#DestructionByDemonetisation : “ठग्स आॅफ़ हिंदुस्तान”….अब आओ मोदी चौराहे पे

Posted by

Satyendra PS
===============
नोटबन्दी आज ही के दिन 2 साल पहले की गई थी। इससे काला धन वापस आ गया। आतंकवाद, नक्सलवाद खत्म हो गया। नकली नोट बन्द हो गया। देश की प्रगति हो गई। 2000 के नोट में लगी चिप का लाभ अलग मिल रहा है।
है न?
और अगर ऐसा नहीं हुआ है तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जिंदा क्यों है? उसने तो कहा था कि 50 दिन बाद चौराहे पर उसे जिंदा जला देना है? 2 साल हुए, इस नोटबन्दी से फायदा क्या हुआ?


Abdul H Khan
===============
ये “ठग्स आॅफ़ हिंदुस्तान”आख़िर 8 नवंबर बृहस्पति वार को ही क्यों ? …………जबकि नयी फिल्मे फ्राइडे को ही रिलीज़ होती है, यह अमीर और अमिताभ भी फिरक़ी लेने से बाज़ नहीं आये😅

Ravish Kumar

@RavishVoice
===============
श्रद्धांजलि देश के उन 150 लोगों के लिए जो एक मूर्ख पूर्ण फैसला “नोटबन्दी” के शिकार हुये थे !!

– नोटबन्दी काला दिन
– धोखा दिवस
– आम आदमी कि तबाही का दिन
– गरीब बेबस लोगो के आंसुओं के सैलाब का दिन
– एक दिन में करोङो बद्दुआएं निकलने का दिन
#DestructionByDemonetisation

Rajesh SP

@MLArajeshSP
===============
अंग्रेजों की दी हुई बंदूकें, गाडियां, जीन्स शर्ट, मोबाइल, जहाज इन सभी का इस्तेमाल से हम अपनी संस्कृति से दूर कर दिया इसलिए बाबाजी चाहतें-
बंदूक की जगह तीर धनुष
गाडी की जगह घोड़ागाड़ी
जींस की जगह धोती
मोबाइल की जगह संयज आखोदेखी यंत्र
जहाज की जगह उड़नखटोला

का दोबारा इस्तेमाल हो?

Akhilesh P. Singh

@AkhileshPratap_
===============
संघी लोग जब जान देने की बात करें,समझ लेना कहीं कुछ गड़बड़ है।क्योंकि जब भी जान देने का मौका आया ये माफी मांग कर चलते बने।नोटबंदी पर जिस दिन मोदी ने कहा कि मेरी कमी निकल जाए तो चौराहे पर बुलाकर फांसी दे देना, हम तभी समझ गये थे कि संघी झोल कर रहा है।

अब आओ मोदी जी चौराहे पे?

सोनाली मिश्र
===============
ओपिनियन पोल पहले कॉंग्रेस को जिताते हैं, फिर दूसरे में कांटे की टक्‍कर दिखाते हैं, उसके बाद भाजपा को जिताते हैं। मतलब सबको अपने हिसाब से सोचने के लिए पर्याप्‍त मौके देते हैं। पहले कॉग्रेस को शून्‍य तीन से जिताने वाले आज कॉंग्रेस को केवल एक राज्‍य दे रही है।
अब ईवीएम को कोसना है या लोकतंत्र को जिताना है, यह तो पता ही चलेगा बाद में।