धर्म

#आपका_काम_है_दावत_देना है_हुक्म_लागू_करना_नही_है

#आपका_काम_है_दावत_देना है_हुक्म_लागू_करना_नही_है

9th November 2017 at 12:59 am 0 comments

Sikander Kaymkhani —————– पवित्र क़ुरआन में अल्लाह ने पिछले समुदायों का वृत्तान्त बयान किया है और उनकी जीवनी पर विचार विमर्ष करने की दावत दी है, तथा अन्तिम संदेष्टा मुहम्मद सल्ल. को भी आदेश दिया कि वह लोगों को पिछली क़ौमों के क़िस्से सुनायें, क्यों कि क़िस्सों द्वारा संदेश को […]

Read more ›
लोग आमाल देख कर ख़ुद ही इस्लाम के दामन में आ जाएगें!

लोग आमाल देख कर ख़ुद ही इस्लाम के दामन में आ जाएगें!

9th November 2017 at 12:49 am 0 comments

एक टीवी चैनल ने एक डॉक्यूमेंट्री फ़िल्म बनाई जिस में एक शॉपिंग प्लाज़ा में उनके दो अदाकार जिन में एक मर्द और एक औरत और वो दोनों झगड़ा कर रहे हैं । पहले सीन में लड़की यूरोपियन लिबास पहने हुए है और मर्द उस से झगड़ा कर रहा है उसे […]

Read more ›
इस्लाम ने पूरे जीवन और उससे संबद्ध सारे मामलों को पावन एवं पवित्र किया है : प्रो के॰एस॰रामाकृष्णा राव

इस्लाम ने पूरे जीवन और उससे संबद्ध सारे मामलों को पावन एवं पवित्र किया है : प्रो के॰एस॰रामाकृष्णा राव

8th November 2017 at 6:35 am 0 comments

Mohd Rafiq Chauhan =========== पैग़म्बर मुहम्मद (सल्ल॰) की शिक्षाओं का ही यह व्यावहारिक गुण है, जिसने वैज्ञानिक प्रवृत्ति को जन्म दिया। इन्हीं शिक्षाओं ने नित्य के काम-काज और उन कामों को भी जो सांसारिक काम कहलाते हैं आदर और पवित्राता प्रदान की। क़ुरआन कहता है कि इन्सान को ख़ुदा की […]

Read more ›
समाज में अमीरी और ग़रीबी क्यों ?

समाज में अमीरी और ग़रीबी क्यों ?

8th November 2017 at 2:31 am 0 comments

Anwarul Hassan ============== अल्लाह ने रोज़ी का वितरण अपने हाथ में रखा है, कुछ लोगों को अधिक से अधिक दिया तो कुछ लोगों को कम से कम, हर युग में और हर समाज में मालदारा और गरीब दोनों का वजूद रहा है, सवाल यह है कि आखिर अल्लाह ने अमीरी […]

Read more ›
⭐ जानीये – इस्लाम में क्यों हराम है सुअर का मांस खाना!

⭐ जानीये – इस्लाम में क्यों हराम है सुअर का मांस खाना!

7th November 2017 at 4:41 am 0 comments

इस्लाम में सुअर का माँस खाना वर्जित (हराम) होने की बात से सभी परिचित हैं। निम्नलिखित तथ्यों द्वारा इस प्रतिबन्ध की व्याख्या की गई है। 1). सुअर के मांस का निषेध पवित्र कुरआन में । पवित्र क़ुरआन में कम से कम चार स्थानों पर सुअर का मांस खाने की मनाही […]

Read more ›
पवित्र क़ुरआन पार्ट 4_ हिंदी अनुवाद ‘सूरए निसा’

पवित्र क़ुरआन पार्ट 4_ हिंदी अनुवाद ‘सूरए निसा’

7th November 2017 at 4:35 am 0 comments

04 सूरए निसा ============ सूरए निसा मदीना में नाजि़ल हुआ और इसकी एक सौ सत्तर (177) आयते है उस ख़ुदा के नाम से शुरू करता हूँ जो बड़ा मेहरबान रहम वाला है ऐ लोगों अपने पालने वाले से डरो जिसने तुम सबको (सिर्फ) एक शख़्स से पैदा किया और (वह […]

Read more ›
इस्लाम और मानवाधिकार : पार्ट 5

इस्लाम और मानवाधिकार : पार्ट 5

7th November 2017 at 4:25 am 0 comments

अन्तर्राष्ट्रीय मानवाधिकार घोषणापत्र पारित हो जाने के बाद विश्व के विभिन्न महाद्वीपों में इसे लागू कराने के उद्देश्य से आन्दोलन आरंभ हुए। इसके लिए क्षेत्रीय देशों ने मानवाधिकारों के क्षेत्र में कई समझौते किये ताकि अन्तर्राष्ट्रीय घोषणापत्र को अपने क्षेत्रों में किसी सीमा तक लागू किया जा सके। इस अन्तर्राष्ट्रीय […]

Read more ›
ईश्वरीय वाणी पार्ट 6 : सूरए माएदा : : पवित्र क़ुरआन अज्ञानता और अंधकार से मुक्ति दिलाता है!

ईश्वरीय वाणी पार्ट 6 : सूरए माएदा : : पवित्र क़ुरआन अज्ञानता और अंधकार से मुक्ति दिलाता है!

7th November 2017 at 4:22 am 0 comments

कुरआने मजीद के पांचवें सूरे का नाम माएदा है। कुरआने मजीद के पांचवें सूरे का नाम माएदा है। माएदा का अर्थ दस्तरखान होता है और चूंकि इस सूरे में उस घटना का वर्णन है जिसमें हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम ने ईश्वरीय भोजन और दस्तरखान के लिए प्रार्थना की थी इस लिए […]

Read more ›
मस्जिद और इबादत part 2_इस्लाम में मस्जिद की अहमियत और मौजूदा दौर में इसके रोल!

मस्जिद और इबादत part 2_इस्लाम में मस्जिद की अहमियत और मौजूदा दौर में इसके रोल!

7th November 2017 at 4:17 am 0 comments

मस्जिद वह आतिथ्य गृह है जिसका मेज़बान महान व सर्वसमर्थ ईश्वर है और वहां वह अपनी असीम कृपा से अपने मेहमानों का आतिथ्य सत्कार करता है। मेहमान इस पवित्र गृह में निष्ठा के साथ उसकी उपासना करके उसका सामिप्य प्राप्त करते हैं। मस्जिद महान ईश्वर के बंदों व मेहमानों के […]

Read more ›
मुहम्मद “ﷺ”पैगम्बर साहब और राजा भोज की गुफ्तगू हक़ीक़त या सिर्फ झूटी अफ़वाह ?

मुहम्मद “ﷺ”पैगम्बर साहब और राजा भोज की गुफ्तगू हक़ीक़त या सिर्फ झूटी अफ़वाह ?

7th November 2017 at 2:16 am 0 comments

Sikander Kaymkhani ================= हिन्दू धर्म ग्रंथों में मुहम्मद “ﷺ”पैगम्बर साहब का जिक्र, जैसे सामवेद,अथर्व वेद,ऋग्वेद और ख़ास तौर पर भविष्य पुराण आदि में मुहम्मद पैगम्बर साहब की तारीफ बयान की गई है। जिसका हिंदुओं द्वरा स्वागत किया गया। भविष्य पुराण जिसमे पैगम्बर साहब का जिक्र उनके नाम के साथ किया […]

Read more ›