धर्म

कौन_है_जिस_ने_मौत_को_आवाज़__दी…“हज़रात यह क्या मामला है??

कौन_है_जिस_ने_मौत_को_आवाज़__दी…“हज़रात यह क्या मामला है??

5th August 2017 at 12:20 am 0 comments

Sikander Kaymkhani ————————- #जब_क़ुरआन_पर_पाबंदी_लगी #अब_फिर_से_यह_कौन_है_जिस_ने_मौत_को_आवाज़__दी…!!! 1973 रूस में कम्युनीज़म का तोता बोलता था बल्कि दुनिया तो यह कह रही थी कि बस अब पूरा एशिया सुर्ख हो जाएगा उन दिनों हमारे यहाँ के एक हज़रत मास्को ट्रेनिंग के लिए गए हुए थे- वह कहते हैं कि जुमा के दिन मैंने […]

Read more ›
इस्माइल देहलवी ने चाँद के दो टुकड़े किये थे!!!!!

इस्माइल देहलवी ने चाँद के दो टुकड़े किये थे!!!!!

4th August 2017 at 4:59 pm 0 comments

Mohammad Arif Dagia ————————- आला हजरत रहमतुल्लाह अलैह हज को गए हुए थे । मक्का मोअज़्ज़मा के बाद मदीना शरीफ पहुंचे तो बेदारी की हालत में आक़ा सल्लल्लाहो अलैहे व सल्लम के जमाले बा कमाल के दीदार की हसरत और तडप पैदा हो गयी। ।कई दिन गुज़र गए।दीदार नही हुए। […]

Read more ›
“या अल्लाह! तूने बादशाह को बहुत कुछ दिया है, मुझे भी दे दे!!!!

“या अल्लाह! तूने बादशाह को बहुत कुछ दिया है, मुझे भी दे दे!!!!

3rd August 2017 at 10:07 pm 0 comments

Anjali Sharma ————————- एक बादशाह था, वह जब नमाज़ के लिए मस्जिद जाता, तो 2 फ़क़ीर उसके दाएं और बाएं बैठा करते! दाईं तरफ़ वाला कहता: “या अल्लाह! तूने बादशाह को बहुत कुछ दिया है, मुझे भी दे दे!” बाईं तरफ़ वाला कहता: “ऐ बादशाह! अल्लाह ने तुझे बहुत कुछ […]

Read more ›
#ख़तना_क्यों_मान्य_हुआ!!!

#ख़तना_क्यों_मान्य_हुआ!!!

2nd August 2017 at 11:38 pm 0 comments

Sandra Ranu Ivaan ———————- मुझे नहीँ लगता कि बहुत ज्यादा लोगो को खतना का कारण पता होगा कि खतना क्यों किया जाता है , चलिये उस समय में चलते हैं जब मनुष्य की उत्पत्ति नहीँ हुई थी । ये वो समय था जब दो सौ फरिश्तों को ईश्वर द्वारा स्वर्ग […]

Read more ›
मैं इंसाफ़ नही करूँगा तो और कौन इंसाफ़ करने वाला है!

मैं इंसाफ़ नही करूँगा तो और कौन इंसाफ़ करने वाला है!

2nd August 2017 at 4:41 pm 0 comments

Mohammad Arif Dagia ———————– मिश्कात शरीफ में हज़रते अबू सईद खुदरी रज़ि अल्लाहो अन्हो से मनकुल है , वह कहते हैं कि हम लोग हुज़ूर पाक सल्लल्लाहो अलैहे व सल्लम की ख़िदमत में हाज़िर थे और हुज़ूर सल्लल्लाहो अलैहे व सल्लम माले गनीमत तक़सीम फरमा रहे थे।इतने में ” ज़ुल्ख […]

Read more ›
औरंगज़ेब आलमगीर की इन्सान और हक़ परस्ती को लोगों के दिलो से क़यामत तक नहीं मिटाया जा सकेगा!

औरंगज़ेब आलमगीर की इन्सान और हक़ परस्ती को लोगों के दिलो से क़यामत तक नहीं मिटाया जा सकेगा!

1st August 2017 at 3:16 am 0 comments

Anjali Sharma ——————— औरंगज़ेब काशी बनारस की एक ऐतिहासिक मस्जिद (धनेडा की मस्जिद) यह एक ऐसा इतिहास है जिसे पन्नो से तो हटा दिया गया है लेकिन निष्पक्ष इन्सान और हक़ परस्त लोगों के दिलो से (चाहे वो किसी भी कौम का इन्सान हो) मिटाया नहीं जा सकता, और क़यामत […]

Read more ›
अज़ीम सिपहसालार हज़रत खालिद बिन वलीद ने तीन हज़ार की फ़ौज़ से 2 लाख की फ़ौज़ को धुल चटाई थी!

अज़ीम सिपहसालार हज़रत खालिद बिन वलीद ने तीन हज़ार की फ़ौज़ से 2 लाख की फ़ौज़ को धुल चटाई थी!

1st August 2017 at 3:10 am 0 comments

Anjali Sharma ———————– आज सर्जिकल स्ट्राइक का चारो तरफ डंका , उसकी ईजाद हज़रत खालिद बिन वलीद ने की थी ! खालिद बिन वलीद इस्लाम की पहली आर्मी के अज़ीम सिपहसालार रहे हैं…। उस ज़माने की दो सुपर पावर…बाज़नतिनी एम्पायर ( क़ैसर हरक्युलिस ) और शहंशाहे फारस ( क़िसरा उर्दशेर […]

Read more ›
आप को अबाबील की कुछ खूबियां बता दें : अंजली शर्मा

आप को अबाबील की कुछ खूबियां बता दें : अंजली शर्मा

1st August 2017 at 3:06 am 0 comments

Anjali Sharma ———————– अब्रहा का नाम आते ही अबाबील का नाम भी साथ में ज़रूर आता है.. इसलिए ज़रूरी है कि आप को अबाबील की कुछ खूबियां बता दें.. ये एक छोटा सा परिंदा है इसे ज्वारूल हिन्द भी कहते हैं और ये ऐसा परिंदा है जो आबादी वाले जगह […]

Read more ›
“अपने रब की नेमतों को पहचानो”

“अपने रब की नेमतों को पहचानो”

31st July 2017 at 11:22 pm 0 comments

Adv Mohd Rafiq Chauhan – Karnal · ————————– 1400 साल से भी ज्यादा हो गए कि आजतक मुसलमानों की सोच चटाई और मिटटी के लोटे से बाहर नहीं आई। जबकि दुनिया कम्प्यूटर युग से होती हुई मंगल पर खड़ी है। किसने चुरा लिया इस फ़ातेह कौम के दिमाग़ को, जहाँ […]

Read more ›
सच्चाई तो ये है कि ये लोग अल्लाह की तारीफ़ नही कर रहे!

सच्चाई तो ये है कि ये लोग अल्लाह की तारीफ़ नही कर रहे!

30th July 2017 at 10:15 pm 0 comments

Mohammad Arif Dagia ———————– वहाबी धर्म के संस्थापक मो. इब्ने वहाब ने ” कितबुत् तौहीद ” लिखी जिसमे उसकी तमाम बद अक़ीदगियों का मजमुआ है। भारत में मौलवी इस्माइल देहलवी ने इसी किताब को आधार बना कर ” तकवियतुल ईमान ” लिखी है। यह किताब कितना बड़ा फितना बनेगी, इसका […]

Read more ›