दिखाये कौन मुझे रास्ता तुम्हारे बाद,,,कोई नहीं है मेंरा रहनुमा तुम्हारे बाद

Siya Sachdev
************************
ख़बर किसी की न अपना पता तुम्हारे बाद।
ये ज़िन्दगी भी है इक सानेहा तुम्हारे बाद।
दिखाये कौन मुझे रास्ता तुम्हारे बाद।
कोई नहीं है मेंरा रहनुमा तुम्हारे बाद।11887985_998334590189629_5066200391991871958_n
क़रीब कैसे रहे कोई दूर जाकर भी
समझ में आया है ये फ़लसफ़ा तुम्हारे बाद।
नहीं हो तुम तो मैं किसके लिए करुँगी सिंगार
पलट के देखा नहीं आईना तुम्हारे बाद।
हमारे घर में तो पसरा हुआ है सन्नाटा
उदासियों का चला सिलसिला तुम्हारे बाद।
कमी तुम्हारी कभी पूरी हो नहीं सकती
नहीं भरेगा कभी ये ख़ला तुम्हारे बाद।
हमारे हाथ ही उठते नहीं ख़ुदा की क़सम
मैं माँगती ही नहीं हूँ दुआ तुम्हारे बाद।
बताओ किससे करूँ मश्विरा है कौन मुशीर
कि ख़ुद ही लेना है हर फ़ैसला तुम्हारे बाद।
हर एक मिसरे से आँसू टपकता रहता है
मिरी ग़ज़ल भी हुई मर्सिया तुम्हारे बाद।

*****************

Khabar kisi ki na apna pata tumhare baad.
Ye zindagi bhi hai ik saaneha tumhaare baad.
Dikhaye kaun mujhe raasta tumhare baad.
Koi nahi hai mera rahnuma tumhaare baad.
Qareeb kaise rahe koyi door ja kar bhi
samajh mein aaya hai ye falsafa tumhare baad
Nahin ho tum to main kiske liye karoongi singaar
Palat ke dekha nahi aaina tumahare baad
Hamare ghar mein to pasra hua hai san,nata
Udaasiyon ka chalaa silsila tumahare baad
kami tuahari kabhi puri ho nahi sakti
Nahi bharega kabhi ye khala tumahare baad
hamare haath hi uth,te nahi khuda ki kasam
main mangti hi nahi hoon dua tumhare baad
batao kisse karun mashvara hain kaun musheer
ki khud hi lena hai har faisla tumahare baad
Har ek misre se aansu tapakta rahta hai
Mri ghazal bhi huyi marsiya tumhare baad.
“Siya Sachdev”

Share

Leave a Reply

%d bloggers like this: