नेतनयाहू की नीति ने स्वतंत्र फ़िलिस्तीनी देश के गठन को असंभव बना दिया है : ओबामा

अमरीका के राष्ट्रपति ने अतिग्रहित फ़िलिस्तीनी क्षेत्रों में काॅलोनी निर्माण के कारण ज़ायोनी शासन की आलोचना की है।

बराक ओबामा ने कहा है कि अतिग्रहित फ़िलिस्तीनी क्षेत्रों में काॅलोनी निर्माण के विस्तार की इस्राईली प्रधानमंत्री बेनयामिन नेतनयाहू की नीति ने स्वतंत्र फ़िलिस्तीनी देश के गठन को असंभव बना दिया है। उन्होंने कहा कि नेतनयाहू दो देशों के समाधान को मानते हैं लेकिन उनके क़दमों से पता चलता है कि जब भी उन पर अधिक काॅलोनियों के निर्माण को स्वीकृति देने के लिए दबाव पड़ता है तो वे एेसा ही करते हैं। ओबामा ने, जिनका राष्ट्रपति काल 20 जनवरी को समाप्त हो रहा है, कहा है कि हालिया बरसों में उन्होंने भी और विदेश मंत्री जाॅन केरी ने भी कई बार नेतनयाहू से कहा है कि वे अतिग्रहित फ़िलिस्तीनी क्षेत्रों में काॅलोनी निर्माण की गतिविधियां बंद करें लेकिन उनकी मांगों की अनदेखी कर दी गई।

ज़ायोनी शासन को आशा है कि अमरीका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प के सत्ता संभालने4bk6c8fdbcf59b8t97_800C450 के बाद, तेल अवीव के संबंध में वाॅशिंग्टन के रवैये में बेहतरी आएगी। इस समय लगभग 6 लाख ज़ायोनी, इस्राईल द्वारा अतिग्रहित फ़िलिस्तीनी क्षेत्रों अर्थात पश्चिमी तट और पूर्वी बैतुल मुक़द्दस में बनाई गई काॅलोनियों में रह रहे हैं।

Share

Leave a Reply

%d bloggers like this: