धर्म

#इस्लाम ने मनुष्य को ज़िम्मेदार इन्सान बनाया : अल्लाह के ख़ास बन्दे पार्ट 7

#इस्लाम ने मनुष्य को ज़िम्मेदार इन्सान बनाया : अल्लाह के ख़ास बन्दे पार्ट 7

18th April 2018 at 12:03 am 0 comments

इस्लाम के उदय के समय अरब जगत में जो माहौल था उसके बारे में जानकारी निश्चित से पैग़म्बरे इस्लाम (स) के इस महान कार्य के विभिन्न आयामों को उजागर करने में सहायक सिद्ध होगी। इस्लाम, वास्तव में पैग़म्बरे इस्लाम (स) की अथक कोशिशों और उनके संघर्ष का सबसे बड़ा सुबूत […]

Read more ›
पवित्र क़ुरआन पार्ट 28_हिंदी अनुवाद ‘सूरए अल क़सस’

पवित्र क़ुरआन पार्ट 28_हिंदी अनुवाद ‘सूरए अल क़सस’

17th April 2018 at 11:57 pm 0 comments

28 सूरए अल क़सस ============== सूरए अल क़सस मक्के में नाजि़ल हुआ और इसकी 88 आयतें हैं ख़़ुदा के नाम से (शुरु करता हूँ) जो बड़ा मेहरबान रहम वाला है ता सीन मीम (1) (ऐ रसूल) ये वाज़ेए व रौशन किताब की आयतें हैं (2) (जिसमें) हम तुम्हारें सामने मूसा […]

Read more ›
#मस्जिद और इबादत part 21_इस्लाम में मस्जिद की अहमियत!!मस्जिदे सुल्तान हसन!!

#मस्जिद और इबादत part 21_इस्लाम में मस्जिद की अहमियत!!मस्जिदे सुल्तान हसन!!

17th April 2018 at 11:54 pm 0 comments

मस्जिद के महत्व और उसकी उपयोगिता के बारे में हैं। उपासनागृह वे स्थल होते हैं जहां पर सामान्यतः उपासना की जाती है। मस्जिद भी एक उपासनागृह है। मस्जिद में आरंभ से उपासना के साथ पढ़ने-पढ़ाने का सिलसिला भी रहा है। इस्लाम के उदय से आरंभिक चार शताब्दियों तक मस्जिदों में […]

Read more ›
#इस्लाम और मानवाधिकार : पार्ट 27

#इस्लाम और मानवाधिकार : पार्ट 27

17th April 2018 at 11:46 pm 0 comments

वैचारिक स्वतंत्रता और आस्था संबन्धी स्वतंत्रता ही मानव की मूल स्वतंत्रता है। इस्लाम ने भी इस विषय पर विशेष ध्यान दिया है। हमने आपको यह भी बताया था कि आस्था संबन्धी स्वतंत्रता के बारे में इस्लाम का विशेष दृष्टिकोण है। मनुष्य की आस्था दो प्रकार से बनती है। या तो […]

Read more ›
#ईश्वरीय वाणी पार्ट 30 : सूरये इसरा : : पवित्र क़ुरआन अज्ञानता और अंधकार से मुक्ति दिलाता है!

#ईश्वरीय वाणी पार्ट 30 : सूरये इसरा : : पवित्र क़ुरआन अज्ञानता और अंधकार से मुक्ति दिलाता है!

17th April 2018 at 11:43 pm 0 comments

सूरे इसरा में महान ईश्वर कहता है” आपके पालनहार ने आदेश दिया है कि उसके अलावा किसी और की उपासना न की जाये और माता- पिता के साथ भलाई की जाये। जब भी उनमें से एक या दोनों तुम्हारे सामने बूढे हो जायें तो उनका न्यूनतम अपमान भी नहीं करना […]

Read more ›
कैसे हुआ कृष्‍ण और यादवों का ब्राह्मणीकरण, जानिये!

कैसे हुआ कृष्‍ण और यादवों का ब्राह्मणीकरण, जानिये!

17th April 2018 at 5:29 am 0 comments

कृष्‍ण और यादवों का ब्राह्मणीकरण – चंद्रभूषण सिंह यादव ============= इस देश की पिछड़ी जातियों में शुमार अहीर व यादव कृष्ण को अपना पूर्वज मानते हैं। इस जाति के बीच कृष्ण का नायकत्व ऐसा है कि अहीर और कृष्ण पर्यायवाची बन गए हैं।हिन्दू धर्मग्रंथों में इस यादव नायक का नाम […]

Read more ›
#मदरसे_की_तालीम_मै_इंसानियत_अव्वल : 20 बच्चों की जान बचाकर खुद हो गया शहीद!

#मदरसे_की_तालीम_मै_इंसानियत_अव्वल : 20 बच्चों की जान बचाकर खुद हो गया शहीद!

15th April 2018 at 4:36 pm 0 comments

Sikander Kaymkhani ============ मदरसे में पढने वाला अशफाक़ – गाँव के 20 बच्चों की जान बचाकर खुद हो गया शहीद. हादसे होते हैं और जिंदगियां लील जाते हैं, नन्ही नन्ही और मासूम जिंदगियां, हादसे किसी का सप्रदाय या धर्म नहीं देखकर आते, उनका तो मकसद तबाही होता है, लेकिन हादसों […]

Read more ›
कभी कभी हमारी दुआएं क्यों क़ुबूल नहीं होतीं, जानिये!

कभी कभी हमारी दुआएं क्यों क़ुबूल नहीं होतीं, जानिये!

10th April 2018 at 5:19 am 0 comments

सच्चे दिल और नेक नियत के साथ उस से दुआ करेगा वह उसे ज़रूर पूरा करेगा, लेकिन अगर हमारी दुआ पूरी नहीं हुई तो उस के पीछे कई कारण हो सकते है। अल्लाह ने अपनी पवित्र किताब क़ुरआन में पैग़म्बरे इस्लाम स.अ. के द्वारा यह ऐलान किया है कि, जब […]

Read more ›
क्या आप जानते हैं अल्लाह ने शैतान को क्यों पैदा किया?

क्या आप जानते हैं अल्लाह ने शैतान को क्यों पैदा किया?

10th April 2018 at 5:14 am 0 comments

इंसान को गुमराह करने और बहकाने में शैतान का रोल और भूमिका केवल यह है कि वह इंसानों को गुनाह की तरफ़ उकसाता और बहकाता है, वरना शैतान किसी को गुनाह करने पर ना ही मजबूर कर सकता है और ना ही इंसान के इरादों पर क़ब्ज़ा कर सकता है। […]

Read more ›
आख़िरी ज़माने की निशानियां पैग़म्बर स.अ. की ज़बानी

आख़िरी ज़माने की निशानियां पैग़म्बर स.अ. की ज़बानी

10th April 2018 at 5:07 am 0 comments

एक दौर ऐसा आएगा जब चेहरे तो इंसानों के होंगे लेकिन दिल शैतान के हो चुके होंगे, दरिंदगी इस हद को पहुंच चुकी होगी कि लोग भेड़िये की तरह ख़ून बहाएंगे, हराम कामों से किसी तरह का कोई परहेज़ नहीं होगा, बुरे कामों की ओर दिलचस्पी बढ़ती जाएगी, अगर आप […]

Read more ›