”…हिन्द के तारे…मलिका-ए-तरन्नुम ”नूरजहां”..आवाज़ दे कहां है दुनिया मेरी जवां है…”

भारतीय सिने जगत की मलिका..ए..तरन्नुम के नाम से मशहूर पार्श्वगायिका अल्लाह वासी उर्फ नूरजहां ने अपनी आवाज में जिन गीतों को गाया वाे आज भी अपना जादू बिखरते हैं।

21 सितंबर 1926 को पंजाब के एक छोटे से कस्बे कसुर में एक मध्यमवर्गीय परिवार में जब नूरजहां का जन्म हुआ तो नवजात शिशु के रोने की आवाज को सुन बुआ ने कहा ..इस बच्ची के रोने में भी संगीत की लय है।
.. नूरजहां के माता..पिता थियेटर में काम किया करते थे।
घर में फिल्मी माहौल के कारण नूरजहां का रुझान बचपन से ही संगीत की ओर हो गया था।
नूरजहां ने यह निश्चय किया कि बतौर पार्श्वगायिका अपनी पहचान बनायेंगी।
उनकी माता ने नूरजहां के मन में संगीत के प्रति बढते रुझान को पहचान लिया।Pakistani-Remix-Songsa2dfee8f-5b08-440e-b0d8-2cee485f3b6b noor-jehan-55fea3bc27203_exlst
उन्हें इस राह पर आगे बढने के लिये प्रेरित किया और उनके लिये संगीत सीखने की व्यवस्था घर पर हीं करा दी।
नूरजहां ने संगीत की प्रारंभिक शिक्षा कजानबाई से और शास्त्रीय संगीत की शिक्षा उस्ताद गुलाम मोहम्मद तथा उस्ताद बडे गुलाम अली खान से ली थी।
वर्ष 1930 में नूरजहां को इंडियन पिक्चर के बैनर तले बनी एक मूक फिल्म ..हिन्द के तारे ..में काम करने का मौका मिला।
इसके कुछ समय के बाद उनका परिवार पंजाब से कोलकाता चला आया।
इस दौरान उन्हें करीब 11 मूक फिल्मों मे अभिनय करने का मौका मिला।
वर्ष 1931 तक नूरजहां ने बतौर बाल कलाकार अपनी पहचान बना ली थी।
वर्ष 1932 में प्रदर्शित फिल्म ..शशि पुन्नु .. नूरजहां के सिने कैरियर की पहली बोलती फिल्म थी, इस दौरान नूरजहां ने कोहिनूर यूनाइटेड आर्टिस्ट के बैनर तले बनी कुछ फिल्मों में काम किया।
कोलकाता मे उनकी मुलाकात फिल्म निर्माता पंचोली से हुयी।
पंचोली को नूरजहां मे फिल्म इंडस्ट्री का एक उभरता हुआ सितारा दिखाई दिया और उन्होंने उसे अपनी नयी फिल्म ..गुल ए बकावली ..लिये चुन लिया।
इस फिल्म के लिये नूरजहां ने अपना पहला गाना ..साला जवानियां माने और पिंजरे दे विच.. रिकार्ड कराया।
लगभग तीन वर्ष तक कोलकाता रहने के बाद नूरजहां वापस लाहौर चली गयी।
वहां उनकी मुलाकात मशहूर संगीतकार जी. ए.चिश्ती . से हुयी जो स्टेज प्रोग्राम में संगीत दिया करते थे ।
उन्होंने नूरजहां से स्टेज पर गाने की पेशकश की जिसके एवज में नूरजहां को प्रति गाना साढे सात आने दिये गये।
साढे सात आने उन दिनों अच्छी खासी राशि मानी जाती थी।
वर्ष 1939 मे निर्मित पंचोली की संगीतमय फिल्म ..गुल ए बकावली.. की सफलता के बाद नूरजहां फिल्म इंडस्ट्री की चर्चित शख्सियत बन गयी।
इसके बाद वर्ष 1942 में पंचोली की हीं निर्मित फिल्म ..खानदान.. की सफलता के बाद नूरजहां बतौर अभिनेत्री फिल्म इंडस्ट्री में स्थापित हो गयी।
फिल्म ..खानदान.. में उन पर फिल्माया गाना ..कौन सी बदली में मेरा चांद है आजा.. श्रोताओं के बीच काफी लोकप्रिय भी हुआ।
फिल्म ..खानदान .. की सफलता के बाद नूरजहां ने फिल्म के निर्देशक शौकत हुसैन से निकाह कर लिया इसके बाद वह मुंबई आ गयी।
इस बीच नूरजहां ने शौकत हुसैन की निर्देशित नौकर. जुगनू 1943 जैसी फिल्मों मे अभिनय किया।
नूरजहां अपनी आवाज मे नित्य नये प्रयोग किया करती थी।
अपनी इन खूबियों की वजह से वह ठुमरी गायिकी की महारानी कहलाने लगी ।
इस दौरान नूरजहां की दुहाई 1943. दोस्त 1944 और बडी मां.विलेज गर्ल. 1945 जैसी कामयाब फिल्में प्रदर्शित हुयी।
इन फिल्मों में उनकी आवाज का जादू श्रोताओं के सिर चढकर बोला।
इस तरह नूरजहां मुंबइयां फिल्म इंडस्ट्री में मलिका.ए.तरन्नुम कही जाने लगीं।
वर्ष 1945 में नूरजहां की एक और फिल्म ..जीनत .. भी प्रदर्शित हुयी।
इस फिल्म का एक कव्वाली ..आहे ना भरी शिकवें ना किये..कुछ भी ना जुबां से काम लिया.. श्रोताओं के बीच बहुत लोकप्रिय हुई।
नूरजहां को वर्ष 1946 में प्रदर्शित निर्माता निर्देशक महबूब खान की अनमोल घडी मे काम करने का मौका मिला।
महान संगीतकार नौशाद के निर्देशन में नूरजहां का गाये गीत ..आवाज दे कहां है. आजा मेरी बर्बाद मोहब्बत के सहारे. जवां है मोहब्बत. श्रोताओं के बीच आज भी लोकप्रिय हैं।
वर्ष 1947 में भारत विभाजन के बाद नूरजहां ने पाकिस्तान जाने का निश्चय कर लिया।
फिल्म अभिनेता दिलीप कुमार ने जब नूरजहां से भारत में ही रहने की पेशकश की तो नूरजहां ने कहा ..मैं जहां पैदा हुई हूँ, वहीं जाऊंगी।
पाकिस्तान जाने के बाद भी नूरजहां ने फिल्मों में काम करना जारी रखा।
लगभग तीन वर्ष तक पाकिस्तान फिल्म इंडस्ट्री मे खुद को स्थापित करने के बाद नूरजहां ने फिल्म ..चैनवे .. का निर्माण और निर्देशन किया।
उसने बॉक्स आफिस पर खासी कमाई की।
इसके बाद वर्ष 1952 में प्रदर्शित फिल्म ..दुपट्टा .. ने फिल्म ..चैनवे .. के बाॅक्स आॅफिस रिकार्ड को भी तोड़ दिया।
फिल्म दुप्पटा मे नूरजहां की आवाज मे सजे गीत श्रोताओं के बीच इस कदर लोकप्रिय हुए कि न सिर्फ इसने पाकिस्तान में बल्कि पूरे भारत वर्ष में भी इसने धूम मचा दी।
आल इंडिया रेडियो से लेकर रेडियो सिलोन पर नूरजहां की आवाज का जादू श्रोताओं पर छाया रहा।
वर्ष 1963 में नूरजहां ने अभिनय की दुनिया से विदाई ले ली।
वर्ष 1966 में नूरजहां पाकिस्तान सरकार द्वारा तमगा..ए..इम्तियाज सम्मान से नवाजी गयी !वर्ष 1982 में इंडिया टाकी के गोल्डेन जुबली समारोह मे नूरजहां को भारत आने को न्योता मिला तब श्रोताओं की मांग पर नूरजहां ने ..आवाज दे कहां है दुनिया मेरी जवां है।
.. गीत पेश किया और उसके दर्द को हर दिल ने महसूस किया।
वर्ष 1996 में नूरजहां आवाज की दुनिया से भी जुदा हो गयी।
वर्ष 1996 में प्रदर्शित एक पंजाबी फिल्म .. सखी बादशाह .. में नूरजहां ने अपना अंतिम गाना ..कि दम दा भरोसा गाया।
नूरजहां ने अपने संपूर्ण फिल्मी कैरियर में लगभग एक हजार गाने गाये1हिन्दी फिल्मों के अलावा नूरजहां ने पंजाबी. उर्दू और सिंधी फिल्मों में भी अपनी आवाज से श्रोताओं को मदहोश किया।
अपनी दिलकश आवाज और अदाओं से सबो को महदोश करने वाली नूरजहां 23 दिसंबर 2000 को इस दुनिया से रूखसत हो गयी।

Share

Leave a Reply

%d bloggers like this: