेजों के शिक्षा संकायों के लिए असिस्टेंट प्रोफेसर की39 वैकेंसी निकाली। 27 प्रतिशत ओबीसी आरक्षण के मुताबिक 12 सीटें किसी तरह रिजर्व की गईं। उसके बाद आरएसएस भाजपा सरकार ने कहा कि ये नहीं चलेगा, विभागीय […]

Read more ›
बोल्ड और अश्लीलता में फ़र्क़ न समझ पाने की अपनी मजबूरी?

बोल्ड और अश्लीलता में फ़र्क़ न समझ पाने की अपनी मजबूरी?

12th June 2018 at 6:08 am 0 comments

सोनाली मिश्र ============= हाल ही में रिलीज़ हुई वीरे दी वेडिंग ने एक बार फिर से बोल्ड और अश्लीलता में फर्क की बहस को जन्म दे दिया है. कहा जा रहा है कि इस फिल्म में बोल्डनेस की हदें पार की गयी हैं, मगर कई बार आप ठहर कर सोचना […]

Read more ›
तस्वीर नही तमाचा है ये

तस्वीर नही तमाचा है ये

12th June 2018 at 5:41 am 0 comments

Rahul Vikas ================ उस स्कूली सिस्टम पर जो लोककल्याणकारी राज्य की संवैधानिक जिम्मेदारी है ! जर्जर सरकारी विद्यालय को उपयोग लायक बनाने के जद्दोजहद से गुजरते इस दृश्य को आंखों में बसा लीजिये ! सरकारी विद्यालय के छप्पर पर बैठा यह नौजवान कोई छप्पर बनाने वाला मिस्त्री नही बल्कि इस […]

Read more ›
यदि दुबारा यह ग़लती की तो फिर तुम्हारे आंसू पोंछने वाला कोई नहीं होगा

यदि दुबारा यह ग़लती की तो फिर तुम्हारे आंसू पोंछने वाला कोई नहीं होगा

12th June 2018 at 5:07 am 0 comments

काला नहीं देखी हो, तो देख लीजिए। आज फ़िल्म काला देखी। यह फ़िल्म देखने से बहुत आसानी से दर्शक को यह समझ में आता है कि देश की तमाम झुग्गी बस्तियों के साथ हमारा सिस्टम क्या कर रहा है! आदिवासी, दलित, किसानों और दबे-कुचले तबकों के साथ कैसे पेश आ […]

Read more ›
क़ौम तरक्क़ी चाहती है…तो पूरा निज़ाम भी बदलाव चाहता है!Sara Nilofar!

क़ौम तरक्क़ी चाहती है…तो पूरा निज़ाम भी बदलाव चाहता है!Sara Nilofar!

12th June 2018 at 1:55 am 0 comments

Sara Nilofar ============== आसनसोल की एक मस्जिद के इमाम मौलाना इमदादुल्लाह रशीदी याद हैं आपको? दंगे में अपना जवान बेटा खोने के बावजूद, उन्होंने मुसलमानों से बदले की भावना त्यागने और इलाके में शांति बनाए रखने की अपील की थी। इस दर्दनाक घटना ने मुझे मौलवियों के जीवन स्तर, आमदनी, […]

Read more ›
क़ुद्स दिवस का क्यों है इतना महत्व, जानिये!

क़ुद्स दिवस का क्यों है इतना महत्व, जानिये!

11th June 2018 at 3:39 am 0 comments

ईरान की इस्लामी क्रान्ति और इस्लामी लोकतांत्रिक व्यवस्था के संस्थापक इमाम ख़ुमैनी पवित्र महीने रमज़ान के अंतिम जुमे को फ़िलिस्तीन की पीड़ित जनता के समर्थन के उद्देश्य से विश्व क़ुद्स दिवस घोषित कर दिया। हम एक बार फिर विश्व क़ुदस दिवस मनाने जा रहे हैं जबकि इस समय हालात यह […]

Read more ›
मेरी आत्म कथा से ,,,आते जाते लम्हे…मेहदी अब्बास रिज़वी

मेरी आत्म कथा से ,,,आते जाते लम्हे…मेहदी अब्बास रिज़वी

10th June 2018 at 4:31 am 0 comments

Mehdi Abbas Rizvi =============== मेरी आत्म कथा से ,,, ( आते जाते लम्हे ) तब हम हिमालय में थे, हमारी पोस्टिंग भारत चीन सीमा पर स्थित चमोली गढ़वाल में थी, चमोली उस समय उत्तर प्रदेश का पहाड़ी जनपद हुआ करता था। यूँ तो मेरे पास बहुत सा कार्य था मगर […]

Read more ›
ये नेता बहुरूपिये हैं, किसी भी रूप में दल बदल कर दमन चक्र चलाते रहेंगे

ये नेता बहुरूपिये हैं, किसी भी रूप में दल बदल कर दमन चक्र चलाते रहेंगे

10th June 2018 at 3:21 am 0 comments

Abhay Vivek Aggroia ================= बाते हैं बातों का क्या — =अभय== प्रणब मुखर्जी आप जन आंदोलन की तैयारी और नेतृत्व करें तो जाने आपका देस के प्रति प्रेम? यह भी नौटंकी है – वही नेहरू और गाँधी – क्रांतिकारियों का कोई इतिहास ही नहीं छोड़ा – न कांग्रेसियों और न […]

Read more ›
हम मुसलमान है साहब।हमें मोहब्बत है इस मिट्टी से

हम मुसलमान है साहब।हमें मोहब्बत है इस मिट्टी से

9th June 2018 at 5:53 am 0 comments

Sikander Kaymkhani ============= हम मुसलमान है साहब। हमें कुतुब मीनार सी ऊँचाई ताजमहल सी खूबसूरती और लाल किले सी मजबूती देने का हुनर बखूबी आता है। हम मुसलमान है साहब हिंदुस्तान के मुसलमान। हमने इसी मिट्टी में जन्म लिया हम इसी मिट्टी मे पलकर बड़े हुए है और मरकर इसी […]

Read more ›