दुनिया

अमेरिका वर्षों से फिलिस्तीनी देश के गठन के मार्ग में बाधा बना हुआ है : रूस

रूसी विदेशमंत्री ने कहा है कि अमेरिका वर्षों से फिलिस्तीनी देश के गठन के लिए किये जाने वाले प्रयासों के मार्ग का बाधा बना हुआ है।

मॉस्को में सरगेई लावरोफ ने अपने भारतीय समकक्ष से संयुक्त प्रेस कांफ्रेस में कहा कि हम पश्चिम विशेषकर अमेरिका की ताकत से अवगत हैं और वह किस तरह अपनी सफलता का एलान करते हैं, हम जानते हैं कि अमेरिका और पश्चिम किस तरह वियतनाम, इराक और अफगानिस्तान में विजयी हुए।

इसी प्रकार उन्होंने बल देकर कहा कि उन देशों में से किसी भी देश में प्रगति नहीं हुई है जिनका प्रयोग अमेरिका अपने हितों के लिए करता है। समाचार एजेन्सी आनातोली ने रूसी विदेशमंत्री के हवाले से रिपोर्ट दी है कि सरगेई लावरोफ ने कहा है कि जो चीज़ मध्यपूर्व और गज्जा पट्टी में घटी है उसे देखिये क्योंकि वाशिंग्टन वर्षों से एक फिलिस्तीनी देश के गठन के लिए किये जाने वाले प्रयास के मार्ग में बाधा बना है।

ज्ञात रहे कि सुरक्षा परिषद ने एक प्रस्ताव पारित कर रखा है जिसके अनुसार एक स्वतंत्र फिलिस्तानी देश का गठन होना चाहिये।

इसी बीच भारत के विदेशमंत्री एस जयशंकर ने अपनी 5 दिवसीय रूस यात्रा के दौरान रूसी समकक्ष सर्गेई लावरोव से मुलाकात कर द्विपक्षीय वार्ता भी की है। जयशंकर ने बुधवार को कहा कि भारत और रूस के बीच संबंध बेहद मजबूत, बेहद स्थिर हैं और मुझे लगता है कि हम एक विशेष और विशेषाधिकार प्राप्त रणनीतिक साझेदारी पर खरे उतरे हैं। इस साल हम पहले ही छह बार मिल चुके हैं और यह सातवीं बैठक है।

उन्होंने कहा कि हम निरंतर प्रगति देखकर बहुत खुश हैं और हमें जनवरी में वाइब्रेंट गुजरात सम्मेलन में रूस की ओर से मजबूत भागीदारी की उम्मीद है।

रूसी विदेशमंत्री सरगेई लावरोफ ने भी कहा कि भारत और रूस के बीच संबंध बहुत लंबे समय से चले आ रहे हैं और बहुत अच्छे हैं, साथ ही यह देखना सुखद है कि वे वर्तमान समय में लगातार आगे बढ़ रहे हैं।