धर्म

पवित्र क़ुरआन पार्ट 38_हिंदी अनुवाद ‘सूरए साद’

पवित्र क़ुरआन पार्ट 38_हिंदी अनुवाद ‘सूरए साद’

24th September 2018 at 4:40 am 0 comments

38 सूरए (साद) ============ सूरए साद मक्का में नाजि़ल हुआ और इसकी अठ्ठासी (88) आयते हैं खु़दा के नाम से शुरू करता हूँ जो बड़ा मेहरबान निहायत रहमवाला है सआद नसीहत करने वाले कु़रान की क़सम (तुम बरहक़ नबी हो) (1) मगर ये कुफ़्फ़ार (ख़्वाहमख़्वाह) तकब्बुर और अदावत में (पड़े […]

Read more ›
#इस्लाम ने मनुष्य को ज़िम्मेदार इन्सान बनाया : अल्लाह के ख़ास बन्दे पार्ट 17

#इस्लाम ने मनुष्य को ज़िम्मेदार इन्सान बनाया : अल्लाह के ख़ास बन्दे पार्ट 17

24th September 2018 at 4:36 am 0 comments

पैग़म्बरे इस्लाम को दुश्मन की इस साज़िश का पता चल गया था कि वे उन्हें क़त्ल करना चाहते हैं और इसके लिए घात लगाए बैठे हैं। इसलिए पैग़म्बरे इस्लाम मजबूर हुए कि अपने नज़दीकी रिश्तेदारों में हज़रत फ़ातेमा ज़हरा सहित कुछ लोगों को मक्के में छोड़ कर मदीना हिजरत अर्थात […]

Read more ›
#इस्लाम और मानवाधिकार : पार्ट 37

#इस्लाम और मानवाधिकार : पार्ट 37

24th September 2018 at 4:29 am 0 comments

सुरक्षा इंसान की एक मौलिक आवश्यकता है और उसकी पूर्ति सरकारों की महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी है और यह बहुत ही स्पष्ट बात है। कोई भी विचारधारा या कानूनी व्यवस्था यह नहीं कह सकती कि सुरक्षा के संबंध में उसकी कोई ज़िम्मेदारी नहीं है क्योंकि सुरक्षा न केवल मानवीय समाज की एक […]

Read more ›
#मस्जिद और इबादत part 31_इस्लाम में मस्जिद की अहमियत!!”मस्जिदे आज़म कुम!!

#मस्जिद और इबादत part 31_इस्लाम में मस्जिद की अहमियत!!”मस्जिदे आज़म कुम!!

24th September 2018 at 4:25 am 0 comments

मस्जिद ईश्वर का घर और उपासना स्थल है। मस्जिद वह स्थान है जहां समाज के विभिन्न वर्गों के लोग धार्मिक दायित्वों को अदा करने के लिए एकत्रित होते हैं। मस्जिद में समाज के विभिन्न वर्गों के लोग नमाज़ पढ़ने के लिए एकत्रित होते हैं और वहां वे एक दूसरे से […]

Read more ›
आयतें और निशानियां : क्योंकि तुम सिर्फ़ नसीहत करने वाले हो : पार्ट 7

आयतें और निशानियां : क्योंकि तुम सिर्फ़ नसीहत करने वाले हो : पार्ट 7

24th September 2018 at 4:14 am 0 comments

ईश्वर ने क़ुरआने मजीद के सूरों में सृष्टि के बारे में संक्षेप में बात की है। सृष्टि के रहस्यों और अस्तित्व की बारीकियों को अलग अलग अंदाज़ में बयान किया है। इस चर्चा में हम पहाड़ों की रचना के आश्चर्यों के बारे में बात करेंगे। अल्लाह ने क़ुरआन में पहाड़ों […]

Read more ›
#ईश्वरीय वाणी पार्ट 40 : सूरए क़सस : : पवित्र क़ुरआन अज्ञानता और अंधकार से मुक्ति दिलाता है!

#ईश्वरीय वाणी पार्ट 40 : सूरए क़सस : : पवित्र क़ुरआन अज्ञानता और अंधकार से मुक्ति दिलाता है!

24th September 2018 at 4:10 am 0 comments

सूरए क़सस, पैग़म्बरे इस्लाम के मक्का पलायन करने से पहले उतरा था। इस सूरए में वर्णित कथाओं के दौरान एकेश्वरवाद, प्रलय, पवित्र क़ुरआन के महत्त्व, प्रलय में अनेकेश्वरवादियों की स्थिति, मार्गदर्शन, पथभ्रष्टता तथा अन्य विषयों के बारे में महत्त्वपूर्ण पाठ सीखने को मिले। सूरए क़सस की 51वीं आयत के बाद […]

Read more ›
हमल गिराने वालों के लिये अज़ाब : जंरुर पढ़ें, अंजली कुमारी का लेख

हमल गिराने वालों के लिये अज़ाब : जंरुर पढ़ें, अंजली कुमारी का लेख

24th September 2018 at 1:44 am 0 comments

अंजली कुमारी ================ हुज़ुर सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम ने फरमाया के जो ह़मल दुनियां मे गिरा दिये गये होगें वोह कयामत मे बच्चों की शक्ल मैं आयेंगे और उनकी आवाज़ बिजली के कडाको जेसी होगी और वो फरियाद करेंगे के हम मज़लुम हैं फिर वो अपनी मां को ले कर हाज़िर […]

Read more ›
इस्लाम कहता है, कि तुम लोगों की मदद करोगे तो खुदा तुम्हारी मदद करेगा : अंजली कुमारी का लेख

इस्लाम कहता है, कि तुम लोगों की मदद करोगे तो खुदा तुम्हारी मदद करेगा : अंजली कुमारी का लेख

24th September 2018 at 1:32 am 0 comments

अंजली कुमारी ============= इस्लाम कहता है कि हमें एक ईश्वर को पुजना चाहिए जो हम सबका मालिक हैं। जिसका कोई रंग हैं ना कोई रूप हैं। जिसे किसी ने नहीं बनाया पर उसने हर चीज़ को बनाया। इस्लाम कहता है कि तुम्हारी मेहनत की कमाई से 2.5% गरीबों को देना […]

Read more ›
इस तरह कौमे समूद आगे आने वाले ज़मानो के लिए तबाही और इबरत हासिल करने की एक दास्तां बन गई!

इस तरह कौमे समूद आगे आने वाले ज़मानो के लिए तबाही और इबरत हासिल करने की एक दास्तां बन गई!

24th September 2018 at 1:27 am 0 comments

अंजली कुमारी =============== अरब देशो में आने वाले अम्बिया इकराम का ज़िक्र कुरआन में कई जगह आया है उनमे से एक हज़रत सालेह अलैहि सलाम भी हैं जिनको कौमे समूद में नबी बनाकर भेजा गया था कौमे समूद का वजूद तकरीबन 715 ईसा पूर्व का है यानी मोहम्मद सल्ल के […]

Read more ›
#जन्नत_का_खाना_पीना_मशरूब_ओ_तआम

#जन्नत_का_खाना_पीना_मशरूब_ओ_तआम

21st September 2018 at 11:23 pm 0 comments

Sikandar Kayamkhani ============ وَ فَاكِهَةٍ مِّمَّا يَتَخَيَّرُوْنَۙ۰۰۲۰ وَ لَحْمِ طَيْرٍ مِّمَّا يَشْتَهُوْنَؕ और लज़ीज़ फल जो वो पसंद करें, और परिंदे का गोश्त जो वो चाहें। (तर्जुमा मआनिये क़ुरआने करीम: अल वाक़िआ -20, 21) فِيْ سِدْرٍ مَّخْضُوْدٍۙ۰۰۲۸ وَّ طَلْحٍ مَّنْضُوْدٍۙ۰۰۲۹ وَّ ظِلٍّ مَّمْدُوْدٍۙ۰۰۳۰ وَّ مَآءٍ مَّسْكُوْبٍۙ۰۰۳۱ وَّ فَاكِهَةٍ كَثِيْرَةٍۙ۰۰۳۲ لَّا […]

Read more ›