धर्म

भारत में मुस्लिम समाज ‘कन्या भ्रूण-हत्या’ की लानत से सुरक्षित है, इस्लाम में बेटियों को क़त्ल करने वालों को सख़्त-चेतावनी है

भारत में मुस्लिम समाज ‘कन्या भ्रूण-हत्या’ की लानत से सुरक्षित है, इस्लाम में बेटियों को क़त्ल करने वालों को सख़्त-चेतावनी है

30th August 2018 at 1:38 pm 0 comments

सिकंदर कायमखानी ====== ====== कन्या भ्रूण-हत्या =========== पाश्चात्य देशों की तरह, भारत भी नारी-अपमान, अत्याचार एवं शोषण के अनेकानेक निन्दनीय कृत्यों से ग्रस्त है। उनमें सबसे दुखद ‘कन्या भ्रूण-हत्या’ से संबंधित अमानवीयता, अनैतिकता और क्रूरता की वर्तमान स्थिति हमारे देश की ही ‘विशेषता’ है…उस देश की, जिसे एक धर्म प्रधान […]

Read more ›
मुसलमान लोग यह गुमान क्यों करते हैं कि उन्हीं का धर्म सच्चा है, जानिये!

मुसलमान लोग यह गुमान क्यों करते हैं कि उन्हीं का धर्म सच्चा है, जानिये!

30th August 2018 at 1:26 pm 0 comments

सिकंदर कायमखानी =========== यही सवाल मेरे मन में बारहां आता रहता है आख़िर मुस्लिम लोग अपने धर्म इस्लाम के बारे में इतना गुमाँ क्यूँ करते है कि उनका ही धर्म सच्चा है? क्या दुनियाँ के बाकी धर्म झूठे है?? कुछ इसी तरह के सवाल नॉन-मुस्लिम के मन में आते रहते […]

Read more ›
महिलाओं का नरम लहजे में बात और चैट करना : ज़रूर पढें

महिलाओं का नरम लहजे में बात और चैट करना : ज़रूर पढें

30th August 2018 at 1:19 pm 0 comments

नीलोफर अनवर ========== महत्वपूर्ण जानकारी ज़रूर पढें। “हे पैगंबर की पत्नी! तुम आम औरतों की तरह नहीं हो, अगर तुम संयम ( सब्र )विकल्प (आप्शन) करो तो नरम लहजे में बात मत करो कि जो मन में रोग हो वह कोई बुरा विचार (ख़याल) करे और हां बाकायदे के अनुसार […]

Read more ›
#एक_मुस्लिम_दूसरे_मुस्लिम_की_पर्दापोशी_करे_अल्लाह_तआला_उसकी_पर्दापोशी_करते_है

#एक_मुस्लिम_दूसरे_मुस्लिम_की_पर्दापोशी_करे_अल्लाह_तआला_उसकी_पर्दापोशी_करते_है

30th August 2018 at 1:14 pm 0 comments

सिकंदर कायमखानी =========== एक मुसलमान जो मासियत का काम करे या तो उसको छुपाऐगा और मख़्फ़ी रखने की कोशिश करेगा या फिर बेहयाई और बेशरमी के साथ इसको अफ़शां करेगा। पहले शख़्स की पर्दापोशी करनी चाहिए और उसके फे़अ़ल से सर्फे़ नज़र करना चाहिए क्योंकि हज़रत अबू हुरैराह (رضي الله […]

Read more ›
दरगुज़र, ग़ुस्से पर क़ाबू रखना और तकलीफ़ बर्दाश्त करना : अल्लाह को पसंद है

दरगुज़र, ग़ुस्से पर क़ाबू रखना और तकलीफ़ बर्दाश्त करना : अल्लाह को पसंद है

30th August 2018 at 1:06 pm 0 comments

सिकंदर कायमखानी =========== अल्लाह سبحانه وتعالیٰ का इरशाद हैः وَ الْكٰظِمِيْنَ الْغَيْظَ وَ الْعَافِيْنَ عَنِ النَّاسِ١ؕ وَ اللّٰهُ يُحِبُّ الْمُحْسِنِيْنَۚ और गुस्से को ज़ब्त करते, और लोगों से दरगुज़र का मुआमला करते हैं, और अल्लाह भी अच्छे काम करने वालों को पसंद करता है। (तर्जुमा मआनीये क़ुरआने: आले इमरान-134) وَ […]

Read more ›
व्यक्ति विशेष : ‘अनवर शेख’ कहते है कि इस्लाम की स्थापना “divide and rule” के सिद्धांत पर हुई थी!

व्यक्ति विशेष : ‘अनवर शेख’ कहते है कि इस्लाम की स्थापना “divide and rule” के सिद्धांत पर हुई थी!

27th August 2018 at 12:30 am 0 comments

मुदित मिश्र विपश्यी ================ ◆ व्यक्ति विशेष : स्व. अनवर शेख —————————————————– २१ अक्तुबर १९९५ के दिन लाहौर (पाकिस्तान) से प्रकाशित दैनिक वर्तमानपत्र “सदाकत” की हेड-लाईन थी, “All Pakistani clergy demand extradition of the accursed renegade Anwar Shaikh from Britain to hang him publicly.” अर्थात् “पाकिस्तान के सभी मुल्ला-मौलवी ब्रिटेन […]

Read more ›
#क़र्ज़_देना_भी_जन्नत_में_जाने_का_सबब_बन_जाता_है

#क़र्ज़_देना_भी_जन्नत_में_जाने_का_सबब_बन_जाता_है

26th August 2018 at 3:10 pm 0 comments

sikandar kayamkhani ============== हज़रत अ़ब्दुल्लाह बिन मसऊ़द इ की रिवायत, बैहक़ी, इब्ने माजा और इब्ने हिब्बान में नक़ल है के नबी अकरम ने फ़रमायाः ((ما من مسلم یقرض مسلما قرضا مرتین إلا کان کصدقتہا مرۃ)) अगर कोई मुस्लिम किसी मुस्लिम को दो मर्तबा क़र्ज़ देता है तो गोया उसने एक […]

Read more ›
#लोगों को खाना_खिलाना_इस्लाम_की_नज़र_में_इबादत_है

#लोगों को खाना_खिलाना_इस्लाम_की_नज़र_में_इबादत_है

26th August 2018 at 3:07 pm 0 comments

sikandar kayamkhani ============== (chaldren of shaheed rakbar khan) लोगों को खाना खिलाना भी नफ़्ली इबादात में शामिल है। हज़रत इब्ने उमर (رضي الله عنه) से मुत्तफिक़ अ़लैह हदीस रिवायत है के एक शख़्स ने हुज़ूर अक़दस से दरयाफ़्त किया के कौन सा इस्लाम अफ़्ज़ल है? आप ((صلى الله عليه وسلم)) […]

Read more ›
#अज़ान_का_जवाब : जब तुम मुअज़्ज़िन को अज़ान देते सुनो तो तुम भी इसके क़लिमात को दुहराओ

#अज़ान_का_जवाब : जब तुम मुअज़्ज़िन को अज़ान देते सुनो तो तुम भी इसके क़लिमात को दुहराओ

26th August 2018 at 2:56 pm 0 comments

sikandar kayamkhani ============== हज़रत अबी सईद अल ख़ुदरी (رضي الله عنه) से मुत्तफिक़ अ़लैह हदीस मनक़ूल है के रसूले अकरम ((صلى الله عليه وسلم)) ने फ़रमायाः (( إذا سمعتم المؤذن فقولوا مثل ما یقول)) जब तुम मुअज़्ज़िन को (अज़ान देते) सुनो तो तुम भी इसके कलिमात को दुहराओ। इसी तरह […]

Read more ›
#दुआ_ए_शहादत

#दुआ_ए_शहादत

26th August 2018 at 2:53 pm 0 comments

sikandar kayamkhani ==============  मुस्लिम में सहल बिन हुनैफ़ इ की हदीस है के रसूले अकरम ((صلى الله عليه وسلم)) ने फ़रमायाः ((من سأل اللہ الشھادۃ بصدق بلغہ اللّٰہ منازل الشھداء وإن مات علی فراشہ)) जिस ने ख़ुलूसे दिल से अल्लाह से शहादत तलब की, अल्लाह उसको शुहदा के मुक़ाम पर […]

Read more ›