धर्म

दुनिया की मुश्किलें तो चन्द दिनों की हैं पर आख़िरत का इनाम हमेशा के लिये हैं : ‎अंजली कुमारी का लेख

दुनिया की मुश्किलें तो चन्द दिनों की हैं पर आख़िरत का इनाम हमेशा के लिये हैं : ‎अंजली कुमारी का लेख

15th May 2018 at 12:30 am 0 comments

‎अंजली कुमारी‎ ============= 💖अल्लाह का दीन हमारी जिन्दगी में बगैर मेहनत के नहीं आना, कि हम अपनी दुकानों में, अपने घर में, अपनी आफिसों में बैठे रहें और हमें हुजूर अकरम सल्ल० वाला गम व दर्द मिल जाए और हमें हुजूर सल्ल० वाली जिन्दगी मिल जाए। कीमती चीज मेहनत से […]

Read more ›
#माँ_बाप_का_एहतराम_और_उनका_अदब

#माँ_बाप_का_एहतराम_और_उनका_अदब

15th May 2018 at 12:24 am 0 comments

Sikander Kaymkhani‎ ============ हज़रत इब्न-ए-उमर रज़िअल्लाह अन्हु से रिवायत है कि, मेरी निकाह में एक औरत थी जिससे मैं मुहब्बत करता था, लेकिन मेरे वालिद उमर रज़िअल्लाह अन्हु उसे नापसंद करते थे, चुनांचे उन्होनें मुझसे कहा तू इसे तलाक़ दे दे, मैंने इंकार कर दिया, फिर हज़रत उमर अल्लाह के […]

Read more ›
अल्लाह तआला ने कुरआन शरीफ़ में कितनी जगह, नमाज़ का ज़िक्र फ़रमाया है, जानिये

अल्लाह तआला ने कुरआन शरीफ़ में कितनी जगह, नमाज़ का ज़िक्र फ़रमाया है, जानिये

15th May 2018 at 12:22 am 0 comments

‎Sikander Kaymkhani‎ ============= कुरान शरीफ में कम से कम 70 जगह नमाज़ का ज़िक्र आया है, जिनमे से कुछ जगहों पर खुले लफ़्ज़ों में नमाज़ के बारे में कहा गया है। किसी आयत में नमाज़ पढने का हुक्म दिया गया है, किसी में नमाज़ की फज़ीलत व अहमियत बताई गई […]

Read more ›
#अजवा_खजूर_तमाम_खजूरों_में_अफ़ज़ल_है

#अजवा_खजूर_तमाम_खजूरों_में_अफ़ज़ल_है

15th May 2018 at 12:19 am 0 comments

‎Sikander Kaymkhani‎ ============ शहर का माहौल एक सा था, के एक आदमी ने एक बाग़ के झाड़ झंकार से खजूरें चुनें। गोया ऐसी खुजूर थी जो सिर्फ शहर के इसी बाग़ में लगी थी, लेकिन लोगों को इस खुजूर से कोई रग़बत ना थी, इसलिए कि उस खुजूर में वो […]

Read more ›
*द्वेष का अभाव: आध्यात्मिकता की चरमसीमा*

*द्वेष का अभाव: आध्यात्मिकता की चरमसीमा*

14th May 2018 at 11:47 pm 0 comments

मुदित मिश्र विपश्यी ============ *🔥 ओ३म् 🔥* *द्वेष का अभाव: आध्यात्मिकता की चरमसीमा* *सहृदयं सांमनस्यमविद्वेषं कृणोमि व: ।* *अन्यो अन्यमभि हर्यत वत्सं जातमिवाघ्न्या ।।*-(अथर्व० ३/३०/१) *अर्थ:-* _एक हृदयता, एकमनता और निर्वेरता तुम्हारे लिए मैं करता हूं। एक दूसरे को सब और से तुम प्रीति से चाहो जैसे न मारने योग्य […]

Read more ›
ये ऐतराज़ हुज़ूर का नहीं अल्लाह का था इसलिए हुज़ूर ने उसका जवाब नहीं दिया…!

ये ऐतराज़ हुज़ूर का नहीं अल्लाह का था इसलिए हुज़ूर ने उसका जवाब नहीं दिया…!

13th May 2018 at 9:30 pm 0 comments

Sikander Kaymkhani ============= अल्लाह के नबी ने जब मुशरिकीन को समझाया के तुम फिर ज़िन्दा होगे तो उस वक़्त भी कुछ ऐसे लोग मौजूद थे जो कहते थे के ये सिर्फ ज़माने के अल्लाह के नबी ने जब मुशरिकीन को समझाया के तुम फिर ज़िन्दा होगे तो उस वक़्त भी […]

Read more ›
अगर मौलबी बीच से हट जाएें तो!!

अगर मौलबी बीच से हट जाएें तो!!

13th May 2018 at 9:20 pm 0 comments

★आयशा क़ुरैसी★ ===================== एक साहब कहने लगे मौलबीयों ने ही ज़्यादा दीन को बर्बाद कर रखा है और फ़िरक़ापरस्ती को भी मौलबीयों ने ही हवा दी है अगर मौलबी बीच से हट जाएें तो एक साहब कहने लगे मौलबीयों ने ही ज़्यादा दीन को बर्बाद कर रखा है और फ़िरक़ापरस्ती […]

Read more ›
कृतयुग का आगमन, जो बोला गया है उसे अब पूर्ण करें हम!

कृतयुग का आगमन, जो बोला गया है उसे अब पूर्ण करें हम!

13th May 2018 at 8:40 pm 0 comments

‎Girish Choubey Govardhan‎ ================== [८८] युगपरिवर्तन – सृष्टिचक्र के अहोरात्र में दिवसकाल का आगमन और श्रीमद्भगवद्गीता का जीवन-सन्देश (श्लोक क्र. 2.६४व६५ का विस्तृत विवेचन) : रागद्वेषवियुक्तैस्तु विषयानिन्द्रियैश्चरन् | आत्मवश्यैर्विधेयात्मा प्रसादमधिगच्छति || ||२.६४|| प्रसादे सर्वदु:खानां हानिरस्योपजायते | प्रसन्नचेतसो ह्याशु बुद्धिः पर्यवतिष्ठते || ||२.६५|| अन्वय और अनुवाद :– रागद्वेषवियुक्तै: = आसक्ति और […]

Read more ›
अल्लाह के रसूल सअव ने फ़रमाया, उधार का लेन-देन करो तो उसको लिख लिया करो

अल्लाह के रसूल सअव ने फ़रमाया, उधार का लेन-देन करो तो उसको लिख लिया करो

13th May 2018 at 12:06 am 0 comments

Sikander Kaymkhani ============= ★अल्लाह के रसूल सल्ललाहु अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया जो शख्स क़र्ज़ लेकर देने की नीयत नहीं रखता तो अल्लाह तआला उसे बर्बाद कर देता है★ हदीस शरीफ में आया है कि अल्लाह के नबी हजरत मुहम्मद मुस्तफा सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया कि: “जिसने लोगों का […]

Read more ›
असल में ईश्वर शब्द ही एक भ्रम है.. #प्रोग्राम्ड_यूनिवर्स_पार्ट 4

असल में ईश्वर शब्द ही एक भ्रम है.. #प्रोग्राम्ड_यूनिवर्स_पार्ट 4

12th May 2018 at 8:33 pm 0 comments

Ashfaq Ahmad ================== #प्रोग्राम्ड_यूनिवर्स_4 निकोलई कार्दाशेव ने सिविलाइजेशन के तीन ही टाईप की अवधारणा दी थी लेकिन बाद में इसमें टाईप फोर और टाईप फाईव भी जुड़ गयीं। यहां पे एक चीज यह क्लियर कर दूँ कि यह अवधारणायें सिर्फ हम ह्यूमन्स को ले कर हों, यह जरूरी नहीं। यह […]

Read more ›