साहित्य

इस्लाम और मानवाधिकार PART 7 : इस्लाम धर्म ने मानवाधिकारों को बहुत उच्च स्थान प्रदान किया है!

इस्लाम और मानवाधिकार PART 7 : इस्लाम धर्म ने मानवाधिकारों को बहुत उच्च स्थान प्रदान किया है!

December 25, 2016 at 4:39 am 0 comments

पूरे इतिहास में इंसान अपनी प्रतिष्ठा को हासिल करने के लिए मानवाधिकार की प्राप्ति में लगा रहा लेकिन दूसरे विश्व युद्ध के बाद संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना से मानवाधिकार से संबंधित बहुत ज़्यादा नियम अंतर्राष्ट्रीय समुदाय तक पहुंचे और क़ानूनी दृष्टि से सरकारों को इन अधिकारों की प्राप्ति के लिए प्रतिबद्ध बनाया। मानवाधिकार को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता मिलने […]

Read more ›
PART- 77 : : ईश्वरीय वाणी (क़ुरआन- सूरए नूह) : पवित्र क़ुरआन स्वयं अपना व्याख्याकर्ता है और इसकी कुछ आयतें, दूसरी आयतों का स्रोत हैं

PART- 77 : : ईश्वरीय वाणी (क़ुरआन- सूरए नूह) : पवित्र क़ुरआन स्वयं अपना व्याख्याकर्ता है और इसकी कुछ आयतें, दूसरी आयतों का स्रोत हैं

December 25, 2016 at 4:34 am 0 comments

सूरए नूह मक्के में नाज़िल हुआ और इसकी आयतों की संख्या 28 है। सूरए नूह मक्के में नाज़िल हुआ और इसकी आयतों की संख्या 28 है। यह सूरा जैसा कि इसके नाम से भी ज़ाहिर है हज़रत नूह अलैहिस्सलाम के जीवन की घटनाएं बयान करता है। हज़रत नूह का उल्लेख क़ुरआन के कई सूरों में हैं जिनमें सूरए शोअरा, मोमेनून, […]

Read more ›
”मेरी उम्मत का एक गिरोह “ला इलाहा इल्लल्लाह” के लिए हमेशा हक़ पर रहेगा”

”मेरी उम्मत का एक गिरोह “ला इलाहा इल्लल्लाह” के लिए हमेशा हक़ पर रहेगा”

December 24, 2016 at 9:11 pm 0 comments
Read more ›
‘”तो आप फिर ज़रूर अल्लाह के दोस्त होंगे”’

‘”तो आप फिर ज़रूर अल्लाह के दोस्त होंगे”’

December 23, 2016 at 8:06 pm 0 comments

एक बच्चा जला देने वाली गर्मी में नंगे पैर गुलदस्ते बेच रहा था लोग उसमे भी मोलभाव कर रहे थे। एक आदमी को उसके पैर देखकर बहुत दुःख हुआ, उस आदमी ने बाज़ार से नया जूता ख़रीदा और उसे देते हुए कहा “बेटा… लो…, ये जूता पहन लो….” . लड़के ने फ़ौरन जूते निकाले और पहन लिए…. . उसका चेहरा […]

Read more ›
तैमूर तुर्क नस्ल का योद्धा था जिसकी आंधी में कोई भी नहीं टिक सका!

तैमूर तुर्क नस्ल का योद्धा था जिसकी आंधी में कोई भी नहीं टिक सका!

December 23, 2016 at 7:55 pm 0 comments

  बेशक तैमूर एक ऐसा मुस्लिम विजेता और जंगजू तुर्क नस्ल योद्धा था जिसकी आंधी में कोई भी नहीं टिक सका, बहुत कम लोगों को मालूम हे कि उसने जितनी भी जंगें लड़ीं सबकी सब मुस्लिम हुकमारानो के खिलाफ लड़ीं और पूरी इस्लामी ताक़त को तोड़ कर रख दिया था, वह एक क़हर की तरह हमला करता था और सब […]

Read more ›
मुसलमानों के आचरण का उन पर इतना असर हुआ कि वह सब मुसलमान हो गये!

मुसलमानों के आचरण का उन पर इतना असर हुआ कि वह सब मुसलमान हो गये!

December 22, 2016 at 8:28 pm 0 comments

अरब सेनापति कतीबा बिन मुस्लिम ने इस्लामी युद्ध नियमों की अनदेखी करते हुए समरकंद पर विजय पा ली थी…. नियम यह था कि आक्रमण करने से पहले तीन दिन की मोहलत दी जाए लेकिन कतीबा ने ऐसा नहीं किया और यह उमर बिन अब्दुल अजीज के शासन का जमाना था समरकंद के मुख्य पादरी ने मुसलमानों की इस विजय पर […]

Read more ›
नासिरा शर्मा समेत 24 साहित्यकारों को इस वर्ष का अकादमी पुरस्कार

नासिरा शर्मा समेत 24 साहित्यकारों को इस वर्ष का अकादमी पुरस्कार

December 21, 2016 at 8:38 pm 0 comments

नयी दिल्ली 21 दिसम्बर (वार्ता)। हिन्दी की सुप्रसिद्ध लेखिका नासिरा शर्मा, अंग्रेजी के चर्चित लेखक जेरी पिंटो और उर्दू के आलोचक निजाम सिद्दिकी समेत 24 साहित्यकारों को इस वर्ष का साहित्य अकादमी पुरस्कार देने की घोषणा की गयी है। अकादमी के सचिव के .श्रीनिवासन ने आज संवाददाता सम्मलेन में इन पुरस्कारों की घोषणा की। उन्होंने बताया कि अकादमी के अध्यक्ष […]

Read more ›
मैंने इस्लाम में परिवर्तित होने पर बहुत दर्द सहे हैं, पर इस्लाम ने बहुत से तोहफे दिए हैं जिनमे से सबसे बड़ा तोहफ़ा स्वर्ग का है- आसिया अब्द अल-ज़हीर

मैंने इस्लाम में परिवर्तित होने पर बहुत दर्द सहे हैं, पर इस्लाम ने बहुत से तोहफे दिए हैं जिनमे से सबसे बड़ा तोहफ़ा स्वर्ग का है- आसिया अब्द अल-ज़हीर

December 19, 2016 at 7:29 pm 0 comments

जब से मुझे सोचने की छमता मिली और मैं गहराई से सोचने लगी, कि हम सब को बनाने वाला एक ही है, इस संसार में जो कुछ भी है उसी के ऊपर निर्भर करता है। परंतु मेरे माता-पिता बौध्द हैं, मैं अपनी 13 वर्ष की आयु से हर रोज़ उस निर्माता से प्रार्थना करती थी कि मुझे सही मार्गदर्शन दे। […]

Read more ›
वह दिन क़रीब है जब आसमान पे सिर्फ एक सितारा होगा!!!

वह दिन क़रीब है जब आसमान पे सिर्फ एक सितारा होगा!!!

December 18, 2016 at 4:21 am 0 comments

सवाल : SEX क्या है ? सवाल : ज़िना क्या है ? जवाब :अगर मर्द एक ऐसी औरत से सोहबत/ हमबिस्तरी करे जो उसकी बीवी नही है तो, ये ज़िना कहलाता है, ज़रूरी नही की साथ सोने को ही ज़िना कहते हैं, बल्की छूना भी ज़िना एक हिस्सा है और किसी पराई औरत को देखना आँखों का ज़िना है। ज़िना […]

Read more ›
दाढ़ी मुंड़ाने या शरियत के ख़िलाफ़ कतरने पर वईदें तहदीदें

दाढ़ी मुंड़ाने या शरियत के ख़िलाफ़ कतरने पर वईदें तहदीदें

December 18, 2016 at 2:03 am 0 comments

आला हज़रत इमाम अहमद रज़ा बरैल्वी कुद्दिसा सिर्रुहू ने दाढ़ी के मसअले में जो आयात व अहादीस और नुसूसे अइम्मा पेश फरमाई उन में जो वईदें, मज़म्मतें, और तहदीदें वारिद है उनका ख़ुलासा यह है :- 1. अल्लाह व रसूल के नाफरमान है ( जल्ला व उला व सल्लल्लाहु तआला अलैहि व सल्लम ) । 2. शैताने लईन के महकूम […]

Read more ›