ब्लॉग

सनन्त सिंह का राजपूत समाज की एकता के लिये सन्देश और विचार-विमर्श?

सनन्त सिंह का राजपूत समाज की एकता के लिये सन्देश और विचार-विमर्श?

27th January 2018 at 1:36 am 0 comments

मान, सम्मान, स्वाभिमान और समाधान प्रिय, आदरणीय क्षत्रिय भाइयों और बहनों मेरा सादर प्रणाम, आज क्षत्रिय समाज की स्थिति लगभग चरमरा गई है, जैसे आर्थिक, समाजिक, राजनितिक, सांस्कृतिक व् अन्य वास्तविक व्यवस्था से हम बहुत दूर हो गये है। इसका कारण क्षत्रिय समाज का असंगठित होना । हम कमजोड़ स्थिति […]

Read more ›
सिनेमा के परदे पर अलाउद्दीन ख़िलजी

सिनेमा के परदे पर अलाउद्दीन ख़िलजी

26th January 2018 at 9:21 pm 0 comments

Sushobhit Saktawat __________________ भ्रम इस बात से उत्पन्न हो रहा है, जिसका कि पर्याप्त लाभ भी उठाया जा रहा है, कि हम इस बात को समझ नहीं सकते कि क्रूरता भी एक क़िस्म का गौरव होता है, उसे एक नायकत्व माना जाता है. क्रूरता सर्वमान्य बुराई नहीं है. वह आपके […]

Read more ›
#पद्मावत ।। ये ही है हमारा भारत ।।

#पद्मावत ।। ये ही है हमारा भारत ।।

25th January 2018 at 2:41 am 0 comments

Yusuf Ansari ============ पद्मावत पर बैन होने से इतिहास नहीं बदल सकता। रिलीज हो जाती, तो भी न बदल पाता। सिर्फ चित्रण बदलता है, घटना नहीं। यह घटना बताती है कि रजवाड़ों के दौर में औरतों की बहुत दुर्गति थी। वरना सैकड़ों औरतों का सामुहिक आत्मदाह कोई जुनून नहीं। एक […]

Read more ›
..आने वाली नस्लो की नज़रें इस इतिहास को सुनकर झुक जाएगी!

..आने वाली नस्लो की नज़रें इस इतिहास को सुनकर झुक जाएगी!

25th January 2018 at 1:41 am 0 comments

लोग कह रहे है फ़िल्म पद्मावत से मुसलमानो की भावनाएं आहत होनी चाहिए, क्योकि ख़िलजी को क्रूर और पाशविक दर्शाया गया है। हम कह रहे है “भावनाए उनकी आहत हो जिनके “तुर्क मंगोल” दामाद हुए है, हमारी भावनाएं क्यो आहत होने लगे। जिनकी घड़ी 13वी सदी में अटकी हुई है […]

Read more ›
आख़िर विदेशी मीडिया ने क्यों अनदेखा कर दिया मोदी का भाषण : रवीश कुमार की क़लम से

आख़िर विदेशी मीडिया ने क्यों अनदेखा कर दिया मोदी का भाषण : रवीश कुमार की क़लम से

24th January 2018 at 11:01 pm 0 comments

Ravish Kumar ================== स्वीट्ज़रलैंड के दावोस में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उदघाटन भाषण को भारतीय मीडिया ने प्रमुखता से छापा है। यह और बात है कि किसी ने उनके भाषण के अंतर्विरोध को छूने का साहस नहीं किया है। अगर भारत के लिए दावोस में बोलना इतना बड़ा […]

Read more ›
तब राजपूत संगठन सती प्रथा का गुणगान करते हुए…ईंट से ईंट बजाने की धमकी देते थे!

तब राजपूत संगठन सती प्रथा का गुणगान करते हुए…ईंट से ईंट बजाने की धमकी देते थे!

24th January 2018 at 5:39 am 0 comments

‘पद्मावत’ देखने के बाद फ़िल्म समीक्षा कर रहे हैं राजेश जोशी फ़िल्म पद्मावत में संजय लीला भंसाली के सिनेमा की भव्यता और तड़क-भड़क भरपूर मौजूद है: नेज़े-भाले और ढाल-तलवार लिए एक दूसरे पर टूट पड़ते हज़ारों-हज़ार घुड़सवार सैनिक, धूल के ग़ुबार से काले पड़ गए युद्ध के मैदान में आग […]

Read more ›
#डार्क नईट्स_पार्ट 5_मेरे सीधे हाथ में बंदूक थी,,,उस समय आये दिन मुसलमानों के एंकाउंटर हो रहे थे!

#डार्क नईट्स_पार्ट 5_मेरे सीधे हाथ में बंदूक थी,,,उस समय आये दिन मुसलमानों के एंकाउंटर हो रहे थे!

24th January 2018 at 4:07 am 0 comments

परवेज़ ख़ान ============= आज सुबह भी सूरज पूरब से निकला था। आज का दिन भी बाकी और दिनों की तरह शुरू हुआ लेकिन कुछ जल्दी। आज जुमे का दिन यानि 7 जुलाई 2006 को काम बहुत ज्यादा था। सुबह सवेरे उठ कर सबसे पहले जुमे की नमाज की तैयारी कर […]

Read more ›
#पद्मावत_जैसा विरोध किसी मुस्लिम पार्टी, संगठन की तरफ़ से किया गया होता तो…गयासुद्दीन तुगलक की माँ #जाट हिन्दू थी!

#पद्मावत_जैसा विरोध किसी मुस्लिम पार्टी, संगठन की तरफ़ से किया गया होता तो…गयासुद्दीन तुगलक की माँ #जाट हिन्दू थी!

24th January 2018 at 3:01 am 0 comments

अलाउद्दीन खिलजी संजय लीला भंसाली की फिल्म #पद्मावत का राजपूत बिरादरी के लोग विरोध कर रहे हैं, विरोध करने में कोई आपत्ति नहीं होना चाहिए, और किसी को है भी नहीं, हो सकता है कि किसी की बात जो हमारी समझ से परे हो सही हो, मगर विरोध में हिंसा […]

Read more ›
सोशल मीडिया पर मुसलमानों के ख़िलाफ़ तीन तरह की साज़िशें चल रही हैं!

सोशल मीडिया पर मुसलमानों के ख़िलाफ़ तीन तरह की साज़िशें चल रही हैं!

24th January 2018 at 2:39 am 0 comments

Mohammad Arif Dagia ============= सोशल मीडिया पर मुसलमानों के खिलाफ तीन तरह की साज़िशें चल रही हैं।मज़े की बात यह है।कि तीनों में ही अपने मकसद के लिए लड़कियों का इस्तेमाल किया जाता है।एक तो वह है , जिसमे कोई लड़की कहती है कि मैं पहले मुसलमान थी , लेकिन […]

Read more ›
उच्चन्यायलय में भरष्टाचार की बू…अदालत बनिया की दुकान?

उच्चन्यायलय में भरष्टाचार की बू…अदालत बनिया की दुकान?

24th January 2018 at 1:41 am 0 comments

राजपूत गण परिषद् मान, सम्मान, स्वाभिमान और समाधान उच्चन्यायलय में भरष्टाचार की बू…कानून के तबेला में? अदालत से भरोसा उठा? अदालत बनिया की दुकान? साशन, प्रसाशन और न्यायपालिका तीनो तन्त्र के व्यान से दुःखी है, राजपूत समाज? सुप्रीम कोर्ट का पद्मावत फिल्म पर एकतरफा फैसला, जो देश के लिए चिन्ता […]

Read more ›