ब्लॉग

” “पूरी दुनिया के लोगों, सोना मत…”आप कुछ कर सकते हो”

” “पूरी दुनिया के लोगों, सोना मत…”आप कुछ कर सकते हो”

December 27, 2016 at 11:47 pm 0 comments

हमने आपनो का दर्द देखा, हमने हजारो दंगों में मारे गए लोगों के परिवार का दर्द देखा जो हमारे दिल को झंझोर देता है, हमारे आंसु थमते नहीं, अरे यहां तक कुछ लोगों ने फ्रांस एवं अमेरिका में हुए गोलीबारी में कत्ल का दर्द महसूस कर अपनी प्रोफाइल को उनके झंडे से रंग डाला था। परंतु सीरिया दर्द की हर […]

Read more ›
सीरिया और बर्मा में नागरिको के नरसंहार पर दुनिया क्यों चुप है!!!!

सीरिया और बर्मा में नागरिको के नरसंहार पर दुनिया क्यों चुप है!!!!

December 26, 2016 at 6:05 pm 0 comments

इस समय विश्व भर मैं मुस्लमान चिंता और पीड़ा की एक अजीब सी स्थिति से जूझ रहे हैं, क्योंकि उनकी नज़रों के सामने निर्दोष मुसलमानों के खून की नदियां बह रही हैं, उन्हें मूली और गाजर की तरह काटा जा रहा है। कहीं उनके मकानों को बम्बारी द्वारा गिराया जा रहा है तो कहीं जला दिया जा रहा है और […]

Read more ›
मोदी का वजूद देश के लिये घातक साबित हो रहा है!

मोदी का वजूद देश के लिये घातक साबित हो रहा है!

December 26, 2016 at 5:02 pm 0 comments

Sharif Khan **************************************** जिस देश में * दिल के मरीज़ को इलाज के लिये अपने ही धन को निकालने के लिये बिस्तर से उठ कर बैंक की लाईन में लगना पड़े और कई घण्टे समय गुज़रने पर भी वह बैंक की खिड़की तक न पहुंच सके और इसी अन्तराल में वह मर जाए। * अस्पताल में इलाज के लिये किसी […]

Read more ›
आजतक किसी भी प्रधानमंत्री ने रईसों को गले लगाने के लिए इस तरह खुलकर आम लोगों को नहीं रौंदा!

आजतक किसी भी प्रधानमंत्री ने रईसों को गले लगाने के लिए इस तरह खुलकर आम लोगों को नहीं रौंदा!

December 26, 2016 at 1:53 am 0 comments

जो भी कहिये मोदी जी ने शानदार बंदोबस्त कर दिया है। कंपनियों को बढ़िया इन्क्रीमेंट न देने का बहाना दे दिया है। लाखों लोगों की नौकरी गयी सो अलग। छोटे कारोबारी तो बरबाद हो ही चुके है। नई हायरिंग तो भूल ही जाइये। किसान-मजदूर पर तो इनकी हिम्मत नहीं कि एक शब्द बोल दें। आजतक किसी भी प्रधानमंत्री ने रईसों […]

Read more ›
ईश्वर भजन व प्रार्थना पर विशेष–सम्पादकीय

ईश्वर भजन व प्रार्थना पर विशेष–सम्पादकीय

December 23, 2016 at 7:40 pm 0 comments

साथियों, मनुष्य जीवन में ईश्वर के भजन व प्रार्थना का बहुत महत्व होता है।ईश्वर का भजन प्रार्थना वहीं मनुष्य करता है जो ईश्वर की सत्ता को समझता और उसे मानता भी है।भजन और प्रार्थना भी मनुष्य के सुकर्मो की श्रेणी में आती हैं इससे मनुष्य जीवन अपने लक्ष्य की ओर अग्रसर होता है।भजन व प्रार्थना में इतनी ताकत होती है […]

Read more ›
जले, मरें, कुछ भी करें,…”मगर मुसलमान बन कर इस्लाम की पीठ में छूरा न भोंके”!

जले, मरें, कुछ भी करें,…”मगर मुसलमान बन कर इस्लाम की पीठ में छूरा न भोंके”!

December 22, 2016 at 4:48 am 0 comments

Mohammad Arif Dagia ———————– मैंने कई मुस्लिम बुद्धिजीवियों को देखा है जिनकी बुद्धि इतनी ज़्यादा विकसित और विस्तृत हो जाती है कि इस्लाम ,इस्लामी संस्कृति और इस्लामी तौर तरीक़ों और संस्कारों से उन्हें इतनी घृणा हो जाती है कि वे ऐसी वसीयत कर के जाते हैं कि उन्हें मरने के बाद मुस्लिम विधि से दफनाया भी न जाये बल्कि उनकी […]

Read more ›
…..एक ‘किम जोंग’ हिंदुस्तान में भी फल-फूल रहा है!

…..एक ‘किम जोंग’ हिंदुस्तान में भी फल-फूल रहा है!

December 22, 2016 at 3:37 am 0 comments

Syed Salman Simrihwin  सैयद सलमान की कलम से ——————- · 56 इंच में 56 छेद है..पर भक्ति की भंगिमा देख कर मन मन्नत हो जाता है..जालीदार छाती को चलनी से ढांपने के लिए दिहाड़ी पर दिन-रात मज़दूरी हो रही हैं..फिर भी फरेब का फव्वारा छिद्रों से छींक मार रहा है…आपको खुद पर गर्व महसूस करना चाहिए, की आप दुबारा हिटलर […]

Read more ›
मोदी को देश छोड़ कर भागने न दिया जाए!

मोदी को देश छोड़ कर भागने न दिया जाए!

December 21, 2016 at 11:05 pm 0 comments

Sharif Khan ********************************** प्रधानमन्त्री के लगातार मूर्खतापूर्ण फ़ैसलों के नतीजे में देश जिस ख़तरनाक हालत में पहुंच चुका है, उसकी व्याख्या करने की आवश्यकता नहीं है। जिस तरह इस शख़्स ने प्रधानमन्त्री पद सम्भालने के बाद स्वच्छता के नाम पर झाड़ू हाथ में ली थी वह इस बात की प्रतिज्ञा का सिम्बल थी कि “मैं पूरे देश पर झाडू फेर […]

Read more ›
किसी की पहचान ख़त्म करना भी ज़ुल्म है!

किसी की पहचान ख़त्म करना भी ज़ुल्म है!

December 21, 2016 at 4:14 am 0 comments

Sharif Khan ****************************************** दुनिया में जितने भी इन्सान पैदा होते हैं उनको अलग-अलग पहचानने के लिए अलग-अलग नाम दे दिये जाते हैं जैसे रामदास, अब्दुल्लाह आदि। एक ही नाम के कई लोग हों तो फिर पिता के, परिवार के या बिरादरी के नाम को साथ में जुड़े होने से पहचान लिये जाते हैं जैसे शर्मा, अन्सारी आदि। जब ग़ुलामी की […]

Read more ›
कौन कर रहा है नोटों की हेराफेरी?

कौन कर रहा है नोटों की हेराफेरी?

December 19, 2016 at 6:39 pm 0 comments

रवीश कुमार ———————- प्रतीकात्मक चित्र8 नवंबर को नोटबंदी के एलान के बाद के दो-तीन हफ्ते तक बैंक कर्मचारियों की साख पर किसी ने सवाल नहीं उठाये. प्रधानमंत्री से लेकर लाइन में लगा आम आदमी भी बैंक कर्मचारियों की तारीफ कर रहा है. लेकिन अब जब रोज़ छापे पड़ रहे हैं और जहां-तहां से भारी मात्रा में नए नोट बरामद हो […]

Read more ›