#FIFA#WorldCup 2018 : उरुग्वे ने पुर्तगाल को 2-1 से हराया, रोनाल्डो का सपना टूटा

Posted by

विश्व के महान खिलाडी, दो कप्तान, दो दिग्गज, एक ही दिन में हार का सामना कर दर्शकों, खेल प्रेमियों को रुला गए, एडिनसन कवानी के दो बेहतरीन गोलों की मदद से उरुग्वे ने पुर्तगाल को 2-1 से हराकर फीफा विश्व कप के क्वार्टर फाइनल में प्रवेश कर लिया, जहां उसकी फ्रांस से 6 जुलाई को टक्कर होगी जिसने अन्य मुकाबले में अर्जेंटीना को 4-3 से पराजित किया था। कवानी ने सातवें और 62वें मिनट में गोल किए जबकि पुर्तगाल का एकमात्र गोल पेपे ने 55वें मिनट में किया था।

पुर्तगाल के स्टार रोनाल्डो इस मैच में अपना करिश्मा नहीं दिखा सके। उनके पास पहले हाफ में डायरेक्ट फ्री किक से गोल करने का मौका आया, लेकिन वह ऐसा कमाल नहीं दिखा सके जैसा स्पेन के खिलाफ हैट्रिक के समय उन्होंने किया था। रोनाल्डो ने इस मैच में दूसरा पीला कार्ड भी देखा। अंतिम क्षणों में तो पुर्तगाल का गोलकीपर भी अतिरिक्त खिलाड़ी के रूप में मैदान में आ गया था लेकिन पुर्तगाल बराबरी हासिल नहीं कर सका और उसकी विश्व कप से विदाई हो गई।

कवानी के गोल की मदद से उरुग्वे ने शुरुआत में ही बढ़त बना ली थी। सुआरेज ने बाएं छोर से बेहतरीन क्रास फेंका था और कवानी ने हेडर मारकर मौका भुना लिया था। हालांकि पहले हाफ में पुर्तगाल ने अच्छी शुरुआत की थी और छोटे-छोटे पासों से खेल रही थी मगर एक गोल से पिछड़ने के बाद पुर्तगाल के ऊपर दबाव आ गया था। गेंद पर ज्यादातर समय कब्जा रखने के बावजूद उसको स्कोरिंग के ज्यादा मौके नहीं मिले थे। कवानी के उरुग्वे की ओर से 45 गोल हो गए हैं। इस विश्व कप में उनके तीन और कुल पांच गोल हो गए हैं। मध्यांतर के समय उरुग्वे 1-0 से आगे थी।

दूसरे हाफ में पेपे ने हेडर से पुर्तगाल को बराबरी दिला दी। इस विश्व कप में यह उरुग्वे पर यह पहला गोल रहा। कवानी ने 62वें मिनट में अपना दूसरा गोल कर फिर उरुग्वे को बढ़त दिला दी। पुर्तगाल को 70वें मिनट में फिर बराबरी का मौका मिला लेकिन बर्नाडो सिल्वा खाली पड़े गोल में निशाना चूक गए।

उरुग्वे के आगे आ गए गोलची के हाथ से गेंद छिटक गई लेकिन सिल्वा का निशाना गोलपोस्ट के ऊपर से निकल गया। इतिहास में केवल एक बार पुर्तगाल की टीम विश्व कप के नॉकआउट मैच में पिछड़ने के बाद वापसी की थी। 1966 में उसने कोरिया के खिलाफ 0-3 से पिछड़ने के बाद 5-3 से जीत हासिल की थी।

मैच हारकर भी दिल जीता रोनाल्डो

बेशक मैच में पुर्तगाल के क्रिस्टियानो रोनाल्डो टीम को नहीं जिता पाए लेकिन उन्होंने खेल भावना की बेहतरीन मिसाल कर दर्शकों का दिल जरूर जीत लिया। मैच के 72वें मिनट में उरुग्वे की ओर से दो गोल करने वाले कवानी की मांसपेशियों में खिंचाव आ गया और उनका पांव रखना भी मुश्किल हो रहा था। ऐसे में रोनाल्डो ने उनका हाथ अपने कंधे पर रखते हुए सहारा देकर मैदान से बाहर निकलने में मदद की।

मजेदार फैक्टः यहा रोनाल्डो का वर्ल्ड कप/यूरोपियन चैंपियनशिप्स में 38वां मैच है। किसी और खिलाड़ी ने इन दो प्रतिस्पर्धाओं में कुल मिलाकर इससे अधिक मैच नहीं खेले हैं। सिर्फ जर्मनी के बास्टियन श्वांस्टाइगर ने 38 मैच खेले हैं।

मजेदार फैक्टः रोनाल्डो ने वर्ल्ड कप के नॉकआउट चरण में अब तक 424 मिनट खेला है, लेकिन उन्होंने इस दौरान एक भी गोल या असिस्ट नहीं किया है। यह पुर्तगाल के लिए चिंता का सबब बन सकता है।

दोनों टीमें इस प्रकार हैं:

पुर्तगाल – रुई पैटिशियो, रिकार्डो परेरा, पेपे, फोंटे, गरेरो, बर्नाडो सिल्वा, विलियम कारवाल्हो, एड्रियन सिल्वा, जोआओ मारियो, गोंसालो गुएडेस, रोनाल्डो।

उरुग्वे – मुसलेरा, सेसरेस, गिमिनेज, गॉडिन, लैक्साल्ट, नांडेज, टोरिरा, वेसिनो, बेंटनकर, लुईस सुआरेज और एडिसन कवानी।

====