धर्म

अच्छी मौत की निशानी

अच्छी मौत की निशानी

9th November 2018 at 11:31 pm 0 comments

🌹रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने फ़रमाया कि मौत का एक दिन आना अफसोस के लायक़ है कि मरने वाला न कुछ कह सके और न कर सके, आपके ज़माने में कोई आदमी बैठा हुआ एक दम मर गया तो किसी ने कहा क्या अच्छी मौत मरा है न कोई बीमारी […]

Read more ›
नाम रखना : एक दूसरे का नाम बिगाड़ने वाले हुक़ूक़ुल्लाह के साथ साथ हुक़ूक़ुल इबाद में भी गिरफ़्तार होते हैं

नाम रखना : एक दूसरे का नाम बिगाड़ने वाले हुक़ूक़ुल्लाह के साथ साथ हुक़ूक़ुल इबाद में भी गिरफ़्तार होते हैं

9th November 2018 at 7:10 pm 0 comments

*कंज़ुल ईमान* – ऐ ईमान वालो ना मर्द मर्दों से हंसे अजब नहीं कि वो उन हंसने वालों से बेहतर हों और ना औरतें औरतों से दूर नहीं कि वो उन हंसने वालों से बेहतर हों, और आपस में तअना ना करो और एक दूसरे के बुरे नाम ना रखो,क्या […]

Read more ›
*ऐसे बेजान ख़ज़ाने से क्या फ़ायदा*

*ऐसे बेजान ख़ज़ाने से क्या फ़ायदा*

9th November 2018 at 6:53 pm 0 comments

*अमानत में तसर्रूफ़?* आजकल अमानत में तसर्रूफ़ आम हो गया है। उमूमन ऐसा होता है कि एक शख्स ने दूसरे के पास कोई रक़म, रूपया, पैसा बतौर अमानत रख दिया और वह उसकी इज़ाजत के बगैर उसमें से यह सोचकर ख़र्च कर देता है या तिजारत में लगा देता है […]

Read more ›
वो अपने जन्तर मन्तर से लोगों के जिन्न, भूत उतारा करता था

वो अपने जन्तर मन्तर से लोगों के जिन्न, भूत उतारा करता था

9th November 2018 at 6:48 pm 0 comments

_*एक जन्तर मन्तर से इलाज करने वाला*_ ―――――――――――――――― _*☑ कबीलाऐ अज्दशनवत मे एक शख्स था।जिसका नाम जमाद था वो अपने जन्तर मन्तर से लोगों के जिन्न भूत वगैरा के साए उतारा करता था।एक मर्तबा वो मक्का मोअज्जमा में आया तो बाज लोगों को ये कहते सुना के मोहम्मद को जिन्न […]

Read more ›
“दीन ए इस्लाम की बुनियाद क़ुरआन और सुन्नत पर है”

“दीन ए इस्लाम की बुनियाद क़ुरआन और सुन्नत पर है”

9th November 2018 at 2:17 am 0 comments

Sikander Kaymkhani =========== दीन_ए_इस्लाम मे रसूलुल्लाह सल्लललाहो अलेहे वसल्लम की इताअत (आज्ञापालन) इसी तरह फ़र्ज़ हैं जिस तरह अल्लाह की इताअत (आज्ञापालन) फ़र्ज़ हैं| अल्लाह ने क़ुरआन मे इरशाद फ़रमाया: “जिसने रसूल की इताअत की उसने अल्लाह की इताअत की” क़ुरआन (सूरह निसा 4/80) “ऐ लोगो! जो ईमान लाये हो […]

Read more ›
जब तुम देखो की शाम में फ़साद है तो समझना तुम्हारे लिए कोई ख़ैर नहीं….

जब तुम देखो की शाम में फ़साद है तो समझना तुम्हारे लिए कोई ख़ैर नहीं….

9th November 2018 at 1:32 am 0 comments

Sikander Kaymkhani ========== जब जमीन पर फितने फसाद होगें तो शाम में अमन होगा और जब तुम देखो की शाम में फसाद है तो समझना तुम्हारे लिए कोई खैर नहीं…. कुरान में अल्लाह ने शाम (सिरिया) का 5 आयतो में जिक्र किया है। और इसे बरकतों वाली और मुकद्दस जमीन […]

Read more ›
🏮*🏮*जो जिस क़ौम से मुशाबहत रखेगा उसका हश्र उसी के साथ होगा🏮*🏮*

🏮*🏮*जो जिस क़ौम से मुशाबहत रखेगा उसका हश्र उसी के साथ होगा🏮*🏮*

8th November 2018 at 3:30 am 0 comments

*🏮 मुसलमान 🏮* *हदीस* – हुज़ूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम इरशाद फरमाते हैं कि *مَنْ تَشَبَّہَ بِقَوْمٍ فَہُوَ مِنْہُمْ* जो जिस क़ौम से मुशाबहत रखेगा उसका हश्र उसी के साथ होगा *📔 अबु दाऊद,हदीस 4033* *📔 मिश्कात,सफह 375 📔 फैज़ुल क़दीर,जिल्द 6,सफह 104* मुशाबेहत 2 तरह की होती है एक […]

Read more ›
*अव्वल वक़्त में नमाज़ पढ़ने की फ़ज़ीलत*

*अव्वल वक़्त में नमाज़ पढ़ने की फ़ज़ीलत*

8th November 2018 at 3:26 am 0 comments

بِسْــــــمِ اللّٰهِ الرَّحْمٰنِ الرَّحِىْمِ اَلصَّــلٰوةُ وَالسَّلَامُ عَلَيْكَ يَا رَسُوْلَ اللّٰه ﷺ हज़रत अब्दुल्लाह बिन मसऊद رضي الله عنه फ़रमाते है कि मेने हुज़ूर ﷺ से दरयाफ़्त किया: या रसूलल्लाह ﷺ! कौन सा अमल अल्लाह को सबसे ज़्यादा पसन्द है? फ़रमाया: वक़्त पर नमाज़ पढ़ना। ✍🏼सहीह बुखारी* 504 फरमाने मुस्तफा ﷺ: […]

Read more ›
सहारे मत तलाश करो : सहारे इंसान को खोखला कर देते है

सहारे मत तलाश करो : सहारे इंसान को खोखला कर देते है

8th November 2018 at 3:23 am 0 comments

ईरान का एक बादशाह सर्दियों की शाम जब अपने महल में दाखिल हो रहा था तो एक बूढ़े दरबान को देखा जो महल के सदर दरवाज़े पर पुरानी और बारीक वर्दी में पहरा दे रहा था। बादशाह ने उसके करीब अपनी सवारी को रुकवाया और उस ज़ईफ़ दरबान से पूछने […]

Read more ›
#उस_आलिम_के_इस_जवाब_में_आज_हमारे_विचार_विमर्श के लिये बहुत कुछ छिपा है

#उस_आलिम_के_इस_जवाब_में_आज_हमारे_विचार_विमर्श के लिये बहुत कुछ छिपा है

8th November 2018 at 3:19 am 0 comments

Fiza Hakim ============== #हम_भटके_हुए_है_अपनी_राह_से_ ☆☆☆☆☆ बगदाद में तातारियों की जीत के बाद, हलाकू खान की बेटी बगदाद में गश्त कर रही थी कि एक भीड़ पर उसकी नज़र पड़ी. पूछा लोग वहां क्यों इकट्ठे हैं? जवाब आया: एक आलिम के पास खड़े हैं। हलाकू की बेटी ने आलिम को अपने […]

Read more ›