धर्म

इस्लाम में हलाल मीट खाने को क्यों बताया गया है, जानिये!

इस्लाम में हलाल मीट खाने को क्यों बताया गया है, जानिये!

4th May 2018 at 1:58 am 0 comments

Sikander Kaymkhani‎ ============= इस्लाम में हलाल मीट खाने को क्यों बताया गया है, जानिये! रिसर्च हैनोवर यूनिवर्सिटी, जर्मनी में 1974, 1978 के बीच हुई, और रिसर्च करने वाले थे प्रोफेसर विल्हेम शुल्ज़ और उनके सहयोगी डा0 हाज़िम। इस रिसर्च में जानवरों के जिस्म पर इलेक्ट्रोड्स लगाकर उनकी इलेक्ट्रोइन् सेफ्लोग्राम (EEG) […]

Read more ›
गीता – सार : सत्पुरुषों का संग करने से बुरे संग छुट जाते हैं

गीता – सार : सत्पुरुषों का संग करने से बुरे संग छुट जाते हैं

3rd May 2018 at 12:13 am 0 comments

मुदित मिश्र विपश्यी —————– भारतवर्ष ब्रह्मावर्त ================ गीता – सार अब मैं गीता का सार बतलाऊँगा, जो समस्त गीता का उत्तम-से-उत्तम अंश है | पूर्वकाल में भगवान् श्रीकृष्ण ने अर्जुन को उसका उपदेश दिया था | वह भोग तथा मोक्ष-दोनों को देने वाला है ||१|| श्रीभगवान ने कहा – अर्जुन […]

Read more ›
#आंखें_खुल_जाएँगी : सोंचे, आपको क़ुरआन की नाफ़रमानी करनी है या फ़िरकों में बांटने की राजनीति?

#आंखें_खुल_जाएँगी : सोंचे, आपको क़ुरआन की नाफ़रमानी करनी है या फ़िरकों में बांटने की राजनीति?

2nd May 2018 at 11:50 pm 0 comments

Sikander Kaymkhani =============== #आंखें_खुल_जाएँगी *अब आप सोंचे आपको फ़िरकों में बंट के क़ुरान की नाफ़रमानी करनी है या उन लोगों का बायकाट करना है जो फ़िरकों में बांटने की राजनीति करते हैं…*। मुसलमानों के 73 फ़िरके होंगे..? इसका एक बेहतरीन जवाब क़ुरआन व हदीस की रोशनी में अकसर मेरे से […]

Read more ›
#ईश्वरीय वाणी पार्ट 32 : सूरये नूर : : पवित्र क़ुरआन अज्ञानता और अंधकार से मुक्ति दिलाता है!

#ईश्वरीय वाणी पार्ट 32 : सूरये नूर : : पवित्र क़ुरआन अज्ञानता और अंधकार से मुक्ति दिलाता है!

2nd May 2018 at 3:06 pm 0 comments

नूर पवित्र क़ुरआन का चौबीसवां सूरा है जो पैग़म्बरे इस्लाम के पलायन के बाद मदीने में पैग़म्बरे इस्लाम पर उतरा। इसमें 64 आयतें हैं। इस सूरे को नूर इसलिए कहते हें कि इसकी पैंतीसवीं आयत में ईश्वर को ज़मीन और आसमान के नूर अर्थात प्रकाश के रूप में याद किया […]

Read more ›
#इस्लाम और मानवाधिकार : पार्ट 29

#इस्लाम और मानवाधिकार : पार्ट 29

2nd May 2018 at 3:02 pm 0 comments

हमने इस बात का उल्लेख किया कि इस्लाम इंसान से चाहता है कि वह सत्य को समझने के लिए कोशिश करे इसलिए वह लोगों को इस्लाम के बारे में चिंतन मनन के लिए आमंत्रित करता है। इस्लाम धर्म का यह उसूल है कि इंसान ख़ुद सोच-विचार के ज़रिए एकेश्वरवाद को […]

Read more ›
#मस्जिद और इबादत part 23_इस्लाम में मस्जिद की अहमियत!!क़ाहेरा की सैयदा ज़ैनब मस्जिद!!

#मस्जिद और इबादत part 23_इस्लाम में मस्जिद की अहमियत!!क़ाहेरा की सैयदा ज़ैनब मस्जिद!!

2nd May 2018 at 2:59 pm 0 comments

मस्जिद शुरू से ही उपासना और स्मरण के विशेष स्थान के साथ ही सामाजिक विषयों पर चिंतन मनन और समस्याओं के समाधान का केन्द्र भी रही है। महिलाओं और पुरुषों का मस्जिदों में पहुंचना, विभिन्न प्रकार की सूचनाओं का आदान प्रदान, समाज के लोगों की स्थिति से अवगत होना मस्जिद […]

Read more ›
#इस्लाम ने मनुष्य को ज़िम्मेदार इन्सान बनाया : अल्लाह के ख़ास बन्दे पार्ट 9

#इस्लाम ने मनुष्य को ज़िम्मेदार इन्सान बनाया : अल्लाह के ख़ास बन्दे पार्ट 9

2nd May 2018 at 2:53 pm 0 comments

पैग़म्बरे इस्लाम के अनुसार पवित्र क़ुरआन के दो स्वरूप हैं एक विदित व दूसरा आंतरिक, इसीलिए यह किताब बहुत अधिक प्रभावी रही है। पवित्र क़ुरआन के संदेश ने अनेकेश्वरवादियों को ईमान, नैतिकता और भलाई का निमंत्रण देकर उनका निरस्त्रीकरण कर दिया जबकि पवित्र क़ुरआन की मंत्रमुग्ध करने देने वाली आयतों […]

Read more ›
पवित्र क़ुरआन पार्ट 30_हिंदी अनुवाद ‘सूरए अर रूम’

पवित्र क़ुरआन पार्ट 30_हिंदी अनुवाद ‘सूरए अर रूम’

2nd May 2018 at 2:50 pm 0 comments

30 सूरए अर रूम ============== सूरए अर रूम मक्के में नाजि़ल हुआ और इसकी साठ (60) आयतें हैं ख़ुदा के नाम से (शुरु करता हूँ) जो बड़ा मेहरबान निहायत रहम वाला हैं अलिफ़ लाम मीम (1) (यहाँ से) बहुत क़रीब के मुल्क में रोमी (नसारा एहले फ़ारस आतिश परस्तों से) […]

Read more ›
सम्पूर्ण महाभारत पार्ट 1 : महाभारत आदि पर्व अध्याय 1 श्लोक 1-11 प्रथम (1)

सम्पूर्ण महाभारत पार्ट 1 : महाभारत आदि पर्व अध्याय 1 श्लोक 1-11 प्रथम (1)

2nd May 2018 at 2:18 pm 0 comments

महाभारत आदि पर्व अध्याय 1 श्लोक 1-11 प्रथम (1) ================ अध्‍याय आदि पर्व (अनुक्रमणिका पर्व) महाभारत: आदिपर्व: प्रथम अध्याय: श्लोक 1-11 का हिन्दी अनुवाद वेदव्यास ब‍दरिकाश्रम निवासी प्रसिद्ध ऋषि श्री नारायण तथा श्री नर[1], उनकी लीला प्रकट करने वाली भगवती सरस्‍वती और उसके वक्‍ता महर्षि वेदव्‍यास को नमस्‍कार कर आसुरी […]

Read more ›
जिनकी नाक चपटी है, या जो अंधे या लूले हैं, वे ईश्वर के पूजास्थल में प्रवेश नहीं कर सकते

जिनकी नाक चपटी है, या जो अंधे या लूले हैं, वे ईश्वर के पूजास्थल में प्रवेश नहीं कर सकते

2nd May 2018 at 2:06 pm 0 comments

स्वास्तिका शर्मा =================== #ईश्वरीय_चुटकुलें — सनातन की वैदिक साहित्यिक लेखन का अर्थ का अनर्थ करके माजक उड़ाने वाले और धार्मिक मान्यताओं का उपहास उड़ाने वाले सभी मतों के कुछ ईश्वरीय चुटकुले रोजाना डालूँगा आज से, आज ईसाई समुदाय के ईश्वरीय चुटकुलों का आनंद लीजिये — -एक खेत में एक साथ […]

Read more ›