धर्म

क़ियास की तारीफ़ : याद रहे कि सिर्फ़ शरई क़ियास का ऐतबार किया जाएगा!

क़ियास की तारीफ़ : याद रहे कि सिर्फ़ शरई क़ियास का ऐतबार किया जाएगा!

22nd December 2017 at 9:26 pm 0 comments

ھو إلحاق أمر بآخر في الحکم الشرعي لإتحاد بینھما في العلۃ (इल्लत के इत्तिहाद की वजह से, हुक्मे शरई में, एक अम्र को दूसरे से मुल्हिक़ करना (जोडना) । दूसरे लफ़्ज़ों में हुक्मे शरई के बाइस में इत्तिहाद की वजह से इन दोनों मसाइल को आपस में मुल्हिक़ करना।) जहां […]

Read more ›
कोई हुक्म मुबाह कब होता है?

कोई हुक्म मुबाह कब होता है?

22nd December 2017 at 9:19 pm 0 comments

पहले यह जाने ↧↧↧↧ क़रीना: क़रीना का मानी ख़िताब की मुराद (मायने) तय करने वाली लफ़्ज़ी या अहवाली अलामत है। हुक्मे शरई की क़िस्म को नुसूस (क़ुरआन और सुन्नत) के कराईन (इशारों) से समझा जाता है। यानी उन्ही कराईन से किसी फे़अल का फ़र्ज़, मंदूब, मुबाह, मकरूह या हराम होना […]

Read more ›
कोई हुक्म फर्ज़ कब होता है?

कोई हुक्म फर्ज़ कब होता है?

22nd December 2017 at 9:16 pm 0 comments

पहले यह जाने ↧↧↧↧ क़रीना: क़रीना का मानी ख़िताब की मुराद (मायने) तय करने वाली लफ़्ज़ी या अहवाली अलामत है। हुक्मे शरई की क़िस्म को नुसूस (क़ुरआन और सुन्नत) के कराईन (इशारों) से समझा जाता है। यानी उन्ही कराईन से किसी फे़अल का फ़र्ज़, मंदूब, मुबाह, मकरूह या हराम होना […]

Read more ›
फ़िक्र और तरीक़ा दोनों ही इस्लाम में मौजूद है : ज़िंदगी के मसाइल का हल!

फ़िक्र और तरीक़ा दोनों ही इस्लाम में मौजूद है : ज़िंदगी के मसाइल का हल!

22nd December 2017 at 9:07 pm 0 comments

हम जिस किसी तरीक़े की पैरवी करना चाहते हैं ताकि उसके ज़रीये अल्लाह (سبحانه وتعالى) के अहकामात के मुताबिक़ हुकूमत क़ायम की जाये तो हम पर लाज़िमी है कि इस तरीक़े से संबधित तमाम शरई अहकाम और दलायल की छानबीन कर लें ताकि एक मुसलमान बसीरत के साथ, अल्लाह (سبحانه […]

Read more ›
#इस्लाम की फिक्री क़ियादत_इस्लामी दावत को पेश करने का तरीक़ा!

#इस्लाम की फिक्री क़ियादत_इस्लामी दावत को पेश करने का तरीक़ा!

22nd December 2017 at 9:00 pm 0 comments

मुसलमान दुनिया की इमामत (क़ियादत) से अपने दीन पर कारबन्द रहने की वजह से पीछे नहीं रहे बल्कि उनके ज़वाल का आगाज उस रोज से हुआ जब उन्होंने अपने दीन से वाबस्तगी को छोड़ दिया और दीन के ताल्लुक़ से सुस्ती का मुज़ाहिरा किया। अजनबी तहज़ीब (कल्चर) को अपनी सरज़मीन […]

Read more ›
पवित्र क़ुरआन पार्ट 10_हिंदी अनुवाद ‘सूरए यूनुस’

पवित्र क़ुरआन पार्ट 10_हिंदी अनुवाद ‘सूरए यूनुस’

22nd December 2017 at 8:44 pm 0 comments

10 सूरए यूनुस ============== सूरए यूनुस मक्का में नाजि़ल हुआ और इसकी एक सौ नौ (109) आयतें है मै उस ख़़ुदा के नाम से (शुरू करता हूँ) जो बड़ा मेहरबान रहम वाला है अलिफ़ लाम रा (1) ये आयतें उस किताब की हैं जो अज़सरतापा (सर से पैर तक) हिकमत […]

Read more ›
मस्जिद और इबादत part 7_इस्लाम में मस्जिद की अहमियत!

मस्जिद और इबादत part 7_इस्लाम में मस्जिद की अहमियत!

22nd December 2017 at 6:04 pm 0 comments

सभी ईश्वरीय धर्मों में ईश्वर की उपासना को विशेष अहमियत दी गयी है और इस आधार पर उपासना स्थल को भी विशेष अहमियत हासिल है। पवित्र इस्लाम में मस्जिद को ईश्वर का घर और उसके बंदों के लिए उपासना स्थल क़रार दिया गया है। लेकिन इस संदर्भ में एक अहम […]

Read more ›
इस्लाम और मानवाधिकार : पार्ट 11

इस्लाम और मानवाधिकार : पार्ट 11

22nd December 2017 at 5:53 pm 0 comments

हमने यह साबित किया कि मानवाधिकार के नियम को तय करने का अधिकार ईश्वर है। इसी प्रकार यह भी बताया कि विद्वानों और वे बुद्धिजीवियों के विचार और इंसान की बुद्धि पूरी दुनिया के इंसान के लिए मानवाधिकार के नियम नहीं तय कर सकती। चूंकि मानवाधिकार के नियम का विषय […]

Read more ›
ईश्वरीय वाणी पार्ट 14 : सूरए तौबा : : पवित्र क़ुरआन अज्ञानता और अंधकार से मुक्ति दिलाता है!

ईश्वरीय वाणी पार्ट 14 : सूरए तौबा : : पवित्र क़ुरआन अज्ञानता और अंधकार से मुक्ति दिलाता है!

22nd December 2017 at 5:46 pm 0 comments

पवित्र क़ुरआन के व्याख्याकारों के अनुसार सूरए तौबा का आरंभ बिस्मिल्लाह से न होकर वचन तोड़ने वाले शत्रुओं से विरक्तता से होना, इस गुट के प्रति ईश्वर के प्रकोप और क्रोध को दर्शाता है। पवित्र क़ुरआन के व्याख्याकारों के अनुसार सूरए तौबा का आरंभ बिस्मिल्लाह से न होकर वचन तोड़ने […]

Read more ›
#आज_हम_मुसलमान_पूरी_दुनिया_मे_क्यों_मारे_जा_रहे_है??

#आज_हम_मुसलमान_पूरी_दुनिया_मे_क्यों_मारे_जा_रहे_है??

22nd December 2017 at 1:35 pm 0 comments

हदीसे पाक का मफूम है के, हमारे नबी ﺻﻠﯽ ﺍﻟﻠﮧ ﻋﻠﯿﮧ ﻭﺳﻠﻢ ने फरमाया बहुत जल्द दूसरी कौमें तुम पर ऐसे टूट पड़ेगी, जैसा भूखा खाने पर टूट पड़ता है किसी ने अर्ज़ किया: क्या हम उस वक़्त बहुत कम होंगे? आप ﺻﻠﯽ ﺍﻟﻠﮧ ﻋﻠﯿﮧ ﻭﺳﻠﻢ ने फरमाया की नही […]

Read more ›