धर्म

*हज़रत अली की अनमोल बाते *

*हज़रत अली की अनमोल बाते *

5th August 2017 at 12:43 am 0 comments

Tabassum Shaikh Kashid =================== ●अगर इन बातो पे आप चले तो दुनिया की कोई ताक़त आपको क़ामयाब होने से नही रोक सकती।। ●इन्सान का अपने दुश्मन से इन्तकाम का सबसे अच्छा तरीका ये है कि वो अपनी खूबियों में इज़ाफा कर दे ! “●रिज्क के पीछे अपना इमान कभी खराब […]

Read more ›
“मौत के वक़्त की कैफियत”

“मौत के वक़्त की कैफियत”

5th August 2017 at 12:40 am 0 comments

Tabassum Shaikh Kashid —————— जब रूह निकलती है तो इंसान का मुंह खुल जाता है होंठ किसी भी कीमत पर आपस में चिपके हुए नहीं रह सकते, रूह पैर के अंगूठे से खिंचती हुई ऊपर की तरफ आती हैं जब फेफड़ो और दिल तक रूह खींच ली जाती है तो […]

Read more ›
*खुदा का करिश्मा***छोटी सी चुंटी को देखो*

*खुदा का करिश्मा***छोटी सी चुंटी को देखो*

5th August 2017 at 12:30 am 0 comments

Tabassum Shaikh Kashid —————— खुदा ने जितनी चीजे पैदा की है उनके अंदर ऐसी खूबिया और विशेषताए रखी है की अक्ल व समझ रखनेवाला इंसान खुदा की कुदरत को माने बैगर नहीं रह सकता 🙂 इक छोटी सी चुंटी को देखो, कुदरत ने उसको अपने आहार को जमा करने की […]

Read more ›
क़ुरआन का वह नुस्ख़ा जिसकी तिलावत करते वक़्त हज़रत उस्मान ग़नी शहीद कर दिये गए थे!

क़ुरआन का वह नुस्ख़ा जिसकी तिलावत करते वक़्त हज़रत उस्मान ग़नी शहीद कर दिये गए थे!

5th August 2017 at 12:27 am 0 comments

  Sikander Kaymkhani ——————- तुर्की के म्युज़ियम मे मह़फूज़ क़ुरान करीम का वह नुस्ख़ा जिसकी तिलावत करते वक़्त हज़रत उस्मान ग़नी(रज़ि०अ०) शहीद कर दिये गए थे… ख़ून के निशान आज भी उस शहादत की गवाही दे रहे हैं… कहते हैं दुनिया के हर शहीद की गवाही वह ज़मीन देगी जहां […]

Read more ›
इस्लाम धर्म की शिक्षाएं व आदेश__’युवाओं को गुमराही से बचाने का बेहतरीन रास्ता’

इस्लाम धर्म की शिक्षाएं व आदेश__’युवाओं को गुमराही से बचाने का बेहतरीन रास्ता’

5th August 2017 at 12:24 am 0 comments

Sikander Kaymkhani ——————— #सांप्रदायिकता_अंधविश्वास और गुटबाजी, धर्म और समाज के लिए गम्भीर ख़तरा हैं! बहुत से इंसान प्राचीन समय से अंधविश्वासों का पालन करते रहे हैं।वर्तमान समय में भी अंधविश्वास न केवल समाप्त नहीं हुआ है बल्कि दिन -प्रतिदिन नये- नये रूपों में प्रकट हो रही है और यह कार्य […]

Read more ›
कौन_है_जिस_ने_मौत_को_आवाज़__दी…“हज़रात यह क्या मामला है??

कौन_है_जिस_ने_मौत_को_आवाज़__दी…“हज़रात यह क्या मामला है??

5th August 2017 at 12:20 am 0 comments

Sikander Kaymkhani ————————- #जब_क़ुरआन_पर_पाबंदी_लगी #अब_फिर_से_यह_कौन_है_जिस_ने_मौत_को_आवाज़__दी…!!! 1973 रूस में कम्युनीज़म का तोता बोलता था बल्कि दुनिया तो यह कह रही थी कि बस अब पूरा एशिया सुर्ख हो जाएगा उन दिनों हमारे यहाँ के एक हज़रत मास्को ट्रेनिंग के लिए गए हुए थे- वह कहते हैं कि जुमा के दिन मैंने […]

Read more ›
इस्माइल देहलवी ने चाँद के दो टुकड़े किये थे!!!!!

इस्माइल देहलवी ने चाँद के दो टुकड़े किये थे!!!!!

4th August 2017 at 4:59 pm 0 comments

Mohammad Arif Dagia ————————- आला हजरत रहमतुल्लाह अलैह हज को गए हुए थे । मक्का मोअज़्ज़मा के बाद मदीना शरीफ पहुंचे तो बेदारी की हालत में आक़ा सल्लल्लाहो अलैहे व सल्लम के जमाले बा कमाल के दीदार की हसरत और तडप पैदा हो गयी। ।कई दिन गुज़र गए।दीदार नही हुए। […]

Read more ›
“या अल्लाह! तूने बादशाह को बहुत कुछ दिया है, मुझे भी दे दे!!!!

“या अल्लाह! तूने बादशाह को बहुत कुछ दिया है, मुझे भी दे दे!!!!

3rd August 2017 at 10:07 pm 0 comments

Anjali Sharma ————————- एक बादशाह था, वह जब नमाज़ के लिए मस्जिद जाता, तो 2 फ़क़ीर उसके दाएं और बाएं बैठा करते! दाईं तरफ़ वाला कहता: “या अल्लाह! तूने बादशाह को बहुत कुछ दिया है, मुझे भी दे दे!” बाईं तरफ़ वाला कहता: “ऐ बादशाह! अल्लाह ने तुझे बहुत कुछ […]

Read more ›
#ख़तना_क्यों_मान्य_हुआ!!!

#ख़तना_क्यों_मान्य_हुआ!!!

2nd August 2017 at 11:38 pm 0 comments

Sandra Ranu Ivaan ———————- मुझे नहीँ लगता कि बहुत ज्यादा लोगो को खतना का कारण पता होगा कि खतना क्यों किया जाता है , चलिये उस समय में चलते हैं जब मनुष्य की उत्पत्ति नहीँ हुई थी । ये वो समय था जब दो सौ फरिश्तों को ईश्वर द्वारा स्वर्ग […]

Read more ›
मैं इंसाफ़ नही करूँगा तो और कौन इंसाफ़ करने वाला है!

मैं इंसाफ़ नही करूँगा तो और कौन इंसाफ़ करने वाला है!

2nd August 2017 at 4:41 pm 0 comments

Mohammad Arif Dagia ———————– मिश्कात शरीफ में हज़रते अबू सईद खुदरी रज़ि अल्लाहो अन्हो से मनकुल है , वह कहते हैं कि हम लोग हुज़ूर पाक सल्लल्लाहो अलैहे व सल्लम की ख़िदमत में हाज़िर थे और हुज़ूर सल्लल्लाहो अलैहे व सल्लम माले गनीमत तक़सीम फरमा रहे थे।इतने में ” ज़ुल्ख […]

Read more ›