साहित्य

हो क्या गया है,,,,,,,संघर्षों के रास्तों को,,,गीत बहुत याद आये है!!!

हो क्या गया है,,,,,,,संघर्षों के रास्तों को,,,गीत बहुत याद आये है!!!

May 23, 2017 at 5:05 am 0 comments

Anupama Pandit Jyotishacharya – Saharanpur ——————————– ज़िक्र होता है जब सरकार के नाइंसाफी की गांधी तेरे सविनय अवज्ञा आंदोलन की याद आती है बात आती है जब रास्ता अपनाने की तेरे एकता का मंत्रमाला उंगली में घूम जाती है याद आती है आंदोलन के राह भटकने की मोहन तेरे शिव […]

Read more ›
आज रिया ससुराल से दूसरी बार दामाद जी के साथ आ रही हैं

आज रिया ससुराल से दूसरी बार दामाद जी के साथ आ रही हैं

May 22, 2017 at 9:07 pm 0 comments

Dharmender Singh – Agra · ————————————- कल फोन आया था वो एक बजे ट्रेन से आ रही है. किसी को स्टेशन भेजने की बात चल ऱही थी आज रिया ससुराल से दुसरी बार दामाद जी के साथ आ रही हैं घर के माहौल में एक उत्साह सा महसूस हो रहा […]

Read more ›
“मेरे कुत्ते के साथ अजीबो ग़रीब problem हो गई है”

“मेरे कुत्ते के साथ अजीबो ग़रीब problem हो गई है”

May 20, 2017 at 3:06 pm 0 comments

Rashmi Tiwari —————————— जानवरों के डॉक्टर के पास एक Lady आई जिनके साथ एक high breed का कुत्ता था। कहने लगीं…. _”मेरे कुत्ते के साथ अजीबो गरीब problem हो गई है।_ _मेरा कुत्ता बड़ा हठी (Disobidient) हो गया है….._ _इसे अपने पास बुलाती हूँ तो ये दूर भाग जाता है। […]

Read more ›
“एक चुटकी ज़हर रोज़ाना”

“एक चुटकी ज़हर रोज़ाना”

May 19, 2017 at 8:37 pm 0 comments

खबरिया Page – Hyderabad via Tulsi Kumar Tulsi —————————- आरती नामक एक युवती का विवाह हुआ और वह अपने पति और सास के साथ अपने ससुराल में रहने लगी। कुछ ही दिनों बाद आरती को आभास होने लगा कि उसकी सास के साथ पटरी नहीं बैठ रही है। सास पुराने […]

Read more ›
कथाकहानी | “जामन का पेड़”

कथाकहानी | “जामन का पेड़”

May 19, 2017 at 7:34 pm 0 comments

#कृशनचन्दर via Pradeep Kasni ——————- रात को बड़े ज़ोर का झक्कड़ चला। सेक्रेटेरियट के लाॅन में जामन का एक दरख़्त गिर पड़ा। सुबह जब माली ने देखा तो इसे मा’लूम पड़ा कि दरख़्त के नीचे एक आदमी दबा पड़ा है। माली दौड़ा-दौड़ा चपरासी के पास गया। चपरासी दौड़ा-दौड़ा क्लर्क के […]

Read more ›
उनकी बेरूख़ी से ही मैंने शायरी करने की हिमाक़त की है….. ”सजन”

उनकी बेरूख़ी से ही मैंने शायरी करने की हिमाक़त की है….. ”सजन”

May 19, 2017 at 12:24 pm 0 comments

सजन मुरारका ———————— ऐ-दिले-शायर,जो ज़ख्म कमाये,उसीका जज़्बा है यह उल्फ़त का फ़सा ना नहीं, अदावत प्यार की है टुटा जब दिल, तराना दिल ने अख्तियार किया है मोहब्बत की क़सम शिक़ायत नहीं याद किया है रूह को नहीं चैन, ज़ुल्म की हद हो गई, महेरबां रातें उल्फ़त में जगती, दिन […]

Read more ›
आज की लड़कियां…एक शादीशुदा लड़की की सासू माँ मर गयी!!!

आज की लड़कियां…एक शादीशुदा लड़की की सासू माँ मर गयी!!!

May 19, 2017 at 2:53 am 0 comments

Bhambhani Kaushal ——————- आज की लड़कियां … एक शादीशुदा लड़की की सासू माँ मर गयी ! . . वह अपने सहेली के साथ एक कपङे के दुकान पर कफन लेने गयी ! . . बोली भैया कफन दिखाईए। दुकानदार ने कफन दिखाया | . . लङकी – भैया और कलर […]

Read more ›
**इतिहास नहीं चश्मा बदलें**

**इतिहास नहीं चश्मा बदलें**

May 17, 2017 at 11:37 pm 0 comments

Jasbir Chawla —-——••••——— मैंने हजार साल के इतिहास को साफ किया सब बादशाहों को निकाल दिया स्याही पोत दी हर नाम पर बाबर हुमायूं अकबर जहाँगीर शाहजहाँ को बेकिताब किया बहादुरशाह ज़फ़र भी निर्वासित हुए पन्ने फाड़ दिये मंगोल मुग़ल लोधी गुलामवँश के ताजमहल को तेजोमहल किया कुतुबमिनार और लाल […]

Read more ›
!!!रोज़ की जिंदिगी और ये घर!!!

!!!रोज़ की जिंदिगी और ये घर!!!

May 17, 2017 at 2:37 am 0 comments

Chandra Prakash Rai ================= एक घर है जिसके बाहर एक गेट और उससे बाहर मैं तभी निकलता हूँ जब शहर कर बाहर जाना हो या डॉक्टर के यहा जाने की मजबुरी फिर एक लान है जहा अब कभी नही बैठता किसी के जाने के बाद फिर एक बरामदा वहाँ भी […]

Read more ›
**मां** तु मोय संघी बनवा दे, जाको चाहूं वाको पीटूं,,,,””

**मां** तु मोय संघी बनवा दे, जाको चाहूं वाको पीटूं,,,,””

May 16, 2017 at 6:44 pm 0 comments

Ajmal Tirmizi – Advocate Madhya Pardesh High Court ———————— मां तु मोय संघी बनवा दे जाको चाहूं वाको पीटूं कूटू-थूकूं-जबर-घसीटूं जिसको चाहे लात लगा दूं सब धरती गुजरात बना दूं पुलिस हमाई चरनधूलि ले मौको खाकी पैन्ट सिया दे मां तु मोय संघी बनवा दे डी.यू., जे.एन.यू. मैं जाऊं जाके […]

Read more ›