धर्म

दो औरतें गवाही में एक पुरुष के बराबर क्यों हैं?

दो औरतें गवाही में एक पुरुष के बराबर क्यों हैं?

5th December 2017 at 4:07 am 0 comments

Anwarul Hassan \\\\\\\\\\\\\\\\\\\ प्रश्न : दो औरतें गवाही में एक पुरुष के बराबर क्यों हैं? उत्तर : यह बात सही नहीं है कि हमेशा दो औरतों की गवाही एक पुरुष ही के बराबर होती है। यह केवल कुछ मामलों में है। क़ुरआन में कम से कम पाँच ऐसी आयतें हैं […]

Read more ›
इस्लाम का ही अनुपालन क्यों : इस्लाम और अन्य धर्मों के बीच भारी अन्तर है!

इस्लाम का ही अनुपालन क्यों : इस्लाम और अन्य धर्मों के बीच भारी अन्तर है!

5th December 2017 at 3:52 am 0 comments

Anwarul Hassan ============== इस्लाम का ही अनुपालन क्यों इस्लाम और अन्य धर्मों के बीच भारी अन्तर है सभी धर्म मूलरूप से अपने मानने वालों को भलाई का रास्ता अपनाने और बुराई से दूर रहने की शिक्षा देते हैं। लेकिन इस्लाम का मामला इससे बढ़कर है। वह हमें भलाई को अपनाने […]

Read more ›
#अल्लाह_कौन_है : अल्लाह का अस्तित्व और उसकी विशेषताएँ!

#अल्लाह_कौन_है : अल्लाह का अस्तित्व और उसकी विशेषताएँ!

4th December 2017 at 10:57 pm 0 comments

by सिकन्दर कायमखानी ============= इस शब्द का मूल: “अल्लाह” शब्द का मूल अरबी है इस्लाम से पहले अरबों द्वारा इस नाम का प्रयोग रहा हैlऔर “अल्लाह”का शब्द परमेश्वर सर्वशक्तिमान के लिए बोला जाता था जिसका कोई साझेदार नहीं है इस्लामी अवधि से पहले अज्ञानता के समय में अरब उसपर ईमान […]

Read more ›
#नियाज़_फ़ातिहा_की_हक़ीक़त

#नियाज़_फ़ातिहा_की_हक़ीक़त

4th December 2017 at 10:33 pm 0 comments

by सिकन्दर कायमखानी =============== हमारे मआशरे में एक चीज़ जो खास तौर पे बहुत से मुसलमानों के घरों में देखी जा सकती है, वो है नियाज़ करवाना या फातिहा दिलाना जिसमे खाने-पीने की चीज़ों को सामने रखते हैं और सुरह फातिहा और दीगर क़ुरआनी सूरतें और आयतें पढ़ी जाती हैं […]

Read more ›
ये आला तालीम इंग्लिश मीडियम स्कूलो मे नही दी जाती!

ये आला तालीम इंग्लिश मीडियम स्कूलो मे नही दी जाती!

1st December 2017 at 12:16 pm 0 comments

Khalid Aijaz ================ शौकत साहब का पहला बेटा हुआ तो बीवी ने कहा बच्चे को दीनी उलूम पढ़वाते है मेरी दिली ख़्वाहिश है कि बच्चा आलिम बने । शौहर ने बीवी से कहा हाफ़िज़ आलिम बना कर इसे भूखा मारना है क्या । मे इसे अपनी तरह बड़ा आफ़ीसर बनाऊंगा […]

Read more ›
#आत्मा_क्या_है_?

#आत्मा_क्या_है_?

1st December 2017 at 11:32 am 0 comments

Sandra Ranu Ivaan – Meerut  ************ #आत्मा_क्या_है_? बहुत महीनों से मैं ऐसी बातों के जवाब ढूँढ़ रही थी जिनसे हम अनभिज्ञ होते हैं , सवाल होता है लेकिन हमारे पास उसका जवाब नहीँ होता तो मैं वही ज्ञान अर्जित कर रही थी । हम समझते हैं कि शरीर से आत्मा […]

Read more ›
#अल्लाह तो मान रहा है मगर बन्दे नही मान रहे है…!!

#अल्लाह तो मान रहा है मगर बन्दे नही मान रहे है…!!

1st December 2017 at 7:43 am 0 comments

Mohd Faiz Khan ============== एक आलिम शख्स बाजार में बैठा था, बादशाह का गुजर हुवा बादशाह ने पूछा : भाई क्या कर.रहे हो ? आलिम ने कहा.बन्दों की अल्लाह से सुलह करवा.रहा हूँ, अल्लाह तो मान रहा है मगर बन्दे नही मान रहे है… कुछ दिन बाद आलिम कब्रिस्तानमें बैठा […]

Read more ›
ईश्वरीय वाणी पार्ट 11 : सूरए आराफ़ : : पवित्र क़ुरआन अज्ञानता और अंधकार से मुक्ति दिलाता है!

ईश्वरीय वाणी पार्ट 11 : सूरए आराफ़ : : पवित्र क़ुरआन अज्ञानता और अंधकार से मुक्ति दिलाता है!

1st December 2017 at 5:59 am 0 comments

सूरए आराफ़ की आयत संख्या 31 और 32 में ईश्वर कहता है। सूरए आराफ़ की आयत संख्या 31 और 32 में ईश्वर कहता है। हे आदम की संतानो! हर मस्जिद के निकट (उपासना के समय) अपनी शोभा को धारण कर लो और खाओ पियो परंतु अपव्यय न करो कि ईश्वर […]

Read more ›
ईश्वरीय वाणी पार्ट 10 : सूरए आराफ़ : : पवित्र क़ुरआन अज्ञानता और अंधकार से मुक्ति दिलाता है!

ईश्वरीय वाणी पार्ट 10 : सूरए आराफ़ : : पवित्र क़ुरआन अज्ञानता और अंधकार से मुक्ति दिलाता है!

1st December 2017 at 5:58 am 0 comments

सूरए आराफ़ पवित्र क़ुरआन का सातंवा सूरा है। सूरए आराफ़ पवित्र क़ुरआन का सातंवा सूरा है। यह सूरा मक्का में उतरा। यह सूरा जिस समय उतरा उस समय तक पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल लाहो अलैहि व आलेही व सल्लम ने मदीना पलायन नहीं किया था। इस सूरे में 206 आयते हैं। […]

Read more ›
इस्लाम और मानवाधिकार : पार्ट 9

इस्लाम और मानवाधिकार : पार्ट 9

1st December 2017 at 5:55 am 0 comments

समस्त इंसानों के कुछ अधिकार हैं जिनकी रक्षा और उनसे लाभ उठाना सबकी ज़िम्मेदारी है। इसी प्रकार इस बात की ओर संकेत किया गया कि अधिकार स्थाई व परिवर्तित न होने वाली चीज़ है। इस आधार पर अधिकार के स्रोत को भी स्थाई होना चाहिये। समस्त आसमानी धर्म महान ईश्वर […]

Read more ›